BREAKING NEWS

तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का एक साल पूरा होने पर दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान हुए एकत्र◾अचानक से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तबीयत बिगड़ी, दिल्ली के AIIMS में भर्ती◾संविधान के लिए समर्पित सरकार, विकास में भेद नहीं करती और ये हमने करके दिखाया: PM मोदी ◾संसद सत्र के पहले दिन कांग्रेस ने बुलाई विपक्षी नेताओं की बैठक, सरकार को घेरने की होगी तैयारी ◾ प्रयागराज हत्याकांडः कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात ◾केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय का बड़ा इलान, देश में 15 दिसंबर से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से होगीं शुरू◾छह दिसंबर को भारत आयेंगे रूसी राष्ट्रपति पुतिन, पीएम मोदी के साथ करेंगे शिखर बैठक◾दिल्ली सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, CM तीर्थयात्रा योजना में करतारपुर साहिब को किया शामिल ◾मध्य प्रदेश: मुरैना के नजदीक उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन में लगी भयानक आग, चार कोच धू-धू कर जले◾दक्षिण अफ्रीका से निकले कोरोना के नए वैरियंट से दहशत में आयी दुनिया, कड़ी पाबंदियां लगनी शुरू ◾अखिलेश ने योगी की चुटकी ली, कहा-बाबा को लैपटॉप चलाना नहीं आता इसलिए टैबलेट दे रहे हैं ◾26/11 आतंकी हमले की बरसी पर बोले राहुल - शहीदों के बलिदान को जानो, साहस को पहचानो◾महाराष्ट्र में मार्च तक बनेगी BJP की सरकार! केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के दावे से मचा बवाल ◾संविधान दिवस: कांग्रेस का मोदी सरकार पर प्रहार, कहा- आयोजन में नहीं किया शामिल, दर्शक बनना स्वीकार नहीं ◾पूर्व ACP का दावा - परमबीर सिंह के पास था आतंकी कसाब का फोन, पेश करने के बजाय किया नष्ट◾संविधान दिवस पर विपक्ष ने किया सेंट्रल हॉल कार्यक्रम का बहिष्कार, जानिए राजनितिक दलों ने क्या बताई वजह ◾जबरन वसूली मामला : जांच के सिलसिले में ठाणे पुलिस के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह ◾PM मोदी ने परिवारवाद पर कसा तंज, कहा- लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी पार्टियां नहीं कर सकती लोकतंत्र की रक्षा ◾बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र और राज्य सरकारों पर साधा निशाना, कहा कोई नहीं कर रहा है संविधान का पालन ◾किसान आंदोलन की वर्षगांठ पर हमलावर हुई प्रियंका, कहा- BJP के अहंकार के लिए जाना जाएगा ये सत्याग्रह ◾

असम और मिजोरम पुलिस के बीच खूनी संघर्ष के बाद सीमा पर तनाव, अलर्ट पर सुरक्षा बल

असम और मिजोरम के बीच सीमा विवाद के अचानक खूनी संघर्ष में तब्दील हो जाने के बाद  दोनों पूर्वोत्तर राज्यों की अंतर-राज्यीय सीमाएं शांत हैं, लेकिन किसी भी ताजा घटना को रोकने के लिए सुरक्षा कर्मियों को अतिरिक्त अलर्ट पर रखा गया है। बुलेट प्रूफ जैकेट पहने कछार जिले की एसपी रमनदीप कौर और उपायुक्त कीर्ति जल्ली सुरक्षा बलों की एक बड़ी टुकड़ी के साथ बुलेट प्रूफ वाहनों में अशांत सीमावर्ती इलाकों में चले गए।

सीमा संबंधी परेशानियों के कारण, मिजोरम सरकार के अनुरोध पर प्रतिक्रिया देते हुए, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ने ममित जिले में वैकल्पिक सड़कों के माध्यम से सड़क मार्ग से मिजोरम को परिवहन ईंधन की आपूर्ति शुरू कर दी है, जिससे कछार-कोलासिब मार्गों की परेशानी से बचा जा सके। मिजोरम सरकार ने पड़ोसी राज्य त्रिपुरा और मणिपुर से कई अन्य आवश्यक सामान लाने के लिए भी कदम उठाए हैं।

मिजोरम मणिपुर के साथ 95 किमी और त्रिपुरा के साथ 109 किमी की अंतर-राज्यीय सीमा साझा करता है।इस बीच, राजनीतिक लाइनों से परे, असम विधानसभा के अध्यक्ष बिस्वजीत दैमारी के नेतृत्व में 10 सदस्यीय सर्वदलीय विधायक दल ने सीमावर्ती क्षेत्रों का दौरा किया और मिजोरम से गोलीबारी का कड़ा विरोध किया, जिसमें असम के छह पुलिसकर्मी मारे गए और कई घायल हो गए।

दैमारी ने कहा, "जिस तरह मिजोरम में सभी पार्टियां मिजोरम की सीमाओं की रक्षा के लिए एकजुट हैं, हमारे राज्य (असम) में भी सभी दलों को एकजुट होना चाहिए। यदि वर्तमान नीति और कानून राज्य के आरक्षित वन क्षेत्र में बस्तियों की अनुमति नहीं देते हैं। सीमा सुरक्षा के हित में नई नीतियां बनाने या कानून बनाने की जरूरत है।"

रायजोर दल के अध्यक्ष अखिल गोगोई, जो असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा के कट्टर प्रतिद्वंद्वी भी हैं, उन्होंने कहा, "विधानसभा में हमारी असहमति हो सकती है और राजनीतिक मुद्दों पर मतभेद हो सकते हैं, लेकिन मैं मिजोरम के इस कदम का कड़ा विरोध करता हूं। असम के मुख्यमंत्री के खिलाफ मिजोरम पुलिस द्वारा दर्ज प्राथमिकी वापस लिया जाना चाहिए।"

आइजोल में, मिजोरम केमिस्ट्स एंड ड्रगिस्ट्स एसोसिएशन (एमसीडीए) ने राज्य के मुख्य सचिव को लिखे पत्र में कहा, "असम सरकार ने सुरक्षा चिंता की आड़ में गुवाहाटी में सभी ट्रांसपोर्टरों को मौखिक रूप से निर्देश दिया है कि वे मिजोरम के लिए कोई भी सामान, यहां तक कि दवा भी न ले जाएं।"

एमसीडीए अध्यक्ष और महासचिव ने मुख्य सचिव को बताया, "यहां तक कि निजी कूरियर सेवाओं को मिजोरम के लिए वस्तुओं और सामग्रियों की बुकिंग से रोक दिया गया है। इस कोविड महामारी की स्थिति में, असम द्वारा जीवन रक्षक दवाओं को रोका जा रहा है, जिससे हमारे राज्य में दूरगामी प्रभाव और परिणाम हो सकते हैं।" असम-मिजोरम सीमा पर 26 जुलाई को हुई हिंसक झड़पों में असम पुलिस के छह जवानों की मौत हो गई थी और करीब 100 नागरिक और सुरक्षाकर्मी घायल हो गए थे ।

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने कानून व्यवस्था को आगे ले जाने का काम किया : अमित शाह