BREAKING NEWS

केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾नागरिकता कानून का विरोध : दिल्ली में आगजनी, हिंसा : पुलिसकर्मी जख्मी, बसों में आग लगाई◾केजरीवाल ने नागरिकता अधिनियम पर शांति की अपील की ◾TOP 20 NEWS 15 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾नागरिकता कानून वापस लेने के लिए याचिका दायर करेगी BJP की सहयोगी असम गण परिषद◾वीर सावरकर पर बयान देकर मुश्किल में फंसे राहुल, पोते रंजीत ने की कार्रवाई की मांग◾सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हैं इंटरनेशनल शूटर वर्तिका, अमित शाह को खून से लिखा खत ◾पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन, कई स्थानों पर सड़कें अवरुद्ध◾नागरिकता संशोधन बिल में बदलाव को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने दिए संकेत◾अनशन पर बैठीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल हुईं बेहोश, LNJP अस्पताल में भर्ती◾CAB के खिलाफ प्रदर्शनों के बाद आज गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू में ढील◾झारखंड विधानसभा चुनाव: देवघर में प्रत्याशियों की आस्था दांव पर◾

अन्य राज्य

टिहरी हादसे के दोषियों काे बक्शा नहीं जाएगा

 tihri case

नई टिहरी : उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने टिहरी जिले के कंगसाली गांव पहुंचकर मैक्स दुर्घटना में एंजल इन्टरनेशनल स्कूल के मृतक बच्चों को श्रद्धांजलि देते हुए मृतक आत्माओं की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रख कर गहरा दुख व्यक्त किया, इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने वाहन दुर्घटना के मृतक एवं घायल बच्चों के परिजनों को सांत्वना देते हुए कहा कि वाहन दुर्घटना दुर्भाग्यपूर्ण है जिसका सभी को बहुत दुख है।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि वाहन दुर्घटना की सूचना मिलते ही सरकार द्वारा अधिकारियों को घायलों के त्वरित उपचार की व्यवस्था के निर्देश दिये गये, घायल बच्चे शीघ्र अस्पताल पहुंच सके इस हेतु हैलीकॉप्टर की व्यवस्था की गयी, मृतक एवं घायलों के परिजनों की क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की मांग पर मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर किये जाने के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है, उन्होने बताया कि प्रदेश में बॉन्ड पर तैयार किये गये डॉक्टर जो बॉन्ड तोड़कर चले गये उन्हे वापस लाने के लिए प्रदेश सरकार ने हाईकोर्ट में मुकदमा लड़ा है तथा एक सप्ताह पूर्व ही सरकार को जीत हासिल हुई है जिसकी बदौलत प्रदेश को शीघ्र ही 600 डॉक्टर मिलने की सम्भावना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतापनगर क्षेत्र के लिए राज्य सरकार द्वारा एक और एम्बुलेंस बोट की व्यवस्था की जायेगी। उल्लेखनीय है कि वाहन दुर्घटना के मृतकों को जिला प्रशासन द्वारा प्रति मृतक रूपये एक लाख की धनराशि तथा वाहन दुर्घटना के घायलों को प्रति घायल रूपये दस हजार की धनराशि पूर्व में ही वितरित की जा चुकी है। मुख्यमंत्री श्री रावत द्वारा उक्त के अतिरिक्त एक लाख रूपये प्रति मृतक एवं रूपये पचास हजार प्रति घायल वितरित किये जाने हेतु चैक के रूप में जिलाधिकारी को उपलब्ध कराये गये हैं। 

इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक विजय सिंह पंवार, जिलाधिकारी डॉ.वी. षणमुगम, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेन्द्र सिंह रावत, मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई, मुख्य चिकित्साधिकारी भागीरथी जंगपांगी, उपजिलाधिकारी प्रतापनगर अजयबीर सिंह आदि उपस्थित थे। 


डोबरा-चांठी पुल जल्द ही जनता को समर्पित कर दिया जायेगा : उन्होने कहा कि टिहरी बांध से सर्वाधिक प्रभावित प्रतापनगर की जनता हुई है इसे ध्यान में रखते हुए निर्माणाधीन डोबरा-चांठी पुल हेतु सरकार द्वारा एक मुस्त 88 करोड़ दिये गये, उन्होने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा है कि आगामी फरवरी माह तक डोबरा-चांठी पुल जनता को समर्पित कर दिया जायेगा। 

मुख्यमंत्री रावत ने दुर्घटना के मृतक एवं घायल बच्चों के परिजनों को आश्वस्त किया कि दुर्घटना की जांच चल रही है, इसमें जो भी दोषी पाया जायेगा उनके विरूद्ध नियमानुसार कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

 मृतकों एवं घायलों के परिजनों की मांग पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि सरकार द्वारा भारत सरकार से प्रदेश के प्रत्येक विकासखण्ड में एक केन्द्रीय विद्यालय खोलने की मांग की गयी है।