BREAKING NEWS

AIIMS अस्पताल में लगी भीषण आग, मोके पर दमकल की कई गाड़ियां भेजी◾पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद◾प्रियंका गांधी बोलीं- देश में 'भयंकर मंदी' लेकिन सरकार के लोग खामोश◾ मायावती का ट्वीट- देश में आर्थिक मंदी का खतरा, इसे गंभीरता से लें केंद्र◾AAP के पूर्व विधायक कपिल मिश्रा भाजपा में शामिल◾चिदंबरम बोले- मीर को नजरबंद करना गैरकानूनी, नागरिकों की स्वतंत्रता सुनिश्चित करें अदालतें◾राजनाथ के आवास पर ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक शुरू, शाह समेत कई मंत्री मौजूद◾भूटान पहुंचे मोदी का PM लोटे ने एयरपोर्ट पर किया स्वागत, दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर◾शरद पवार बोले- पता नहीं राणे का कांग्रेस में शामिल होने का फैसला गलत था या बड़ी भूल◾उत्तर कोरिया ने किया नए हथियार का परीक्षण, किम ने जताया संतोष◾12 दिन बाद आज से घाटी में फोन और जम्मू समेत कई इलाकों में 2G इंटरनेट सेवा बहाल◾राम माधव बोले- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को मिलेगा देश के कानूनों के अनुसार लाभ◾वित्त मंत्रालय के अधिकारियों संग PMO की बैठक आज, इन मुद्दों पर होगी चर्चा◾कोविंद, शाह और योगी जेटली को देखने AIIMS पहुंचे, जेटली की हालत नाजुक : सूत्र ◾आर्टिकल 370 : UNSC में Pak को बड़ा झटका, कश्मीर मामले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में पाकिस्तान को सिर्फ चीन का मिला समर्थन◾जम्मू में हमारे ''नेताओं की गिरफ्तारी'' निंदनीय, आखिर यह पागलपन कब खत्म होगा : राहुल ◾परमाणु हथियार के पहले प्रयोग न करने की नीति पर बोले राजनाथ: परिस्थितियों पर निर्भर करेगा फैसला◾कश्मीर में किसी की जान नहीं गई, कुछ दिनों में हालात होंगे सामान्य◾कश्मीर मुद्दे पर UNSC में बोले अकबरुद्दीन- जेहाद के नाम पर हिंसा फैला रहा है PAK◾भूटान की यात्रा समय की कसौटी पर खरी उतरने वाली मित्रता को और मजबूत करेगी : PM मोदी◾

अन्य राज्य

टिहरी हादसे के दोषियों काे बक्शा नहीं जाएगा

नई टिहरी : उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने टिहरी जिले के कंगसाली गांव पहुंचकर मैक्स दुर्घटना में एंजल इन्टरनेशनल स्कूल के मृतक बच्चों को श्रद्धांजलि देते हुए मृतक आत्माओं की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रख कर गहरा दुख व्यक्त किया, इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने वाहन दुर्घटना के मृतक एवं घायल बच्चों के परिजनों को सांत्वना देते हुए कहा कि वाहन दुर्घटना दुर्भाग्यपूर्ण है जिसका सभी को बहुत दुख है।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि वाहन दुर्घटना की सूचना मिलते ही सरकार द्वारा अधिकारियों को घायलों के त्वरित उपचार की व्यवस्था के निर्देश दिये गये, घायल बच्चे शीघ्र अस्पताल पहुंच सके इस हेतु हैलीकॉप्टर की व्यवस्था की गयी, मृतक एवं घायलों के परिजनों की क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की मांग पर मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर किये जाने के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है, उन्होने बताया कि प्रदेश में बॉन्ड पर तैयार किये गये डॉक्टर जो बॉन्ड तोड़कर चले गये उन्हे वापस लाने के लिए प्रदेश सरकार ने हाईकोर्ट में मुकदमा लड़ा है तथा एक सप्ताह पूर्व ही सरकार को जीत हासिल हुई है जिसकी बदौलत प्रदेश को शीघ्र ही 600 डॉक्टर मिलने की सम्भावना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतापनगर क्षेत्र के लिए राज्य सरकार द्वारा एक और एम्बुलेंस बोट की व्यवस्था की जायेगी। उल्लेखनीय है कि वाहन दुर्घटना के मृतकों को जिला प्रशासन द्वारा प्रति मृतक रूपये एक लाख की धनराशि तथा वाहन दुर्घटना के घायलों को प्रति घायल रूपये दस हजार की धनराशि पूर्व में ही वितरित की जा चुकी है। मुख्यमंत्री श्री रावत द्वारा उक्त के अतिरिक्त एक लाख रूपये प्रति मृतक एवं रूपये पचास हजार प्रति घायल वितरित किये जाने हेतु चैक के रूप में जिलाधिकारी को उपलब्ध कराये गये हैं। 

इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक विजय सिंह पंवार, जिलाधिकारी डॉ.वी. षणमुगम, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेन्द्र सिंह रावत, मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई, मुख्य चिकित्साधिकारी भागीरथी जंगपांगी, उपजिलाधिकारी प्रतापनगर अजयबीर सिंह आदि उपस्थित थे। 


डोबरा-चांठी पुल जल्द ही जनता को समर्पित कर दिया जायेगा : उन्होने कहा कि टिहरी बांध से सर्वाधिक प्रभावित प्रतापनगर की जनता हुई है इसे ध्यान में रखते हुए निर्माणाधीन डोबरा-चांठी पुल हेतु सरकार द्वारा एक मुस्त 88 करोड़ दिये गये, उन्होने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा है कि आगामी फरवरी माह तक डोबरा-चांठी पुल जनता को समर्पित कर दिया जायेगा। 

मुख्यमंत्री रावत ने दुर्घटना के मृतक एवं घायल बच्चों के परिजनों को आश्वस्त किया कि दुर्घटना की जांच चल रही है, इसमें जो भी दोषी पाया जायेगा उनके विरूद्ध नियमानुसार कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

 मृतकों एवं घायलों के परिजनों की मांग पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि सरकार द्वारा भारत सरकार से प्रदेश के प्रत्येक विकासखण्ड में एक केन्द्रीय विद्यालय खोलने की मांग की गयी है।