BREAKING NEWS

हाई कमान से मुलाकात के बाद बोले पायलट: पद की कोई लालसा नहीं, समस्या का जल्द समाधान जल्द हो◾वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सफलतापूर्वक हुई मस्तिष्क की सर्जरी हुई ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 9,181 नये मामले सामने आये ,293 और लोगों की मौत◾केरल : बारिश थमने से कुछ राहत, इडुक्की में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 49 हुई◾पायलट मामले के समाधान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय समिति गठित की ◾दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 707 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 1.46 लाख के पार◾संजय राउत के बयान को लेकर मानहानि का मामला दर्ज कराएंगे सुशांत सिंह राजपूत के परिजन ◾लीग चेयरमैन बृजेश पटेल ने दी जानकारी - यूएई में आईपीएल के लिये सरकार से मंजूरी मिली◾शाह फैसल ने जेकेपीएम के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, प्रशासनिक सेवा में लौटने की अटकलें जारी◾सुशांत सिंह राजपूत केस में SC पहुंची रिया चक्रवर्ती, कहा - मीडिया साबित करना चाहता है 'मैं दोषी हूं'◾विधानसभा सत्र से पहले पायलट ने राहुल और प्रियंका से की मुलाकात, घर वापसी की अटकलें तेज◾कोविड-19 : देश में रिकवरी दर 69 फीसदी के पार, मृत्यु दर घटकर दो प्रतिशत के करीब ◾पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी ◾इस स्वतंत्रता दिवस पर वाजपेयी का रिकॉर्ड तोड़ेंगे PM मोदी, 7वीं बार लाल किले से फहराएंगे तिरंगा◾आप्टिकल फाइबर परियोजना के उद्घाटन पर बोले पीएम मोदी- यह प्रोजेक्ट अंडमान-निकोबार को दुनिया से जोड़ेगा ◾मणिपुर में आज बीरेन सिंह सरकार का बहुमत परीक्षण, कांग्रेस-BJP ने विधायकों को जारी किया व्हिप◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में एक हजार से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 22 लाख के पार ◾देश में संसाधनों की लूट को रोकने के लिए EIA 2020 का मसौदा वापस ले सरकार : राहुल गांधी◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 97 लाख के पार, 7 लाख 29 हजार की मौत ◾जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के हमले में घायल भाजपा नेता ने इलाज के दौरान तोड़ा दम◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिग्विजय, सिंधिया, तोमर सहित कई दिग्गजों के भाग्य का फैसला 12 मई को

लोकसभा चुनाव के छठे और मध्य प्रदेश के तीसरे चरण में 12 मई को कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया और भाजपा के केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के राजनीतिक भाग्य का फैसला होने वाला है। इस चरण में राज्य की आठ सीटों पर मतदान होना है। इनमें सात सीटें फिलहाल भाजपा के कब्जे में हैं।

राज्य में लोकसभा की 29 सीटें हैं। इनमें से 13 सीटों पर दो चरणों में मतदान हो चुका है। आगामी 12 मई को आठ संसदीय सीटों-भिंड, मुरैना, ग्वालियर, गुना, राजगढ़, सागर, भोपाल और विदिशा- में मतदान होना है। इनमें सिर्फ गुना संसदीय क्षेत्र ऐसा है, जिस पर कांग्रेस का कब्जा है।

बाकी सभी सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार पिछले चुनाव में जीते थे। सबसे रोचक मुकाबला भोपाल संसदीय सीट पर है, जहां भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव मैदान में उतारा है। और कांग्रेस की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह उम्मदवार हैं। यहां चुनाव में ध्रुवीकरण की हर संभव केाशिश हो रही है। दोनों ओर से धर्म का सहारा लिया जा रहा है।

वर्ष 1984 के बाद से भाजपा के कब्जे वाली इस सीट पर साधु-संत दोनों उम्मीदवारों के लिए मोर्चा संभाले हुए हैं। भोपाल संसदीय क्षेत्र में 19.50 लाख मतदाता हैं। इसमें चार लाख मुस्लिम, साढ़े तीन लाख ब्राह्मण, साढ़े चार लाख पिछड़ा वर्ग, दो लाख कायस्थ, सवा लाख क्षत्रिय वर्ग से हैं।

गुना संसदीय क्षेत्र कांग्रेस और खासकर ग्वालियर के सिंधिया राजघराने का गढ़ माना जाता है। यहां से चार बार से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। इस बार उनका मुकाबला भाजपा के के. पी. यादव से है। यादव कभी सिंधिया के करीबी हुआ करते थे और उनके सांसद प्रतिनिधि रहे हैं। इस लोकसभा क्षेत्र से सिंधिया राजघराने के सदस्यों ने 14 बार प्रतिनिधित्व किया है। इसी तरह ग्वालियर संसदीय क्षेत्र को भी सिंधिया राजघराने के प्रभाव वाला माना जाता है, मगर यहां से बीते तीन चुनावों से भाजपा उम्मीदवार जीतते आ रहे हैं। इस बार मुकाबला कांग्रेस के अशोक सिंह और भाजपा के विवेक शेजवलकर के बीच है।

अशोक सिंह बीते दो चुनावों से हारते आ रहे हैं। इस संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व अटल बिहारी वाजपेयी, विजया राजे सिंधिया, माधवराव सिंधिया, यशोधरा राजे सिंधिया और नरेंद्र सिंह तोमर कर चुके हैं। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की चर्चित सीटों में से एक मुरैना भी है, जहां से इस बार केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर चुनाव लड़ रहे हैं। तोमर ने पिछला चुनाव ग्वालियर से जीता था। तोमर का यहां मुकाबला कांग्रेस के राम निवास रावत से है। रावत अभी हाल ही में विधानसभा चुनाव हारे थे।

रावत की गिनती सिंधिया के करीबियों में होती है। इस सीट पर 1996 से भाजपा का कब्जा है। राजगढ़ संसदीय क्षेत्र पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के प्रभाव वाली सीट मानी जाती है।

यही कारण है कि स्वयं सिंह इस सीट से चुनाव लड़ना चाह रहे थे, मगर पार्टी ने उन्हें भोपाल भेज दिया। कांग्रेस ने मोना सुस्तानी को उम्मीदवार बनाया है, तो दूसरी ओर पार्टी कार्यकर्ताओं के विरोध के बावजूद भाजपा ने यहां से मौजूदा सांसद रोडमल नागर को दोबारा मैदान में उतारा है। राज्य की विदिशा संसदीय सीट की अपनी पहचान है।

यहां मुकाबला इस बार दो नए चेहरों के बीच है। भाजपा ने जहां रमाकांत भार्गव को मैदान में उतार है तो कांग्रेस ने शैलेंद्र पटेल पर दांव लगाया है। इस सीट पर पिछली बार सुषमा स्वराज ने जीत दर्ज की थी, मगर स्वास्थ्य कारणों से इस बार वह चुनाव नहीं लड़ रही हैं। इस सीट का प्रतिनिधित्व अटल बिहारी वाजपेयी, शिवराज सिंह चौहान जैसे नेता कर चुके हैं। भिंड और सागर संसदीय सीटों पर मुकाबला नए चेहरों के बीच है।भिंड से भाजपा ने संध्या राय और कांग्रेस ने देवाशीष जरारिया को मैदान में उतारा है। वहीं सागर में भाजपा के राजबहादुर सिंह का मुकाबला कांग्रेस के प्रभु सिंह ठाकुर से है।