BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

शिवराज सरकार के सामने आ रही सरकारी मशीनरी की खामियां, MP की सियासत में फिर उठा नौकरशाही मुद्दा

सत्ता में कोई भी राजनीतिक दल हो, अगर कोई निशाने पर होता है तो वह नौकरशाही। मध्यप्रदेश में भी ऐसा ही कुछ हाल है। वर्तमान में भाजपा सत्ता में है और नौकरशाही उसके निशाने पर है तो इससे पहले कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार थी और निशाने पर नौकरशाह हुआ करते थे। सरकार की योजनाओं को जमीनी स्तर पर अमलीजामा पहनाने की जिम्मेदारी सरकारी महकमे पर हुआ करती है। जब भी कोई योजना असफल होती है तो अफसरशाही निशाने पर आ जाती है। वर्तमान में भी ऐसा ही कुछ है।

राज्य में भाजपा की सत्ता में वापसी हुए डेढ़ साल से अधिक का वक्त गुजर गया है, मगर इसमें से अधिकांश समय में कोरोना का संक्रमण रहा और सरकार की कई योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच पाया है। कोरोना की दूसरी लहर कमजोर पड़ने के बाद अब सरकार के सामने सरकारी मशीनरी की खामियां आने लगी हैं और यही कारण है कि शिवराज सिंह चौहान जनदर्शन के दौरान जिन इलाकों में जा रहे हैं, वहां सीधे सरकारी महकमे को फटकार लगा रहे हैं। 

निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर में तो उन्होंने तीन अधिकारियों को मंच से ही निलंबित कर दिया था। पन्ना में भी शिवराज सिंह चौहान के तेवर तल्ख नजर आए और अधिकारियों को हिदायतें दी। ऐसा ही कुछ नजारा सतना जिले के रैगांव विधानसभा क्षेत्र में देखने को मिला।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष और खजुराहो संसदीय क्षेत्र के सांसद विष्णु दत्त शर्मा भी जब अपने संसदीय क्षेत्र के प्रवास पर थे, तो उन्हें सरकारी मशीनरी की लापरवाही और मनमानी की शिकायत मिली। यही कारण रहा कि शर्मा ने मंच से अधिकारियों को चेताया और साफ कहा कि उन्हें गरीब जनता के लिए काम करना होगा। समय पर दफ्तरों में मौजूद रहना होगा, अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो वह नौकरी छोड़ दें।

इससे पहले अगर हम कमलनाथ सरकार के कार्यकाल की बात करें तो कमलनाथ लगातार नौकरशाहों को फटकार लगाते रहते थे और कई बार उन्होंने विपक्ष में रहते हुए तथा सत्ता में आने के बाद यहां तक कहा कि उनकी चक्की बहुत महीना आटा पीसती है। राज्य में आगामी समय में विधानसभा के तीन क्षेत्रों और एक लोकसभा क्षेत्र में उप-चुनाव होने वाले हैं, इन चुनावों में जीत के लिए भाजपा पूरा जो लगाए हुए है। यही कारण है कि योजनाओं में गड़बड़ी और जनता की परेशानी की बात सामने आने पर नौकरशाही को आड़े हाथों लिया जा रहा है।