BREAKING NEWS

डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कल : सुप्रीम कोर्ट ◾17वीं लोकसभा का पहला सत्र प्रारंभ, PM मोदी सहित नवनिर्वाचित सांसदों ने ली शपथ ◾संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण, संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं : PM मोदी ◾डॉक्टरों की देशभर में प्रदर्शन, आज फिर हड़ताल पर रहेंगे एम्स के डॉक्टर◾वर्ल्ड कप में भारत की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत, लगा बधाईयों का तांता, अमित शाह ने बताया एक और स्ट्राइक ◾IMA की हड़ताल में शामिल होंगे दिल्ली के अस्पताल, AIIMS ने किया किनारा ◾ममता आज सचिवालय में जूनियर डॉक्टरों से करेंगी बैठक◾विश्व कप 2019 Ind vs Pak : भारत ने पाकिस्तान को डकवर्थ लुइस नियम के तहत 89 रन से रौंदा◾IMA के आह्वान पर सोमवार को दिल्ली के कई अस्पतालों में नहीं होगा काम ◾सभी वर्गों को भरोसे में लेकर करेंगे सबका विकास : PM मोदी◾PM मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ कूटनीतिक और रणनीतिक रिवायत को बदला : जितेन्द्र सिंह◾प्रणव मुखर्जी से मिले नीतीश कुमार◾बिहार में AES की रोकथाम और इलाज के लिए हरसंभाव सहायता देगा केंद्र : हर्षवर्द्धन◾कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को विदेशों से मिला धन, निजी फायदे के लिए उसका किया इस्तेमाल : NIA◾Top 20 News - 16 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक राष्ट्र, एक चुनाव पर बात करने के लिए PM मोदी ने सभी दलों के प्रमुखों को किया आमंत्रित◾प्रदर्शनकारी डॉक्टरों ने कहा, CM जगह तय करें लेकिन बैठक खुले में होनी चाहिए ◾बिहार : मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा पहुंचा 93 ◾नए चेहरों के साथ संसद में आए नई सोच, तभी बनेगा नया भारत : PM मोदी◾धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आए है उद्धव ठाकरे : इकबाल अंसारी◾

अन्य राज्य

वायु प्रदूषण की गंभीरता को समझा नहीं जा रहा है : NGT प्रमुख

अहमदाबाद : राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के प्रमुख न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल ने बुधवार को कहा कि भारत वायु प्रदूषण के मुद्दे को गंभीरता से नहीं ले रहा है। 

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुये उन्होंने कहा कि देश के किसी भी राज्य ने कचरा निस्तारण संबंधी मानकों का अनुपालन नहीं किया है। इस अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी मौजूद थे। 

न्यायमूर्ति गोयल ने कहा, ‘‘ऐसे कई तरह के स्रोत हैं जो प्रदूषण फैला रहे हैं। यह कार्बन डाई आक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड, मीथेन और सल्फर ऑक्साइड हैं। ये (गैसें) जानलेवा हैं।’’ 

उन्होंने सवाल करते कहा कि इन्हें कौन पैदा कर रहा है। ये औद्योगिक उत्सर्जन, फसल अवशेष जलाने और कूड़ा जलाने से पैदा हो रही हैं। कूड़े का पहाड़ बनता जा रहा है। 

न्यायमूर्ति गोयल ने कहा कि विश्व वायु प्रदूषण को गंभीरता से ले रहा है लेकिन हम नहीं। उन्होंने खेद प्रकट करते हुये कहा कि कोई भी राज्य कचरा प्रबंधन नियमों का पालन नहीं कर रहा है, जबकि इस मामले में जीरो टॉलरेंस अपनाया जाना चाहिये। 

उन्होंने कहा कि प्रदूषण करना, हत्या या दुष्कर्म करने से कम बड़ा अपराध नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुये एनजीटी प्रमुख ने कहा कि वायु प्रदूषण की वजह से भारत में हर साल छह लाख और गुजरात में 15 हजार लोग मर जाते हैं। 

इस अवसर पर रूपाणी ने कहा कि उनकी सरकार कचरा प्रबंधन मानदंडों का पालन करने में अधिक सजगता दिखायेगी। 

उन्होंने कहा कि न्यायमूर्ति गोयल ने जो बिंदु उठाये हैं वे महत्वपूर्ण हैं और उनकी सरकार प्रतिबद्ध है एवं इस दिशा में और कदम उठाये जायेंगे। 

उन्होंने इस अवसर पर ढाई हजार करोड़ रुपये की लागत से वडोदरा, अहमदाबाद और राजकोट के जेतपुर से औद्योगिक इलाके से निकले गंदे पानी की निकासी गहरे समुद्र में करने के लिए एक पाइपलाइन बिछाने का ऐलान भी किया। 

इस कार्यक्रम में गुजरात सरकार ने ‘उत्सर्जन व्यापार योजना’ को शुरू किया। इसके तहत कोई कंपनी तय सीमा से कम उत्सर्जन करती है तो वह अपनी शेष उत्सर्जन सीमा को बेच सकती है। 
सरकार का दावा है कि यह हवा में मौजूद सूक्ष्म कणों (पीएम) के प्रदूषण से निपटने का विश्व में पहला प्रयास है।