BREAKING NEWS

श्रीहरिकोटा से लॉन्‍च हुआ चंद्रयान- 2 , ISRO ने फिर रचा इतिहास◾कर्नाटक संकट : विधानसभा में बोले शिवकुमार- BJP क्यों स्वीकार नहीं कर रही कि वह कुर्सी चाहती है◾कर्नाटक : सुप्रीम कोर्ट का फ्लोर टेस्ट पर तत्काल सुनवाई से इंकार ◾विवादित बयान पर राज्यपाल मलिक ने दी सफाई, बोले-मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था◾शंकर सिंह वाघेला ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- कश्मीर में धर्म के आधार पर लोगों को बांट रही है◾ISRO फिर रचने जा रहा इतिहास, चंद्रयान-2 का काउंटडाउन शुरू, आज दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लॉन्चिंग◾केरल में NDA सहयोगी का दावा, कई कांग्रेस सांसद, विधायक BJP के संपर्क में ◾अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण अगले साल हर हाल में हो जाएगा शुरू : वेदांती◾मैं नाली, शौचालय साफ करने के लिए नहीं बनी हूं सांसद : प्रज्ञा सिंह ठाकुर ◾'कालेधन' को लेकर भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन करें कार्यकर्ता : ममता ◾जम्मू-कश्मीर राज्यपाल का विवादित बयान- पुलिसवालों की नहीं, भ्रष्ट नेताओं की हत्या करें आतंकी◾तृणमूल नेताओं को धमकाने वाले सीबीआई अधिकारियों का नाम बताए ममता : भाजपा ◾हिमा की 400 मीटर में वापसी, जुलाई में जीता पांचवां स्वर्ण पदक , PM मोदी ने दी बधाई !◾Top 20 News 21 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾इजराइल प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू 9 सितंबर को करेंगे भारत की यात्रा, PM मोदी से मिलेंगे◾सिद्धू ने चंडीगढ़ में आवंटित सरकारी बंगला खाली किया ◾सोनभद्र की घटना के लिए कांग्रेस और सपा नेता जिम्मेदार : CM योगी ◾मोदी सरकार ने देश को बदला, अच्छे दिन लाई : जेपी नड्डा ◾पंचतत्व में विलीन हुई शीला दीक्षित, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार◾मुंबई : ताज होटल के पास की इमारत में लगी आग, एक की मौत ◾

अन्य राज्य

ज्ञान, त्याग और तपस्या का प्रबल कारक ग्रह वृहस्तपति देव : बाबा भागलपुर

भागलपुर : नवग्रहों में बृहस्पति को गुरु और मंत्रणा का कारक माना जाता है। इस संदर्भ में राष्ट्रीय सम्मान से अलंकृत व अखिल भारतीय स्तर पर ख्याति प्राप्त ज्योतिष योग शोध केन्द्र, बिहार के संस्थापक दैवज्ञ पं. आर. के. चौधरी, बाबा भागलपुर, भविष्यवेत्ता एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ का कहना है कि गुरु का अर्थ महान है।

सर्वाधिक अनुशासित, ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठ होता है और गुरू बृहस्पति तो देव गुरु है। इनके आराध्य देव स्वयं परब्रह्म ब्रह्मा जी हैं। पीला रंग, स्वर्ण, वित्त और कोष, कानून, धर्म, ज्ञान, मंत्र, ब्राह्मण और संस्कारों को नियंत्रित करता है। शरीर में पाचन तंत्र और आयु की अवधि को भी निर्धारित करता है। पॉच तत्वों में आकाश तत्व का अधिपति होने के कारण इसका प्रभाव बहुत ही व्यापक और विराट होता है। महिलाओं के जीवन में विवाह की सम्पूर्ण जिम्मेदारी बृहस्पति से ही तय होती है।

ज्योतिष शास्त्रानुसार बृहस्पति सबसे बड़ा ग्रह है। इस दृष्टिकोण से भी देव गुरु बृहस्पति शक्तिशाली और उदार ग्रह है। इनका रंग- पीला, दिशा-उत्तर, रत्न पोखराज, उपरत्न- टोपाज, धात- सोना, देवता- गुरु दत्तात्रेय-् ब्रह्मा जी। ज्योतिष शास्त्रानुसार गुरु प्रत्येक राशि के पारगमन के लिए लगभग तेरह महिनों का समय लेता है। इसके अलावा बृहस्पति नौवीं एवं बारहवीं राशि क्रमश: धनु और मीन में स्वगृही होता है तथा धनु इनकी मूल त्रिकोण राशि भी है। यह कर्क राशि में उच्च व मकर राशि में नीच का माना जाता है। विंशोत्तरी दशा के क्रम में इनकी महादशा सोलह वर्षों की होती है।

वैदिक ज्योतिष के तहत सूर्य, चन्द्रमा, मंगल गुरु के मित्र ग्रह माने गये हैं। जबकि बुध एवं शुक्र ग्रह से इनकी शत्रुता है। हालांकि शनि देव के साथ इनकी संबंध तटस्थ है। पौराणिक कथानुसार देव गुरु बृहस्पति को अंगिरा ऋषि एवं सुरुप का पुत्र माना जाता है। बृहस्पति ने प्रभाष तीर्थ के तट पर भगवान शिव की अखण्ड तपस्या कर देव गुरु की महानतम पद को प्राप्त किया और भगवान शिव ने प्रसन्न होकर नवग्रहों में एक उच्च स्थान दिया।

जन्मकुंडली व हस्तरेखा में बृहस्पति के शुभ होने से जातक विद्वान और ज्ञानी होता है, अपार मान-सम्मान पाता है, तमाम सम्स्याओं से बच जाता है तथा त्यागी व तपस्वी बनाता है। बृहस्पति पाप ग्रहों से प्रभावित होने पर मनुष्य को अहंकारी और भोजन प्रेमी बना देता है। इनके कमजोर स्थिति में होने पर जातक के संस्कार भी कमजोर होते हैं और विद्या व धन प्राप्ति में बाधाओं का सामना करना पड़ता है। कैंसर और यकृत की समस्याएंआती है। अत: देव गुरु बृहस्पति के नकारात्मक प्रभाव को शमन करने तथा शुभ फल व अनुकूल फल की प्राप्ति के लिए कुछेक प्रभावशाली उपाय करें।