BREAKING NEWS

रॉबर्ट वाड्रा ने BJP सरकार की आलोचना की ,कहा - लोकतंत्र को तानाशाही में न बदलें◾सोनभद्र गोलीकांड : प्रियंका गांधी हिरासत में, कई जगह कांग्रेस का प्रदर्शन ◾किसी विधायक ने मुझसे सुरक्षा नहीं मांगी है : कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष◾कर्नाटक में जारी सत्ता का संघर्ष एक बार फिर शीर्ष अदालत की चौखट पर◾Sensex में साल की दूसरी बड़ी गिरावट, निवेशकों ने दो दिन में गंवाये 3.79 लाख करोड़ रुपये ◾ कुमारस्वामी ने स्पीकर से फ्लोर टेस्ट की डेट सोमवार तक बढ़ाने की अपील की , भाजपा बोली- हम तैयार नहीं◾Top 20 News 19 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾चुनाव याचिका पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटिस जारी ◾BJP विश्वास प्रस्ताव पर मत-विभाजन के लिए आतुर है, क्योंकि वह विधायकों को खरीद चुकी : सिद्धारमैया ◾सोनभद्र में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही प्रियंका गांधी को रोका, धरने पर बैठीं◾प्रियंका की गैरकानूनी गिरफ्तारी भाजपा सरकार की बढ़ती असुरक्षा का संकेत: राहुल गांधी ◾सरकार बचाने के लिए सत्ता का नहीं करूंगा दुरुपयोग : कुमारस्वामी◾कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष बोले- विश्वास मत पर मतदान में देरी नहीं कर रहा हूं◾सोनभद्र मामले में 3 सदस्यीय समिति का गठन, 10 दिनों के अंदर सौंपेगी रिपोर्ट : योगी ◾कुमारस्वामी शुक्रवार को देंगे अपना विदाई भाषण : येदियुरप्पा◾कर्नाटक : विश्वास मत पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे कुमारस्वामी◾बिहार : छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में भीड़ ने की युवकों की पिटाई, 3 की मौत◾मोहम्मद मंसूर खान से पूछताछ कर रही है ईडी : SIT◾आयकर विभाग के एक्शन से भड़कीं मायावती, कहा- अपने गिरेबान में झांके भाजपा ◾कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच प्रदान करेगा पाकिस्तान◾

अन्य राज्य

तेजस्‍वी ने विकासशील इंसान पार्टी के अनशनकारियों को जूस पिलाकर तुड़वाया अनशन

पटना : बिहार में आन्ध्र प्रदेश तथा दूसरे राज्यों की मछली बिक्री बंद करने के सरकार के फैसले के खिलाफ विकासशील इंसान पार्टी के आमरण अनशन चौथे दिन शुक्रवार को कई अनशनकारियों की तबियत बिगड़ गई। तत्पश्चात नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी प्रसाद यादव द्वारा जूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया गया। इस अवसर पर वीआईपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सन ऑफ मल्लाह श्री मुकेश सहनी भी उपस्थित रहे।

ज्ञात हो कि विकासशील इंसान पार्टी द्वारा बिहार में मछली बिक्री पर प्रतिबंध के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया गया था। वीआईपी के विरोध के कारण सरकार को झुकना पड़ा था तथा बिहार की मछलियों की बिक्री पर प्रतिबंध हटाना पड़ा। परन्तु सन ऑफ़ मल्लाह आंध्र प्रदेश सहित अन्य राज्यों से आने वाली मछलियों पर हटाने की मांग कर रहे हैं। इसी मांग को लेकर पार्टी के दर्जनों पदाधिकारी पिछले चार दिन से पटना के गर्दनीबाग में अनशन पर बैठे थे। शुक्रवार को अनशन के चौथे दिन कई अनशनकारियों की तबियत गंभीर रूप से बिगड़ने लगी। इसको ध्यान में रखते हुए नेता प्रतिपक्ष द्वारा जूस पिलाकर अनशन तुड़वाया गया।

इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत में पार्टी सुप्रीमो ऑफ़ मल्लाह श्री मुकेश सहनी ने कहा कि विकासशील इंसान पार्टी द्वारा बिहार के विभिन्न जिलों में आयोजित किए जा रहे ‘माछ-भात’ भोज की अभूतपूर्व सफलता को देखकर मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार बुरी तरह से परेशान हैं। इसी कारण से एक साजिश के तहत बिहार सरकार द्वारा बिहार में आन्ध्र प्रदेश तथा दूसरे राज्यों से आने वाली मछली की बिक्री पर प्रतिबन्ध लगाया गया है। इससे लाखों मछुआरा परिवार के रोजगार तथा रोजी-रोटी पर संकट पैदा हो गया है।

सन ऑफ़ मल्लाह ने सवाल उठाया था कि अगर बिहार तथा अन्य राज्यों की मछली में फॉर्मेलिन पाया गया है तो बिहार की लोकल मछली पर से कैसे प्रतिबंध हटा लिया गया? उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार के नेताओं द्वारा मछली पर प्रतिबन्ध लगाकर आन्ध्र प्रदेश की मत्स्य कंपनियों को ब्लैकमेल कर पैसे उगाही करने की कोशिश की जा रही है। साथ ही बिहार में दर्जनों तालाब सरकार के बड़े-बड़े नेताओं के पास है। उनके द्वारा मछलियों को महंगे दाम पर बेचकर मोटा मुनाफा कमाने की साजिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि अनशनकारी साथियों की तबियत बिगड़ने के कारण तेजश्वी जी द्वारा अनशन तुड़वाया गया है। मगर मल्लाह समाज की मांगें मानी जाने तथा मछली बिक्री पर प्रतिबंध हटाने तक वीआईपी का आंदोलन जारी रहेगा।

इस अवसर पर नेता प्रतिपक्ष तेजश्वी प्रसाद यादव ने कहा महागठबंधन बिहार के मल्लाह समाज की मांगों के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में बिहार के सभी 40 सीटों पर महागठबंधन जीत दर्ज करेगी तथा एनडीए का सूपड़ा साफ़ हो जाएगा। उन्होंने कहा कि जल्द की महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। महागठबंधन के सभी सहयोगी दलों के नेता मिलकर सीट बंटवारे पर फैसला करेंगे।

पार्टी की ओर से गौतम बिंद, शिव बचन प्रसाद नोनिया, विजयंता बिंद, स्वर्णलता सहनी, अजय कुमार सहनी, बैद्यनाथ सहनी, राजकुमार सहनी, बालगोविंद बिंद, भगवान चौधरी, सागर केवट, प्रद्युम्न कुमार, व्यास निषाद, राजाराम मुखिया, रविंद्र मल्लाह, संतोष नागर, मिथुन कुमार, राजकुमार निषाद, हीरालाल निषाद, राजदेव प्रसाद, भगवान चौधरी, शिवजी चौधरी, उमेश प्रसाद निषाद, सुरेश सहनी, दिनेश निषाद, उमेश सिंह निषाद, राधेकृष्ण बिंद, जवाहर चौधरी, रामचंद्र सिंह निषाद, रामनंदन प्रसाद, पारस कुमार, राजेश कुमार बिंद, सदानंद सिंह निषाद, प्रह्लाद चौहान, संजीवन बिंद, महादेव कुमार, पुणेश्वर प्रसाद, डॉ आनंदी प्रसाद, धर्मेंद्र चौहान, महादेव कुमार, संजीवन बिंद अनशन पर बैठे थे।