BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका में ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष से मुलाकात की◾कोलकाता नाइट राइडर्स ने मुंबई इंडियंस को सात विकेट से हराया◾मोदी ने की अमेरिकी सौर पैनल कंपनी प्रमुख के साथ भारत की हरित ऊर्जा योजनाओं पर चर्चा◾सेना की ताकत में होगा और इजाफा, रक्षा मंत्रालय ने 118 अर्जुन युद्धक टैंकों के लिए दिया आर्डर ◾असम के दरांग जिले में पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच में झड़प, 2 प्रदर्शनकारियों की मौत,कई अन्य घायल◾दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए घर पर ही की जाएगी टीकाकरण की सुविधा, केंद्र सरकार ने दी मंजूरी◾अमरिंदर का सवाल- कांग्रेस में गुस्सा करने वालों के लिए स्थान नहीं है तो क्या 'अपमान करने' के लिए जगह है◾तेजस्वी का तंज- 'नल जल योजना' बन गई है 'नल धन योजना', थक चुके हैं CM नीतीश ◾अमरिंदर के राहुल, प्रियंका को ‘अनुभवहीन’ बताने पर कांग्रेस ने कहा - बुजुर्ग गुस्से में काफी कुछ कहते है ◾जम्मू-कश्मीर : सेना का बड़ा ऑपरेशन, LoC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, तीन आतंकवादी ढेर◾आखिर किसने उतारा महंत नरेंद्र गिरी का शव, पुलिस के आने से पहले क्या हुआ शिष्य ने किया खुलासा ◾गैर BJP शासित राज्यों के राज्यपालों को शिवसेना ने बताया 'दुष्ट हाथी', कहा- पैरों तले कुचल रहे हैं लोकतंत्र ◾'धनबाद के जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारी गई थी टक्कर', CBI ने झारखंड HC को दी जानकारी◾महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI◾दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्र ने कहा - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है, यह पारदर्शिता से काम करता है◾अमेरिकी मीडिया में छाई पीएम मोदी और कमला हैरिस की मुलाकात, भारतीय अमेरिकियों के लिए बताया यादगार क्षण◾फोटो सेशन के लिए विदेश जाने की बजाए कोरोना मृतकों के लिए 5 लाख का मुआवजा दे PM : कांग्रेस ◾कांग्रेस में जारी है असंतुष्टि का दौर, नाराज जाखड़ पहुंचे दिल्ली, राहुल-प्रियंका समेत कई नेताओं से करेंगे मुलाकात ◾हिंदू-मुस्लिम आबादी पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने समझाया अपना 'गणित'◾अनिल विज का आरोप, भविष्य में पंजाब और PAK को नजदीक लाना चाहती है कांग्रेस◾

धर्मशाला में अचानक आई बाढ़ ने मचाई तबाही, कहीं गिरे पेड़, तो कहीं बहे मकान और कार

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण कांगड़ा जिले के ऊपरी हिस्से धर्मशाला में बाढ़ आ गई है। इस बाढ़ में पर्यटन स्थलों पर कई कारें और इमारतें बह गईं। इस आपदा से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने यहां सोमवार को राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की तैनाती की। धर्मशाला में पानी के सैलाब के साथ खड़ी कारें बहती हुई नजर आई और तेज बहाव ने घरों और होटलों को भी आंशिक रूप से नुकसान पहुंचाया है।

जिले में भारी बारिश के बाद दो लोगों के लापता होने की खबर है। राज्य की जमीनी स्थिति की समीक्षा करते हुए, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से फोन पर बात की और उन्हें आश्वासन दिया कि किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए एनडीआरएफ की एक टीम तैनात की जाएगी। उन्होंने कहा कि संकट से निपटने के लिए केंद्र हर संभव सहायता मुहैया कराएगा।

राज्य की राजधानी शिमला से लगभग 250 किलोमीटर दूर धर्मशाला में 184 मिमी वर्षा दर्ज की गई, जो इस मानसून के दौरान अब तक की सबसे अधिक बारिश है। तिब्बती प्रवासियों के राजनीतिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक केंद्र मैक्लोडगंज के आसपास के गांवों में संपत्ति के नुकसान की सूचना मिली है। धर्मशाला के भागसूनाग में 10 से अधिक कारें, जिनमें से अधिकांश पर्यटकों की थीं, बह गईं।

कांगड़ा के साथ लगते क्षेत्रों में भी नुकसान की खबरें हैं। गग्गल क्षेत्र में मौसमी नाले के किनारे स्थित तीन घर और पांच दुकानें पानी के तेज बहाव से क्षतिग्रस्त हो गईं। अधिकारियों ने बताया कि संपत्ति का नुकसान मुख्य रूप से नालों पर अतिक्रमण के कारण हुआ है। जिले में बादल नहीं फटने का दावा करते हुए उपायुक्त निपुण जिंदल ने कहा कि शाहपुर उपमंडल का बोह गांव भूस्खलन के बाद अन्य क्षेत्रों से कट गया है और बचाव अभियान जारी है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि कांगड़ा जिले में कई स्थानों पर भारी से बेहद भारी बारिश दर्ज की गई। बारिश राज्य भर में व्यापक थी। कांगड़ा जिले के पालमपुर में 155 मिमी बारिश दर्ज की गई, जो राज्य में सबसे अधिक है, जबकि डलहौजी में 48 मिमी, शिमला में 10 मिमी और सुरम्य पर्यटन स्थल मनाली में 55 मिमी बारिश हुई।

मुख्यमंत्री ने भारी बारिश से जान-माल के नुकसान पर दुख जताया है। उन्होंने जिला अधिकारियों को प्रभावित क्षेत्रों में त्वरित राहत और बचाव अभियान सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। उन्होंने स्थानीय लोगों और पर्यटकों से किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए नदी किनारे के पास जाने से परहेज करने का आग्रह किया। मौसम ब्यूरो ने बुधवार तक राज्य में छिटपुट स्थानों पर भारी बारिश की संभावना जताई है। इस बार दक्षिण-पश्चिम मानसून 13 जून को ही हिमाचल प्रदेश पहुंच गया है, जो पिछले 21 वर्षों में सबसे पहले शुरू हुआ है। राज्य में इसका सामान्य आगमन 26 जून रहता है।

मंत्रिमंडल समितियों में बदलाव, राजनीतिक मामलों की कमेटी में शामिल हुए स्मृति ईरानी और सर्वानंद सोनोवाल