BREAKING NEWS

आज का राशिफल (31 जनवरी 2022)◾नब किशोर दास हत्याकांड: भाजपा ने CBI जांच व कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की◾श्रमिक संगठनों ने साल के अंत तक देशव्यापी हड़ताल का लिया संकल्प, मोदी सरकार पर लगाए ये आरोप ◾स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में आए सपा मुखिया, बोले- CM योगी से रामचरितमानस की चौपाई के बारे में पूछूंगा◾स्वयंभू बाबा आसाराम को गुजरात की अदालत ने ठहराया दोषी, 2013 में दर्ज हुआ था बलात्कार का मामला◾हिमंत विश्व शर्मा का दावा- भाजपा त्रिपुरा में अगली सरकार अपने दम पर बनाएगी ◾शिवसेना (यूबीटी) का भाजपा पर तंज, कहा- केंद्र, महाराष्ट्र में हिंदुत्ववादी सरकार फिर भी ‘लव जिहाद’ के खिलाफ मार्च◾अडाणी समूह के इजराइल में प्रवेश के कार्यक्रम में शामिल होंगे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू◾LG सक्सेना ने दिल्ली सरकार के अस्पतालों में 139 डॉक्टरों की पदोन्नति को मंजूरी दी◾चीन के खिलाफ मोदी सरकार की है DDLJ नीति, जयशंकर के बयान पर जयराम रमेश का पलटवार ◾राहुल गांधी ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह ने कभी नहीं देखी हिंसा, पैदल यात्रा करने की दी चुनौती ◾Bharat Jodo Yatra: महबूबा मुफ्ती ने की राहुल की तारीफ, बोलीं- उनमें दिखती है ‘उम्मीद की किरण’◾विश्व कप में खराब प्रदर्शन के बाद हड़कंप, भारतीय पुरूष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड ने दिया इस्तीफा◾राहुल गांधी ने एक बार फिर से खोला अपने टी-शर्ट का राज, लेकिन इस बार किस्सा कुछ अलग ◾Pakistan Blast: पाकिस्तान की मस्जिद में हुआ बम धमाका,नमाज पढ़ने के दौरान हमलावर ने खुद को उड़ाया◾Bharat jodo yatra :यात्रा के आखिरी पड़ाव पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने बर्फबारी का उठाया लुफ्त ◾कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट जारी, 'देश में पेट्रोल और डीजल के दाम में आज भी टिका रहा'◾केरल के सीएम पिनराई विजयन ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि की अर्पित, RSS पर देश में नफरत फैलाकर राजनीति करने के लगाए आरोप◾BBC डॉक्यूमेंट्री मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, किरेन रीजीजू बोले- लोग SC का कीमती वक्त करते हैं बर्बाद ◾सीएम केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड से ज्यादा बिल आने वाले लोगों के लिए लगाएंगे माफी योजना◾

ये काली स्याही.... इस देश के किसानों की आवाज को नहीं दबा सकती, लड़ाई अंतिम सांस तक जारी रहेगी: राकेश टिकैत

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेता राकेश टिकैत ने बेंगलुरु में उन पर स्याही फेंके जाने के बाद कहा है कि काली स्याही और घातक हमले किसानों और मजदूरों की आवाज को दबा नहीं सकते।

भाजपा ने कराया मैरे उपर हमला- टिकैत

कर्नाटक की राजधानी के गांधी भवन में सोमवार को एक किसान संगठन द्वारा आयोजित कार्यक्रम के दौरान बदमाशों ने टिकैत पर स्याही फेंक दी। पुलिस ने इस सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके बाद आयोजकों और बदमाशों ने एक दूसरे पर प्लास्टिक की कुर्सियों से हमला किया। टिकैत ने इस घटना के लिए स्थानीय पुलिस को जिम्मेदार ठहराया और आरोप लगाया है कि उन पर हमला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राज्य सरकार की मिलीभगत से किया गया था। किसान नेता ने सोमवार देर रात ट्वीट किया, ‘‘काली स्याही और घातक हमले इस देश के किसानों, मजदूरों, दलितों, शोषितों, पिछड़ों और आदिवासियों की आवाज को दबा नहीं सकते। लड़ाई आखिरी सांस तक जारी रहेगी।’’

स्याही के संदिग्ध आरोप में तीन लोगों को किया गिरफ्तार

कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने इन आरोपों को खारिज किया है कि टिकैत को निशाना बनाने वाले लोग भाजपा से थे। उन्होंने कहा, ‘‘हम अधिकारियों के संपर्क में हैं। तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। मैं इस कृत्य की निंदा करता हूं। संविधान के तहत सभी को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार है।’’ आयोजकों के अनुसार, कार्यक्रम में एक संवाददाता सम्मेलन भी होना था जो किसान नेता कोडिहल्ली चंद्रशेखर के खिलाफ एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद ‘‘संदेह को दूर करने’’ के लिए बुलाया गया था और इसके लिए टिकैत को आमंत्रित किया गया था। बैठक में बदमाश पत्रकार बनकर आए और नोट लेने का नाटक किया। उनमें से एक टिकैत के सामने माइक्रोफोन को ठीक करने के लिए मंच पर गया और फिर माइक से उन पर हमला करने की कोशिश की। एक अन्य व्यक्ति ने टिकैत पर स्याही फेंकी जिससे उनकी पगड़ी, चेहरा, सफेद कुर्ता और गले में पहने हुए हरे शॉल पर स्याही के धब्बे लग गए।

स्याही घटना को लेकर विपक्ष ने दी अपनी प्रतिक्रिया

कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप) और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) सहित विपक्षी दलों ने घटना की निंदा की और दोषियों के खिलाफ तत्काल पुलिस कार्रवाई की मांग की। भाजपा के मुखर आलोचक टिकैत, अब निरस्त किए गए केंद्र के तीन कृषि-विपणन कानूनों के खिलाफ 2020 के किसानों के प्रदर्शन के प्रमुख चेहरों में से एक हैं। टिकैत का भाकियू संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) का हिस्सा था, जिसने दिल्ली की सीमाओं पर केंद्र के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ एक साल से अधिक समय तक विरोध प्रदर्शन किया था।