BREAKING NEWS

अफ्रीकी से पहले 'कफ सीरफ' जम्मू कश्मीर में लील चुका हैं 12 मासूम की जान, NHRC ने ठोका था 36 लाख का जुर्माना ◾ज्ञानवापी : शिवलिंग की कार्बन डेटिंग पर टला फैसला, 11 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई◾चरमपंथ से शिक्षा का मंदिर स्कूल भी अछूता नहीं, मरम्मत के पैसे से कट्टरपंथी प्राचार्य ने बनवा दी मजार◾आदेश गुप्ता ने केजरीवाल पर साधा निशाना, कहा- AAP का इतिहास हमेशा से ही हिंदू धर्म के अपमान करने का रहा ◾पाकिस्तान में बाढ़ से हाहाकार! नहीं थम रहा प्रकोप, मरने वालों की संख्या इतने हजारों तक पहुंची ◾ हरियाणा उपचुनाव : आदमपुर जीतने के लिए 'आप' ने झोंकी ताकत, प्रचार के लिए भारी संख्या में उतारेंगी विधायक ◾लद्दाख : भूस्खलन की चपेट में आए सेना के तीन वाहन, 6 जवानों की मौत◾एंटीलिया मामले में सचिन वाजे पर UAPA के तहत चलेगा केस, दिल्ली HC ने खारिज की याचिका ◾हिंदुओं पर हमलों करने वालों के खिलाफ संयुक्त होकर लड़ना होगा - सांसद स्टारर ◾क्या है कर्नाटक में कांग्रेस का 'प्लान 60'? 'भारत जोड़ो यात्रा' में सोनिया के शामिल होने का खुला राज◾BJP सांसद की याचिका पर JMM नेता शिबू सोरेन को दिल्ली हाई कोर्ट का नोटिस◾केजरीवाल के मंत्री पर बीजेपी ने लगाया बड़ा आरोप, कहा - राम और कृष्ण की पूजा ना करने की दिलाई शपथ◾दिल्ली : केंद्रीय विद्यालय में 11 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप, आरोपियों के खिलाफ POCSO एक्ट के तहत केस दर्ज◾गहलोत गुट के मंत्रियों पर सोनिया गांधी ने दिखाई नरमी, फिर टूटेगा पायलट का सपना?◾दिल्ली में Anti Dust अभियान शुरू, 14 नियमों का पालन जरूरी, उल्लंघन करने पर पांच लाख का जुर्माना◾Karnataka : दशहरे पर भीड़ ने मदरसे में घुसकर की जबरन पूजा, मुस्लिम संगठनों ने दी चेतावनी ◾मुंबई से 120 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त, Air India के पूर्व पायलट समेत 2 गिरफ्तार◾झारखंड के दुमका में फिर लड़की के साथ हैवानियत की हदें पार, शादी से मना करने पर प्रेमी ने पेट्रोल डालकर जलाया ◾Rupee Value : नहीं संभल रहा रुपया, डॉलर के मुकाबले 82.33 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंचा◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 1,997 नए मामले दर्ज, 9 लोगों की मौत◾

जो लोग पार्टी नहीं सम्भाल पा रहे, वो उत्तराखंड क्या संभालेंगे : मुख्यमंत्री धामी

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए 14 फरवरी को मतदान होगा। इसके लिए 21 जनवरी को अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। 28 जनवरी को नामांकन की आखिरी तारीख है। इस चुनाव में पुष्कर सिंह धामी भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद का चेहरा हैं। कांग्रेस ने इस चुनाव में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। हालांकि, हरीश रावत कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद के सबसे बड़े दावेदार माने जा रहे हैं। आम आदमी पार्टी की ओर से कर्नल अजय कोठियाल मुख्यमंत्री पद का चेहरा हैं।

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा के सामने किस तरह की चुनौतियां हैं और पुष्कर सिंह धामी अपनी जीत को लेकर कितना आश्वस्त हैं, इस बारे में पेश है उनसे खास बातचीत के अंश-

प्रश्न- क्या आप उत्तराखंड में वापसी कर रहे हैं?

उत्तर- बिलकुल हम आश्वत हैं, कहीं कोई दिक्कत नहीं है। हमने इस बार नारा दिया है इस बार 60 पार, सिर्फ बीजेपी ही वापसी करेगी।

प्रश्न-आपको लगता है कि हरीश रावत के साथ कड़ा मुकाबला हैं आपका?

उत्तर- कोई मुकाबला नहीं है। जिनकी अपनी पार्टी में कोई स्वीकार्यता नहीं है, उनसे क्या मुकाबला। इस समय हमारा किसी से मुकाबला नहीं हैं। जो अपनी पार्टी कांग्रेस को नहीं संभाल पा रहे, वो क्या उत्तराखंड संभालेंगे? जनता उनको उत्तराखंड संभालने का अवसर नहीं देगी।

प्रश्न-तो सबसे बड़ी चुनौती किसे मान रहे हैं, किससे मुकाबला है ?

उत्तर- मुकाबला किसी से नहीं है इस समय, कांग्रेस पार्टी खुद में छिन्न भिन्न हैं, इतने ग्रुप आपस में बने हुए है। रावत जी 1999 से लेकर अभी तक मात्र एक चुनाव जीत पाये हैं। उन्होंने देख लिया है कि उनकी सरकार रहते हुए उन्होंने जो काम किये, जनता ने उन्हें दो-दो जगह से हराया, अब जो आदमी मुख्यमंत्री रहते हुए दो-दो चुनाव हार गए, उनसे क्या मुकाबला? और आम आदमी पार्टी का यहां कोई जनाधार नहीं है। इसलिए हमने कहा कि इस बार 60 पार।

प्रश्न- तो जो एंटी इंकम्बेंसी फैक्टर है, क्या मुश्किल में डाल सकता है?

उत्तर- हमारी पार्टी वही काम करती है जो जनता के हित में हो। मेरा लक्ष्य प्रदेश के अंतिम व्यक्ति को खुशहाली देने का रहा है। बातें काम और काम ज्यादा का मन्त्र लेकर हमने काम किया है। ऐसे में जब सभी लोग सरकार से खुश हैं, तो एंटी इंकम्बेंसी फैक्टर का कोई मतलब नहीं है। आप सभी सर्वे चेक कर लीजियेगा, सभी में हम आगे हैं ।

प्रश्न- आपके ऊपर टिकट बाँटने का दबाव है, इस समय पार्टी में?

उत्तर- ठीक है, एक प्रक्रिया है। जो परिस्थितियों के साथ ठीक बैठेगा वही होगा। हमारी पार्टी के संगठनात्मक ढांचे में सभी अपनी भूमिका पूरी आस्था से निभाते हैं, तो इसमें किसी भी प्रकार का कोई दबाव नहीं है।