BREAKING NEWS

तालिबान ने शुरू की हैवानियत, मुख्य चौराहे पर शव को क्रेन से लटका कर दी सजा ◾नकवी का कांग्रेस पर तंज- वोटों के ‘सियासी सौदागरों’ ने आजादी के बाद 75 वर्षों तक अल्पसंख्कों को दिया धोखा◾पंजाब में बदलाव का दौर जारी, छुट्टी पर गए DGP, अब इकबाल सिंह सहोता को मिला चार्ज◾कैप्टन के करीबियों को नहीं मिली चन्नी केबिनेट में जगह, सात नए चेहरे के शामिल होने की संभावना◾हमारा मकसद राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रणनीतिक संबंध बनाना : राजनाथ सिंह◾भारत और अमेरिका का तालिबान से आग्रह- अफगानों के मानवाधिकारों का सम्मान करते हुए प्रतिबद्धताओं को करें पूरा◾भारत-US ने 26/11 हमले के दोषियों पर कार्रवाई का किया आह्वान, कहा- आतंकवाद के खिलाफ एक साथ खड़े हैं◾BJP अध्यक्ष नड्डा बोले- PM मोदी के नेतृत्व में बदल रही है भारत की तस्वीर, तेजी से हो रहा विकास◾इमरान खान का अंतरराष्ट्रीय समुदाय से गुहार- तालिबान नीत अफगानिस्तान सरकार को दी जाए मान्यता ◾रोहिणी कोर्टरूम शूटआउट मामले की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस, परिसर के बाहर पुलिस बल तैनात ◾बाइडन की मोदी के साथ पहली बैठक से अमेरिकी संसद उत्साहित, क्वाड शिखर वार्ता का किया स्वागत ◾केरल में कांग्रेस को लगा एक और बड़ा झटका, प्रमुख नेता वी.एम. सुधीरन ने पीएसी छोड़ी ◾भाजपा जनसंख्या के अनुपात में पिछड़े वर्ग को हक़ नहीं देना चाहती : अखिलेश यादव ◾देशभर में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 29616 नए केस की पुष्टि, 290 लोगों की मौत◾क्वाड नेताओं ने बिना नाम लिए पाकिस्तान को लताड़ा, 'पर्दे के पीछे से आतंकवाद’ के इस्तेमाल की निंदा की◾जानिए कौन है स्नेहा दुबे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे पर की इमरान की बोलती बंद◾विश्व में जारी है कोरोना महामारी का प्रकोप, संक्रमितों का आंकड़ा 23.11 करोड़ से अधिक ◾UNGA में भारत का इमरान खान को मुंहतोड़ जवाब- पाकिस्तान तुरंत POK को खाली करे◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे न्यूयॉर्क, आज UNGA के 76वें अधिवेशन को करेंगे संबोधित ◾PM मोदी एक अक्टूबर को ‘स्वच्छ भारत मिशन शहरी 2.0’ की करेंगे शुरुआत : अधिकारी◾

TMC के सांसदों ने ममता बनर्जी को संसदीय दल की अध्यक्ष चुना

तृणमूल कांग्रेस के सांसदों ने पार्टी प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सर्वसम्मति से संसदीय दल की अध्यक्ष चुना है। दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की गई। इससे बनर्जी 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले राष्ट्रीय स्तर पर अन्य विपक्षी दलों के साथ समन्वय की स्थिति में होंगी।

2011 में मुख्यमंत्री बनने से पहले सात बार सांसद रहीं बनर्जी को संसदीय दल के अध्यक्ष के रूप में चुनने से महज दो दिन पहले ही उन्होंने 2024 के लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी सरकार को हराने की अपील की थी। बनर्जी संसद सदस्य नहीं हैं।

दिल्ली में संवाददाता सम्मेलन में राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि बनर्जी लंबे समय से तृणमूल संसदीय दल के पीछे प्रेरक शक्ति रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम वास्तविकता को औपचारिक रूप दे रहे हैं, बस। हमारी अध्यक्ष सात बार संसद सदस्य रही हैं। उनके पास वह दृष्टिकोण है जिससे वह संसदीय दल का मार्गदर्शन कर सकती हैं। उनके पास अनुभव और अंतर्दृष्टि है। वह वैसे भी हमारा मार्गदर्शन कर रही थीं।’’

तृणमूल कांग्रेस के नेता ने कहा कि यह निर्णय सैद्धांतिक एवं रणनीतिक स्तर पर लिया गया है। ओ ब्रायन ने कहा, ‘‘वह हमेशा संपर्क में रहती हैं। हम ज्यादा सशक्त महसूस कर रहे हैं।’’

पार्टी के सांसदों के साथ दिल्ली में तृणमूल कांग्रेस के महासचिव और बनर्जी के भतीजे की बैठक के एक दिन बाद यह निर्णय किया गया।

लोकसभा में टीएमसी के 22 सांसद हैं जो भाजपा, कांग्रेस, द्रमुक और वाईएसआर कांग्रेस के बाद निचले सदन में चौथी सबसे बड़ी पार्टी है। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस के 11 सदस्य हैं जो भाजपा और कांग्रेस के बाद तीसरी सबसे बड़ी पार्टी है।

टीएमसी राज्यसभा के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर राय ने कहा, ‘‘वर्तमान राजनीतिक स्थिति में यह काफी महत्वपूर्ण प्रगति है क्योंकि संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष की नियुक्ति से विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं तक पहुंच में मदद मिलेगी और देश भर में हमें अपना आधार बढ़ाने में भी सहयोग मिलेगा।’’

बहरहाल, उन्होंने कहा कि टीएमसी के संविधान के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति सांसद नहीं भी है तो उसके संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बनने में कोई दिक्कत नहीं है।

नयी दिल्ली के बनर्जी के दौरे से दो दिन पहले उन्हें संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया है जहां वह विपक्षी मोर्चा पर विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं से मुलाकात करने वाली हैं।

उनका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने का भी कार्यक्रम है।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि बनर्जी के अगला प्रधानमंत्री बनने का टीएमसी का सपना जल्द ही चकनाचूर हो जाएगा।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद से बनर्जी स्वयं को एक ऐसे नेता के तौर पर स्थापित करने का प्रयास कर रही हैं जो विपक्षी विमर्श की अगुवाई कर सके, एक ऐसा काम जो लंबे समय से कांग्रेस करती आ रही है।

संसद में कांग्रेस के घटते संख्या बल और वहीं दूसरी ओर विधानसभा चुनाव में तृणमूल की शानदार जीत एवं आम चुनाव में प्रदर्शन के बूते, दल विपक्ष की आवाज के तौर पर कांग्रेस की जगह लेना चाहता है।

बनर्जी को संसदीय दल की अध्यक्ष चुने जाने की घोषणा तृणमूल के शहीद दिवस कार्यक्रम के बाद हुई जिसमें विपक्षी दलों के शीर्ष नेता शामिल हुए थे।

ब्रायन ने कहा कि यह फैसला अवधारणात्मक और रणनीतिक दोनों ही स्तरों पर लिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘वह हमेशा साथ खड़ी होती हैं। हम और सशक्त महसूस कर रहे हैं।’’

तृणमूल नेता ने कहा कि पार्टी के सभी सांसदों ने बनर्जी को सर्वसम्मति से अपना नेता चुना है।