BREAKING NEWS

पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾

सारकेगुड़ जैसी घटनाओं को रोकने आदिवासी समाज को आगे आना चाहिये : अरविंद नेताम

छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ आदिवासी नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री अरविंद नेताम ने कहा है कि बस्तर के सारकेगुड़ जैसी जघन्य हत्याकांड की घटनाओं को रोकने की जिमेदारी आदिवासी समाज की भी है। इसलिए ऐसी घटनाओं की पुनरावृति को रोकने के लिए आदिवासी समाज को आगे आना चाहिए। 

श्री नेताम ने बताया कि सारकेगुड़ नरसंहार कांड पर न्यायिक आयोग की रिपोर्ट आने के बाद आदिवासी समाज व्यथित है। अक्सर नक्सली उन्मूलन के नाम पर जंगलों में आदिवासी मारे जाते हैं। ऐसी घटनाओं के विरोध में कुछ लोगों को छोड़कर पूरा समाज रहस्यमय चुप्पी साधे रहता है। फलस्वरूप निर्दोष आदिवासी मारे जा रहे हैं। 

उन्होंने फिर दोहराया कि आदिवासियों को संगठित होना चाहिए और सारकेगुड़ कांड जैसी घटना की पुनरावृति को रोकने के लिए आगे आना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज के द्वारा न्यायिक रिपोर्ट पर विचार विमर्श के लिए आज राजधानी रायपुर में एक बैठक का आयोजन किया गया है। इस बैठक में समाज यह निर्णय लेगा की आगे की रणनीति किस प्रकार की अख्तियार किया जाए। 

ज्ञात हो कि बस्तर के बीजापुर जिले में सन् 2012 में सारकेगुड़ ग्राम में पुलिस मुठभेड़ के दरमियान 17 आदिवासी मारे गए थे। इस मामले की जांच के लिए न्यायिक आयोग का गठन किया गया था जिसने अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंप दी है। इस रिपोर्ट में साफ -साफ कहा गया है कि मारे गए ग्रामीण नक्सली नहीं थे।