BREAKING NEWS

राकेश टिकैत ने हिंदू-मुस्लिम और जिन्ना को बताया सरकारी मेहमान, बोले-सरकार के प्रवचन में नहीं आना◾भगवा खेमे का अभेद्य किला बनी हुई है 'गोरखपुर सीट', अखिलेश ने शिवप्रताप को दिया खुला ऑफर, जानें रणनीति ◾अखिलेश के बयान पर भाजपा ने घेरा, पाकिस्तान को भारत का असली दुश्मन नहीं मानने का लगाया आरोप ◾अल्पसंख्यक समुदाय के साथ की आस में BJP, RSS की मुस्लिम शाखा ने चलाया अभियान, धर्म संसद पर कहा... ◾UP चुनाव: सियासी मझधार में सपा और सहयोगी दलों का गठबंधन, सीट बंटवारे को लेकर कशमकश की स्थिति ◾BJP गठबंधन वाले दलों को हड़पकर उन्हें खत्म कर देती है : नवाब मलिक◾योगी सरकार पर फिर बरसीं मायावती, कहा- भाजपा के शासन में धर्म संबंधी असुरक्षा लगातार बढ़ रही◾गणतंत्र दिवस: समारोह में एंट्री के लिए अहम निर्देशों का करना होगा पालन, जानें सुरक्षा तैयारियों की जानकारी ◾UP चुनाव : कैराना में अमित शाह ने तोड़े कोरोना नियम, EC के पास शिकायत लेकर पहुंची सपा ◾ओमीक्रॉन के आतंक के बीच हुई नए सब-वेरिएंट BA.2 की एंट्री, भारत में भी मौजूद, जानें कितना खतरनाक? ◾उद्धव के बयान पर बोली BJP-हिंदुत्व की नसीहत देने से पहले बाला साहब ठाकरे के विचारों पर करें मंथन◾उत्तर प्रदेश के स्थापना दिवस पर अमित शाह और जेपी नड्डा ने मांगा जनता का आशीर्वाद, ट्वीट कर दी बधाई◾UP चुनाव : अंतिम 3 चरणों के लिए उम्मीदवारों के नाम को लेकर दिल्ली में BJP का मंथन◾Today's Corona Update : गिरावट के बावजूद देश में 3 लाख से ज्यादा नए केस, 439 मरीजों की मौत◾कोरोना के आतंक के बीच ओमिक्रॉन वैरिएंट से किन लोगों को है मौत का खतरा, WHO ने दी विस्तृत जानकारी ◾World Corona Update: कोरोना के वैश्विक मामलों में इजाफे का सिलसिला जारी, 35.09 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित ◾यूक्रेन संकट के चलते अमेरिका और रूस में बढ़ी कड़वाहट, लोगों के लिए जारी की गई ट्रैवल एडवाइजरी ◾कड़कड़ाती ठंड का सितम अभी रहेगा जारी, दिल्ली में बारिश ने तोड़ा 122 साल का रिकॉर्ड, पहाड़ों पर भारी बर्फबारी◾नेताजी की प्रतिमा आने वाली पीढ़ियों को साहस, राष्ट्रभक्ति एवं बलिदान के लिए प्रेरित करेगी - अमित शाह ◾PM मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना - महान व्यक्तित्वों के योगदान को मिटाने का हुआ प्रयास , अब देश गलतियों को कर रहा है ठीक◾

मुर्शिदाबाद में तिहरे हत्याकांड ने राजनीतिक रंग लिया, संघ-BJP ने मृतक को अपना समर्थक बताया

10 अक्टूबर (भाषा) मुर्शिदाबाद में एक स्कूल शिक्षक और उसकी पत्नी तथा पुत्र की जघन्य हत्या के मामले ने बृहस्पतिवार को राजनीतिक रंग ले लिया और भाजपा ने ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा। वहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दावा किया कि शिक्षक आरएसएस से जुड़े थे।

भाजपा और संघ ने कहा कि प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक बंधु गोपाल पाल उनके सक्रिय सदस्य जरूर नहीं थे, लेकिन वह कभी-कभी संघ के साप्ताहिक मिलन कार्यक्रमों में भाग लेते थे। 35 वर्षीय शिक्षक, उनकी गर्भवती पत्नी ब्यूटी और आठ वर्षीय बेटे आंगन के शव मंगलवार को मुर्शिदाबाद के जियागंज में उनके घर में रक्तरंजित अवस्था में मिले थे। उस समय दुर्गा पूजा चल रही थी।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बुधवार को यहां कहा कि अज्ञात उपद्रवियों ने तीनों की हत्या कर दी। भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, ‘‘इससे ज्यादा जघन्य क्या हो सकता है? संघ के कार्यकर्ता बंधु प्रकाश पाल, उनकी गर्भवती पत्नी तथा उनके आठ वर्षीय पुत्र की मुर्शिदाबाद में नृशंस तरीके से हत्या कर दी गयी। किसी राज्य की कानून व्यवस्था की स्थिति को अच्छा कैसे माना जा सकता है जब आम आदमी की जान सुरक्षित नहीं है? दीदी आपके शासन में क्या हो रहा है।’’

विजयवर्गीय पश्चिम बंगाल के पार्टी मामलों के प्रभारी भी हैं। सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया क्योंकि मामले में जांच चल रही है। विजयवर्गीय ने बुधवार को दो भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या का विषय उठाते हुए इसमें तृणमूल कार्यकर्ताओं के शामिल होने का आरोप लगाया था। 

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने ट्वीट करके घर का वीडियो साझा किया जिसमें फर्श पर खून के धब्बे देखे जा सकते हैं। पात्रा ने ट्वीट किया, ‘‘चेतावनी : नृशंस वीडियो। इसने मेरी अंतरात्मा को झकझोर दिया है। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में संघ कार्यकर्ता बंधु प्रकाश पाल, उनकी आठ माह की गर्भवती पत्नी और बच्चे की नृशंस तरीके से हत्या कर दी गयी। उदारवादियों की तरफ से एक भी शब्द नहीं आया। 

59 उदारवादियों ने ममता को एक भी पत्र नहीं लिखा।’’ गौरतलब है कि देशभर के 49 जानेमाने लोगों ने जुलाई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर देश में भीड़हत्या की घटनाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। पुलिस ने मुर्शिदाबाद की घटना के मामले में जांच शुरू कर दी है और तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। 

स्थानीय लोगों के मुताबिक पाल परिवार करीब पांच साल पहले जियागंज में आकर बस गया था। एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक प्रथमदृष्टया ऐसा लगता है कि पाल परिवार की अज्ञात उपद्रवियों ने सोमवार रात हत्या कर दी। जब इलाके के लोगों ने मंगलवार को विजयदशमी पर स्थानीय पूजा पंडाल में उन्हें नहीं देखा तो उनके घर गये और दरवाजा अंदर से बंद मिला। तब उन्होंने पुलिस को सूचित किया। पुलिस ने दरवाजा तोड़ और तीनों के शव बरामद किए।