BREAKING NEWS

पाकिस्तान को भारत के साथ वार्ता से कभी गुरेज नहीं: विदेश कार्यालय ◾भारत में कोविड-19 के 1.77 करोड़ से अधिक टीके लगाए गए ◾भाजपा ने निर्वाचन आयोग से बंगाल के स्थानीय निकायों में नियुक्त राजनीतिक लोगों को हटाने की मांग की ◾तमिलनाडु : भाजपा ने चुनाव आयोग से किया अनुरोध, राहुल गांधी के चुनाव प्रचार करने पर लगाई जाए रोक◾फिल्म कंपनियों के हिसाब में 300 करोड़ की हेरा-फेरी, तापसी के पास से 5 करोड़ कैश लेने के सबूत मिले◾गृहमंत्री अमित शाह ने भाजपा सीईसी बैठक से पहले मोदी से की मुलाकात ◾जयशंकर ने द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने को लेकर बांग्लादेश के विदेश मंत्री के साथ की वार्ता ◾अहमदाबाद टेस्ट : भारतीय स्पिनरों ने झटके 8 विकेट, पहले दिन का खेल खत्म होने तक भारत का स्कोर 24/1 ◾EPFO - केंद्र ने तय की पीएफ पर ब्याज दर, छह करोड़ लोगों को मिलेगा लाभ ◾बंगाल BJP में पुराने नेताओं और नए शामिल होने वालों के बीच दरार ने बढ़ाई टेंशन, उभरी अंदरूनी कलह ◾अगले विधानसभा चुनाव में जीतेंगे 350 से ज्यादा सीटें, EVM सिस्टम करेंगे खत्म : अखिलेश यादव ◾UP विधानसभा के बाहर तैनात सब-इंस्पेक्टर ने खुद को मारी गोली, मौके पर ही मौत◾अहमदाबाद टेस्ट : इंग्लैंड की पहली पारी 205 रन पर ढेर , अक्षर ने झटके 4 विकेट◾शिवसेना पश्चिम बंगाल में नहीं लड़ेगी चुनाव, राउत ने कहा- 'शेरनी' ममता के साथ मजबूती से खड़ी है पार्टी◾केरल: BJP के CM उम्‍मीदवार होंगे ‘मेट्रो मैन’ ई श्रीधरन, हाल ही में हुए थे पार्टी में शामिल◾राहुल के मुहावरों का जावड़ेकर ने मुहावरों से दिया जवाब-सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली◾मोटे अनाजों को लोकप्रिय बनाने के लिए अग्रिम मोर्चे पर जुटा भारत सम्मानित महसूस कर रहा है : PM मोदी ◾झारखंड के जंगलों में IED ब्लास्ट में तीन जवान शहीद, दो घायल ◾कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्र की मजबूती पर सरकार का फोकस, योजनाएं छोटे किसानों के लिए बेहद लाभकारी : तोमर◾ईज ऑफ लिविंग : रहने के लिए सबसे अच्छे शहरों की रेस में बेंगलुरू रहा सर्वश्रेष्ठ, दिल्ली टॉप 10 में भी नहीं ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

MP विधानसभा उपचुनाव लड़ रहे तुलसीराम सिलावट एवं गोविन्द सिंह राजपूत ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्रीमंडल के दो वरिष्ठ मंत्रियों जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने संवैधानिक प्रावधानों के तहत राज्य के मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। 

मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बुधवार को इसकी पुष्टि की । 

गौरतलब है कि संविधान का अनुच्छेद 164 (4) कहता है, 'कोई मंत्री, जो लगातार छह महीने की अवधि तक राज्य के विधान-मंडल का सदस्य नहीं है तो वह उस अवधि की समाप्ति के उपरांत मंत्री पद पर नहीं रहेगा।' 

सूबे में सात महीने पहले सत्ता परिवर्तन के बाद इन दोनों को विधानसभा की सदस्यता के बगैर 21 अप्रैल को चौहान के पांच सदस्यीय मंत्रिमंडल में शामिल किया गया था और कोविड-19 के चलते तब से लेकर अब तक उपचुनाव नहीं हो पाने के कारण ये दोनों अब तक विधायक नहीं बन सके, जिस कारण उन्हें मंत्री पद छोड़ना पड़ा है । 

मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा क्षेत्रों में तीन नवंबर को उप चुनाव होने जा रहे हैं और इस उपचुनाव में सिलावट एवं राजपूत क्रमश: सांवेर तथा सुरखी विधानसभा सीटों से भाजपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। 

सिलावट का मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व लोकसभा सदस्य प्रेमचंद गुड्डू के साथ है, जबकि राजपूत का मुख्य मुकाबला कांग्रेस की प्रत्याशी पारूल साहू से है। पारूल हाल ही में भाजपा छोड़ कांग्रेस में गई हैं। इस उप चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आएंगे। 

इसी बीच, तुलसीराम सिलावट ने बुधवार को कहा कि उन्होंने संवैधानिक प्रावधानों के तहत राज्य के जल संसाधन मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। 

सिलावट ने संवाददाताओं को बताया, 'मुझे राज्य के मंत्री पद की शपथ लिए आज (बुधवार) छह महीने हो रहे हैं। मैंने संवैधानिक प्रावधानों के तहत कल (मंगलवार) ही मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।' 

उन्होंने कहा, 'मेरे लिए मंत्री पद महत्वपूर्ण नहीं है। मेरे लिए जनता की सेवा और राज्य की प्रगति महत्वपूर्ण है। मैं बिना मंत्री पद के भी जनता की सेवा कर सकता हूं।' 

सिलावट ने कहा, 'मैं (कमलनाथ की अगुवाई वाली) पिछली सरकार में भी मंत्री पद और विधानसभा की सदस्यता छोड़ चुका हूं।' 

पत्र में आगे कहा गया, 'कृपया मेरा त्यागपत्र आज दिनांक 20 अक्टूबर को अपरान्ह से स्वीकार करने का कष्ट करें।' 

वहीं, सूत्रों के अनुसार राजपूत ने भी मंगलवार को इस्तीफा दिया है। 

इससे पहले, वरिष्ठ राजनेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की सरपरस्ती में सिलावट एवं राजपूत समेत कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के विधानसभा से त्यागपत्र देकर भाजपा में शामिल होने के कारण तत्कालीन कमलनाथ सरकार का 20 मार्च को पतन हो गया था। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा 23 मार्च को सूबे की सत्ता में लौटी थी। 

भाषा रावत हर्ष रंजन