BREAKING NEWS

किसानो पर पुलिस बर्बरता शर्मनाक : प्रियंका◾नागरिकता विधेयक से लेकर आर्थिक सुस्ती पर विपक्ष के विरोध से शीतकालीन सत्र के गर्माने की संभावना ◾TOP 20 NEWS 17 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾मंत्री स्वाती सिंह के कथित आडियो पर प्रियंका गांधी ने सरकार को घेरा ◾अयोध्या मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड◾उपभोक्ता खर्च के आंकड़े छिपाने के आरोपों में चिदंबरम का केंद्र सरकार पर निशाना◾प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को वास्तविक मुद्दों पर फोकस करने का दिया निर्देश ◾सर्वदलीय बैठक में बोले PM मोदी- सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए हैं तैयार ◾गोताबेया राजपक्षे ने जीता श्रीलंका के राष्ट्रपति का चुनाव, PM मोदी ने दी बधाई◾उन्नाव में किसानों का प्रदर्शन, UPSIDC के अधिकारियों और वाहनों पर किया हमला ◾संसद के शीतकालीन सत्र से पहले प्रहलाद जोशी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, कई नेता हुए शामिल◾राउत और उद्धव ने बाला साहेब को दी श्रद्धांजलि, फडणवीस ने ट्वीट कर लिखा-स्वाभिमान की मिली सीख◾बैंकॉक में अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और राजनाथ सिंह के बीच हुई द्विपक्षीय बैठक◾दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में हुआ सुधार, नोएडा और गुरुग्राम में स्थिति फिलहाल गंभीर◾दिल्ली : ITO में लगे BJP सांसद गौतम गंभीर के लापता होने के पोस्टर◾वसीम रिजवी बोले- बगदादी और ओवैसी में कोई अंतर नहीं◾अयोध्या पर AIMPLB की बैठक आज, इकबाल अंसारी करेंगे बहिष्कार◾झारखंड विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने रांची में भाजपा से मुकाबला करने के लिए झामुमो को किया आगे◾महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾

अन्य राज्य

उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस पार्टी से दिया इस्तीफा, उत्तरी मुंबई सीट से लड़ा था लोकसभा चुनाव

कांग्रेस में शामिल होने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर के पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस ने उत्तरी मुंबई सीट से लोकसभा चुनाव में उन्हें उम्मीदवार चुना था। हालांकि चुनाव में उन्हें करारी कार का सामना करना पड़ा था। करीब छह माह पहले कांग्रेस में शामिल हुई उर्मिला ने ‘पार्टी के भीतर की तुच्छ राजनीति’ को कांग्रेस छोड़ने की वजह बताई। 

उन्होंने कांग्रेस पार्टी के टिकट पर उत्तर मुंबई सीट से चुनाव भी लड़ा था, जिसमें उनकी हार हुई। वह इस साल मार्च में कांग्रेस में शामिल हुई थीं। मातोंडकर का इस्तीफा कांग्रेस के लिए बड़ी शर्मिंदगी की तरह है, क्योंकि पार्टी को अगले महीने महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव का सामना करना है और वह इस समय अपने नेताओं को एकजुट रखने के लिए जूझ रही है। 

UNHRC को कश्मीर की स्थिति पर उदासीन नहीं रहना चाहिए : पाकिस्तान

मातोंडकर ने अपने बयान में कहा कि मुंबई कांग्रेस के मुख्य पदाधिकारी पार्टी को मजबूत बनाना चाहते नहीं हैं अथवा वे ऐसा करने में अक्षम हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। मेरी राजनीतिक और सामाजिक संवेदनाएं निहित स्वार्थों (वाले व्यक्तियों) को इस बात की इजाजत नहीं देती कि मुंबई कांग्रेस में किसी बड़े लक्ष्य पर काम करने के बजाय मेरा इस्तेमाल ऐसे माध्यम के रूप में किया जाए जिससे अंदरूनी गुटबाजी का सामना किया जा सके।’’

मातोंडकर ने कहा कि उनके मन में पहली बार इस्तीफा देने की बात तब आई जब मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा को 16 मई के लिखे पत्र में उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर 'कोई कार्रवाई' नहीं की गई। अपने पत्र में उन्होंने मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरूपम के करीबी सहयोगियों संदेश कोंदविल्कर और भूषण पाटिल के कृत्यों की आलोचना की थी। 

उन्होंने कहा, ‘‘उक्त पत्र में विशेषाधिकार प्राप्त और गोपनीय बातें थीं, जिसे आसानी से मीडिया में लीक कर दिया गया, जो मेरे अनुसार घोर विश्वासघात था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कहने की जरूरत नहीं है कि मेरे द्वारा लगातार विरोध के बावजूद पार्टी में किसी भी व्यक्ति ने माफी नहीं मांगी या मेरे प्रति कोई सरोकार नहीं दिखाया।’’ 

मातोंडकर ने दावा किया कि उत्तरी मुंबई में कांग्रेस के ‘‘घटिया प्रदर्शन’’ के लिए कुछ जिम्मेदार लोगों के नाम उन्होंने अपने पत्र में लिखे, लेकिन उनकी जवाबदेही तय करने की जगह उन्हें नए पदों के रूप पुरस्कार दिया गया। उन्होंने कहा, ‘‘यह स्वाभाविक है कि मुंबई कांग्रेस के मुख्य पदाधिकारी या तो अक्षम हैं अथवा बदलाव लाने और पार्टी की भलाई संगठन में परिवर्तन लाने के लिए संकल्पबद्ध नहीं हैं।’’ 

मातोंडकर के बयान में उनके अगले राजनीतिक कदम के बारे में कुछ नहीं कहा गया है। बहरहाल, उन्होंने कहा कि वह ‘‘विचारों एवं विचारधाराओं’’ के पक्ष में खड़ी हुई हैं तथा वह लोगों के लिए ‘‘ईमानदारी एवं गरिमा ’’ के साथ काम करती रहेंगी।