BREAKING NEWS

अनिल मेनन बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, बन सकते हैं चांद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय◾PM मोदी ने SP पर साधा निशाना , कहा - लाल टोपी वाले लोग खतरे की घंटी,आतंकवादियों को जेल से छुड़ाने के लिए चाहते हैं सत्ता◾ किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए राकेश टिकैत ने कही ये बात◾DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾

सरकार के दावे फेल, गुजरात में वैक्सीन की भारी किल्लत, भीड़ ने टीकाकरण केंद्र पर किया हुड़दंग

देश में कोरोना वायरस दूसरी लहर जारी है और इसका कहर अभी लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। बीते कुछ दिनों से भले ही कोरोना संक्रमण के नए मामलों में कमी आ रही हो, लेकिन इसका भयावह रुप मामूली सी लापरवाही पर फिर से हावी हो सकता है। दूसरी तरफ जब एक साथ कई लोग भीड़ का रुप लेकर इकट्ठा होकर जमकर उत्पात मचाएंगे तो कोरोना संक्रमण का खतरा तो फिर उभरेगा ही। 

गुजरात के अहमदाबाद शहर में बुधवार को कोविड-19 टीकों की कमी के बीच बड़ी संख्या में लोग टीकाकरण केन्द्रों में उमड़ पड़े, जिसके चलते अफरातफरी मच गई। अधिकारियों ने कहा कि अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) टीकों की कमी के कारण प्रतिदिन एक लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य हासिल करने के लिये संघर्ष कर रहा है।

अहमदाबाद के कई टीकाकरण केन्द्रों विशेषकर शहर के उत्तरी हिस्सों में लोग टीका लगवाने का टोकन लेने के लिये सुबह से कतारों में लगे दिखे। टोकन सीमित संख्या में वितरित किये रहे हैं। कई केन्द्रों ने तो बोर्ड लगा दिये, जिनपर लिखा था कि कोविशील्ड टीके उपलब्ध नहीं हैं।

यहां शहरी स्वास्थ्य केन्द्र पर एक लाभार्थी बोदकदेव ने कहा, ''मैं तड़के यहां आया गया था। इसलिये मुझे टीके के लिये टोकन मिल गया। वे 100 लोगों को ही टोकन देते हैं। मैं आज दूसरे दिन यहां आया और सौभाग्यवश टोकन मिल गया।'' खोखरा, अमराईवाड़ी और वस्त्राल जैसे विभिन्न स्थानों पर अन्य टीकाकरण केन्द्रों में भी लंबी कतारें दिखीं, जहां लोग टीका लगवाने सुबह जल्दी निकल पड़े।

एएमसी ने 20 जून को कहा था कि उसने राज्य सरकार द्वारा केन्द्र पर आकर पंजीकरण कराने की सुविधा रोकने के बाद प्रतिदिन एक लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है। बहरहाल, अधिकारियों ने कहा कि 21 से 29 जून के बीच वह 50 हजार का आंकड़ा तक पार नहीं कर पाया। एएमसी द्वारा साझा किये गए आंकड़ों के अनुसार 21 जून को शहर में 38,311 लोगों को टीका लगाया गया। 

इसके बाद अगले आठ दिन में टीकाकरण का आंकड़ा 39,541, 41,887, 41,390, 33,355, 27,509, 20,158, 22,506, और 25,289 रहा। एएमसी के चिकित्सा अधिकारी भाविन सोलंकी ने कहा, Òहमें टीकों की आपूर्ति कम हो रही है, फिर भी हम आपूर्ति के आधार पर लोगों का टीकाकरण कर रहे हैं, जो हर दिन बदलती रहती है। 

कल हमें 35,000 खुराक मिलीं। कुछ दिन हमें 20,000 या 13,000 खुराक भी मिलती हैं। ऐसा ही हाल राजकोट के कुछ केंद्रों पर भी देखने को मिला। लोगों ने टीकाकरण में अनियमितताओं और उचित व्यवस्था की कमी की शिकायत की, जिसके कारण वे टीका नहीं लगवा पाए।