BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾

वेंकैया नायडू बोले- प्रशासन केंद्रीकृत होना चाहिए, विकास विकेंद्रित

आंध्र प्रदेश की ‘तीन राजधानियां’ बनाने की मुख्यमत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी की योजना से असहमति जताते हुए उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु ने बुधवार को कहा कि प्रशासन को केंद्रीकृत होना चाहिए, जबकि विकास विकेंद्रित होना चाहिए। उपराष्ट्रपति ने कहा कि राज्य सचिवालय, उच्च न्यायालय और विधानसभा एक जगह पर होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि इसके बारे में राज्य सरकार को ही निर्णय करना है। 

नायडु ने अतुकुरु में अपने परिवार द्वारा संचालित स्वर्ण भारत ट्रस्ट में मीडियाकर्मियों के साथ एक अनौपचारिक वार्ता में कहा, "मैं अपने 42 वर्षों के (राजनीतिक) अनुभव के आधार पर ऐसा कह रहा हूं। इसे राजनीति या विवाद के नजरिए से न देखिए।"

पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री ने संकेत दिया था कि दक्षिण अफ्रीका की तर्ज पर राज्य की तीन राजधानियां हो सकती हैं, जहां कार्यकारी राजधानी विशाखापत्तनम में होगी, विधायी राजधानी अमरावती में होगी और न्यायिक राजधानी कुरनूल में होगी। 

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सुशासन का संकल्प लेने की अपील के साथ अटल जी को दी श्रद्धांजलि

इसके बाद खासतौर से अमरावती क्षेत्र में विरोध प्रदर्शन देखने को मिला, जहां किसानों ने राजधानी के निर्माण के लिए अपनी 33,000 एकड़ उर्वर कृषि भूमि दी है। अब वे राज्य सरकार के कदम का विरोध कर रहे हैं। किसानों ने मंगलवार को उपराष्ट्रपति से भेंट की और उनसे अनुरोध किया कि वह ध्यान दें कि राजधानी कहीं और न बने। 

नायडू ने कहा, "राज्य के दो हिस्सों में विभाजित होने के बाद, जब मैं केंद्रीय मंत्री था, मैंने यह कोशिश की कि विभिन्न राष्ट्रीय संस्थान राज्य के अलग-अलग हिस्सों में बनाए जाएं।" उन्होंने कहा कि इस तरह विकास विकेंद्रित होना चाहिए, लेकिन मेरा दृढ़ विश्वास है कि सभी प्रशासनिक कार्य एक जगह पर होने चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर केंद्र सरकार ने उनसे पूछा तो वह इसी के पक्ष में राय देंगे। इसके साथ ही नायडू ने प्राथमिक शिक्षा में मातृ भाषा को प्रमुखता देने की बात कही।