BREAKING NEWS

महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾

बंगाल में पांचवें चरण में 45 सीटों पर कल होगा मतदान, सुरक्षा के मद्देनजर केन्द्रीय बलों की 853 कम्पनियां तैनात

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के महत्वपूर्ण पांचवें चरण के लिए शनिवार को कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान शुरू होगा। राज्य विधानसभा की 294 सीटों में से 45 सीटों पर कल मतदान होगा, जिसमें मतदाता 319 उम्मीदवारों के भाग्य को चुनावी पेटी में बंद करेंगे।

इस चरण में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के प्रदर्शन को महत्वपूर्ण माना जा रहा है जिससे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी दो मई को लगातार तीसरे कार्यकाल के लिए बंगाल की मुख्यमंत्री के रूप में वापसी करेंगी या नहीं यह तय होगा। राज्य में पांचवें चरण में छह जिलों और 45 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होंगे। इन जिलों में 17 अप्रैल को मतदान होना है उनमें उत्तरी परगना पार्ट-एक, दार्जिलिंग, कलिम्पोंग, पूर्वी वर्द्धमान पार्ट-एक और जलपाईगुडी है।

राज्य में पांचवें चरण के मतदान में मतदाता 319 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे, जिनमें से 39 महिला प्रत्याशी भी हैं। मतदान में 1.12 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे जिनमें से 55.80 लाख महिला और 234 उभयलिंग हैं बाकी पुरूष मतदाता हें। मतदान के लिए 15,789 मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं। चुनाव आयोग (ईसी) ने इस चरण के लिए अभियान की मूक अवधि को 24 घंटे बढ़ाने का फैसला किया था और इसलिए यह अभियान एक दिन पहले बुधवार को समाप्त हुआ।

यह निर्णय पिछले शनिवार को चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार जिले में सीतलकुची विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 126 में भीड़ के हंगामे और गोलीबारी की घटना को देखते हुए लिया गया। जिसमें दो अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की जान चली गयी थी। चुनाव आयोग ने राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित करने के लिए व्यापक सुरक्षा का बंदोबस्त किया है और केन्द्रीय और राज्य बलों को इसके लिए तैनात किया गया है। जिसमें केन्द्रीय बलों की 853 कम्पनियां तैनात की गयी है।

इस चरण में पिछले चरण के मुकाबले अधिक सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। इससे पहले चौथे चरण में 44 सीटों के लिए मतदान के लिए 789 कंपनियों को तैनात किया गया था। चुनाव अयोग के सूत्रों ने बताया कि 853 कंपनियों में से केवल 283 कंपनियां 24 परगना जिला के लिए की गयी है। यह सुरक्षा व्यवस्था इस उद्देश्य के लिए है कि कूच बिहार जैसी घटना फिर से न हो, जहां कई लोगों ने हिंसा के दौरान अपनी जान गंवा दी।

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने गुरुवार को निर्देश दिया था कि कोविड-19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर बंगाल विधानसभा चुनावों के लिए राजनीतिक दलों द्वारा प्रचार करने के संबंध में सभी स्वास्थ्य संबंधी दिशा-निर्देशों का सख्ती के साथ पालन किया जाना चाहिए।

अमित शाह ने राहुल को बताया ‘पर्यटक राजनेता’, कहा- दीदी मतुआ समुदाय को नहीं देगी नागरिकता