BREAKING NEWS

आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और सपा अपना गढ़ भी बचा नहीं पाएंगी : केशव प्रसाद मौर्य◾चीनी जहाज 'युआन वांग 5' के कप्तान का बड़ा दावा, कहा- शांति और मैत्री मिशन पर है यह जहाज ◾सीएम धामी ने लॉन्च की अग्निपथ योजना, 19 अगस्त को कोटद्वार में भर्ती रैली◾दिल्लीः कोरोना के मामलों में वृद्धि के बीच अस्पतालों में दो गुना बढ़ी मरीजों की संख्या, जानिए बैड्स का हाल ◾मुझे उन अधिकारियों की सूची दें जो भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं की बात नहीं सुनते : योगी आदित्यनाथ ◾भारत के लिए प्रदूषण बना बड़ी चिंता! दिल्ली में हर साल हजारों की जाती है जान ◾जम्मू-कश्मीरः मुठभेड़ के बाद फरार आतंकवादियों की तलाश में जुटी पुलिस, हाई अलर्ट पर सुरक्षाबल ◾हिमाचल प्रदेश : कांग्रेस के दो विधायकों ने की भाजपा की सदस्यता ग्रहण, मुख्यमंत्री जयराम ने किया स्वागत◾थाईलैंड के विदेश मंत्री के साथ एस. जयशंकर ने की खास बातचीत, जानिए किन मुद्दों पर हुई चर्चा ◾दिल्ली में रोहिंग्या मुसलमानों को फ्लैट देने का नहीं दिया कोई निर्देश : केंद्रीय गृह मंत्रालय ◾दिल्ली के बक्करवाला के अपार्टमेंट में भेजे जाएंगे रोहिंग्या शरणार्थी, पुलिस सुरक्षा भी कराई जाएगी मुहैया : हरदीप सिंह पुरी◾अब रोहिंग्या शरणार्थियों के पास होगा रहने का ठिकाना, केंद्र के फैसले पर AAP हमलावर, BJP नाखुश◾उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक ने किया ब्याज दरों में इजाफा, वरिष्ठ नागरिकों के लिए दर 0.50 प्रतिशत से बढ़कर 0.75◾MP मंत्री तुलसीराम की कार को ट्रक ने मारी टक्कर, बाल-बाल बचा परिवार ◾उत्तर प्रदेश की 10 हजार बेटियों को दी जाएगी 'Self Defense' की ट्रेनिंग : यूपी सरकार ◾राजस्थान : रामदेवरा मेले में आने लगे श्रद्धालु, 35 लाख से अधिक भक्तों के आने की उम्मीद◾बीजेपी ने पार्टी के संसदीय बोर्ड में किया बड़ा बदलाव, गडकरी और चौहान को हटाकर इन नोताओं को किया शामिल ◾गुजरातः चुनावों से पहले कांग्रेस के दो नेता भाजपा में शामिल, बीजेपी ने किया भगवा अंगवस्त्र और टोपियां देकर स्वागत ◾CM केजरीवाल ने की ‘मेक इंडिया नंबर 1’ अभियान की शुरुआत, कहा-इसका राजनीति से कोई संबंध नहीं◾कचरा बनी बागमती, मानी जाती है नेपाल की सबसे पवित्र नदी ◾

हमारा दिल्ली में कोई गॉडफादर नहीं.. हम योग्यता पर करते हैं काम, हार्दिक पटेल ने साधा कांग्रेस पर निशाना

गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल के कांग्रेस से बढ़ते मनमुटाव के बीच ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होंगे, हालांकि कांग्रेस नेता ने अटकलों पर विराम लगाते हुए आज कहा कि अफवाहें राजनीति का हिस्सा हैं और राज्य में पार्टी के मामलों के बारे में उनकी शिकायतें आंतरिक मुद्दे हैं और उन्हें उम्मीद है कि पार्टी जल्द ही इसका समाधान भी करेगी। गुजरात में आने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी के लिए इस मसले का सुलझना जरूरी है। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और सोनिया गांधी का नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें गांधी परिवार के साथ कोई समस्या नहीं है, लेकिन वह गुजरात कांग्रेस द्वारा हो रही अनदेखी के खिलाफ आवाज उठाएंगे। 

मुझे गांधी परिवार से कोई परेशानी नहीं है :हार्दिक पटेल 

उन्होंने कहा, "हम अलग प्रकार के राजनेता हैं क्योंकि हम राजनीतिक परिवारों से नहीं आते हैं। हमने कड़ी मेहनत की है और गुजरात में अपनी पहचान बनाई है। हम चुनाव से पहले नेतृत्व पर आकर्षक पद पाने के लिए दबाव नहीं बनाना चाहते हैं।"  जो महत्वपूर्ण है वह यह है कि आप मुझे कुछ भी स्पष्ट रूप से नहीं बता रहे हैं, कांग्रेस ने भले ही मुझे कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया लेकिन मेरी जिम्मेदारी तय नहीं है। उन्होंने कहा कि अब चुनाव भी सिर्फ कुछ महीने ही दूर हैं और लोग यह जानना चाहते हैं कि मेरे आखिर क्या रोल है। उन्होंने कहा कि मैं 8,000 गांवों में गया हूं और लोगों की अपेक्षाओं को समझने का काम किया है।

हार्दिक पटेल बोले- साफ़ करें पार्टी में मेरी भूमिका 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 1990 के बाद पहली बार राज्य में 80 से अधिक सीटें जीती हैं, उन्होंने कहा कि राज्य में विपक्ष की मौजूदगी। उन्होंने कहा, "अगर आपने मुझे कार्यकारी अध्यक्ष बनाया है तो आपको भी जिम्मेदारियों को स्पष्ट रूप से परिभाषित करना चाहिए जैसा आपने अन्य सभी राज्यों में किया है। दो साल हो गए हैं, आप मेरी जिम्मेदारियां क्यों नहीं तय कर सकते? उन्होंने मेरे साथ राज्य में अभी तक एक भी बड़ी प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन नहीं किया है।" उन्होंने कहा, अपने पद से जुड़ी अस्पष्टता से मैं निराश हूं।

हालही में राहुल गांधी ने किया था गुजरात दौरा

पटेल ने कहा कि राहुल गांधी ने लगभग 15 दिन पहले उन्हें संदेश भेजकर पूछा था कि मामला क्या है और उन्होंने इसे खुलकर साझा किया। हालांकि आलाकमान की ओर से कोई जवाब नहीं आया। हार्दिक पटेल ने कहा, "वह हाल ही में गुजरात में थे, लेकिन मुझे लगता है कि वह बहुत व्यस्त थे। एक बार जब वह फ्री हो जायेंगे तो वह मुझसे बात करेंगे।" उन्होंने कहा, "दिल्ली में मेरा कोई गॉडफादर नहीं है जो मेरी मदद कर सके, मुझे अपनी योग्यता पर काम करना है।" पटेल ने राजस्थान के उदयपुर में पार्टी के आगामी "चिंतन शिविर" में भी बहुत आशा व्यक्त की और कहा कि विचार-मंथन सत्र से बहुत सारे नए विचार और स्पष्टता की उम्मीद है, जो गुजरात की पहेली को भी संबोधित करेगा।