BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका में ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष से मुलाकात की◾कोलकाता नाइट राइडर्स ने मुंबई इंडियंस को सात विकेट से हराया◾मोदी ने की अमेरिकी सौर पैनल कंपनी प्रमुख के साथ भारत की हरित ऊर्जा योजनाओं पर चर्चा◾सेना की ताकत में होगा और इजाफा, रक्षा मंत्रालय ने 118 अर्जुन युद्धक टैंकों के लिए दिया आर्डर ◾असम के दरांग जिले में पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच में झड़प, 2 प्रदर्शनकारियों की मौत,कई अन्य घायल◾दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए घर पर ही की जाएगी टीकाकरण की सुविधा, केंद्र सरकार ने दी मंजूरी◾अमरिंदर का सवाल- कांग्रेस में गुस्सा करने वालों के लिए स्थान नहीं है तो क्या 'अपमान करने' के लिए जगह है◾तेजस्वी का तंज- 'नल जल योजना' बन गई है 'नल धन योजना', थक चुके हैं CM नीतीश ◾अमरिंदर के राहुल, प्रियंका को ‘अनुभवहीन’ बताने पर कांग्रेस ने कहा - बुजुर्ग गुस्से में काफी कुछ कहते है ◾जम्मू-कश्मीर : सेना का बड़ा ऑपरेशन, LoC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, तीन आतंकवादी ढेर◾आखिर किसने उतारा महंत नरेंद्र गिरी का शव, पुलिस के आने से पहले क्या हुआ शिष्य ने किया खुलासा ◾गैर BJP शासित राज्यों के राज्यपालों को शिवसेना ने बताया 'दुष्ट हाथी', कहा- पैरों तले कुचल रहे हैं लोकतंत्र ◾'धनबाद के जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारी गई थी टक्कर', CBI ने झारखंड HC को दी जानकारी◾महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI◾दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्र ने कहा - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है, यह पारदर्शिता से काम करता है◾अमेरिकी मीडिया में छाई पीएम मोदी और कमला हैरिस की मुलाकात, भारतीय अमेरिकियों के लिए बताया यादगार क्षण◾फोटो सेशन के लिए विदेश जाने की बजाए कोरोना मृतकों के लिए 5 लाख का मुआवजा दे PM : कांग्रेस ◾कांग्रेस में जारी है असंतुष्टि का दौर, नाराज जाखड़ पहुंचे दिल्ली, राहुल-प्रियंका समेत कई नेताओं से करेंगे मुलाकात ◾हिंदू-मुस्लिम आबादी पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने समझाया अपना 'गणित'◾अनिल विज का आरोप, भविष्य में पंजाब और PAK को नजदीक लाना चाहती है कांग्रेस◾

बंगाल: गलती से सीख लेते हुए भाजपा बनाएगी स्क्रीनिंग टीम, बढ़ते असंतोष के चलते उठ रही फेरबदल की मांग

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों में हार के बाद  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में अंतर कलह का दौर शुरू हो गया है। चुनावों में तृणमूल कांग्रेस की बंपर जीत के बाद से ही भाजपा में राजनीतिक ऊधेड़बुन सामने आने लगी है और इस पर बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने भी गहरी चिंता व्यक्त की है। जानकारी के अनुसार, प्रदेश में पनपे असंतोष को दबाने के लिए बड़े तौर पर संगठन में बदलाव की संभावना बन रही है।

प्रदेश भाजपा अन्य दलों के नेताओं को शामिल करने के लिए एक ‘‘निगरानी अवधि’’ (स्क्रीनिंग विंडो) बनाने और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के उप-राष्ट्रवाद से मुकाबले के लिए अपनी अखिल भारतीय नीति के साथ ‘‘बंगाल को लेकर विशिष्ट राजनीतिक लाइन’’ अपनाने पर विचार कर रही है। भाजपा ने पार्टी के कुशल कार्यकर्ताओं और नेताओं को पुरस्कृत करके संगठन को नया रूप देने और स्थानीय और जिला स्तर के कई दलबदलुओं को हटाने का फैसला किया है। 

पार्टी ने दोतरफा दृष्टिकोण के साथ असंतोष पर लगाम लगाने का भी फैसला किया है। चुनाव में हार, बढ़ती अंदरूनी कलह और नेताओं-कार्यकर्ताओं के पार्टी छोड़ने के मद्देनजर ये कदम उठाए जाएंगे। हाल में मुकुल रॉय भाजपा छोड़कर वापस तृणमूल कांग्रेस में चले गए थे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि मई में विधानसभा चुनावों में हार के बाद प्रदेश भाजपा में असंतोष बढ़ गया है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के बीच अनबन जारी है, जो एक-दूसरे को विफलता के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने बताया, ‘‘संगठन के विभिन्न स्तरों पर कुछ बदलावों के लिए चर्चा चल रही है। कुछ मुद्दे हैं। इस तरह की बातें नहीं होतीं तो ज्यादा अच्छा होता।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या भगवा पार्टी के खिलाफ खुलकर बोलने वाले असंतुष्टों और तृणमूल कांग्रेस छोड़कर पार्टी में आने वालों के खिलाफ भाजपा कार्रवाई करेगी, घोष ने कहा, ‘‘पार्टी अनुशासन से ऊपर कोई नहीं है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘कुछ लोग ऐसे भी हैं जो भाजपा के सत्ता में आने पर कुछ पाने की उम्मीद में पार्टी में शामिल हुए थे। लेकिन अब, जैसा कि हम असफल रहे हैं, वे एक अलग स्वर में बोल रहे हैं। हम सभी को पार्टी के नियमों और अनुशासन का पालन करना होगा।’’ पार्टी सूत्रों ने कहा कि टीएमसी से आए राजीब बनर्जी और सौमित्र खान जैसे नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने के कारण नाराजगी बढ़ रही है। वहीं, सोनाली गुहा, सरला मुर्मू, दीपेंदु विश्वास और बच्चू हंसदा जैसे कई अन्य नेताओं ने टीएमसी में लौटने की इच्छा व्यक्त की है। 

विधानसभा चुनाव की गलतियों से सीखते हुए भाजपा ने एक 'स्क्रीनिंग टीम' (जांच दल) बनाने का फैसला किया है, जिसकी मंजूरी पार्टी में शामिल होने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति के लिए अनिवार्य होगी। प्रदेश भाजपा के एक अन्य नेता ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय पार्टी होने के नाते, हमारे पास क्षेत्रीय पार्टी की तरह एक दृष्टिकोण नहीं हो सकता है, लेकिन राज्य में टीएमसी से मुकाबले के लिए हमारी पार्टी की राष्ट्रीय नीति के साथ बंगाल-विशिष्ट राजनीतिक लाइन होगी।’’