BREAKING NEWS

दिल्ली मेट्रो में हुई कोरोना की एंट्री, 20 कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि◾'विश्व पर्यावरण दिवस' पर PM मोदी का खास सन्देश, कहा- जैव विविधता को संरक्षित रखने का संकल्प दोहराएं◾उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में ट्रक और स्कॉर्पियो की भीषण टक्कर, 9 लोगों की मौत◾World Corona : दुनिया में पॉजिटिव मामलों की संख्या 66 लाख के पार, अब तक करीब 4 लाख लोगों की मौत ◾कोविड-19 : देश में 10 हजार के करीब नए मरीजों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 27 हजार के करीब ◾Coronavirus : अमेरिका में संक्रमितों का आंकड़ा 19 लाख के करीब, अब तक एक लाख से अधिक लोगों की मौत ◾अदालती आदेश का अनुपालन नहीं करने पर CM केजरीवाल के खिलाफ कोर्ट में अवमानना याचिका दायर ◾महाराष्ट्र : निसर्ग तूफान पर मुख्यमंत्री ठाकरे ने की समीक्षा बैठक, दो दिन में नुकसान की रिपोर्ट पूरी करने के दिए निर्देश ◾वंदे भारत मिशन के शुरू होने से अबतक विदेश में फंसे 1.07 लाख से ज्यादा भारतीय स्वदेश वापस आए : विदेश मंत्रालय ◾दिल्ली : पटेल नगर से आप विधायक राजकुमार आनंद कोरोना पॉजिटिव, खुद को किया होम क्वारनटीन◾केंद्र सरकार ने जारी किया राज्यों का जीएसटी मुआवजा, दिए 36,400 करोड़ रुपये◾महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,932 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 77 हजार के पार, अकेले मुंबई में 44 हजार से ज्यादा केस◾INX मीडिया मामले में पी चिदंबरम को बड़ी राहत, SC ने खारिज की जमानत पर सीबीआई की पुनर्विचार याचिका◾देशभर में कोरोना के 1,06,737 सक्रिय मामले, रिकवरी दर 47.99 फीसदी हुई : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾फिल्ममेकर बासु चटर्जी के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने जताया शोक ◾ विजय माल्या का प्रत्यर्पण जल्द होने की संभावना कम, ब्रिटेन सरकार ने कानूनी मुद्दे का दिया हवाला ◾मोदी-मॉरिसन ऑनलाइन शिखर बैठक के बाद भारत, ऑस्ट्रेलिया ने महत्वपूर्ण रक्षा समझौते किये ◾केंद्र ने 2200 से अधिक विदेशी जमातियों को किया ब्लैक लिस्ट, 10 साल तक भारत यात्रा पर रहेगा बैन◾दिल्ली बॉर्डर सील मामले में SC ने तीनों राज्यों को NCR में आवागमन के लिए कॉमन नीति बनाने के दिए निर्देश◾वर्चुअल समिट में PM मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने के लिए जाहिर की प्रतिबद्धता ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बजट अभिभाषण में रचूंगा इतिहास, सरकार और राजभवन के बीच विवाद के संकेत: राज्यपाल धनखड़

शांतिनिकेतन : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह बजट सत्र की शुरुआत में विधानसभा में अपने अभिभाषण से ''इतिहास कायम'' करेंगे। उनके इस बयान से राजभवन और तृणमूल कांग्रेस सरकार के बीच एक और विवाद खड़ा होने के संकेत मिल रहे हैं। पश्चिम बंगाल विधानसभा का बजट सत्र शुक्रवार से शुरू होगा। तृणमूल कांग्रेस ने धनखड़ के इस बयान पर तुरंत प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह जानबूझकर राजभवन और राज्य सरकार के बीच समस्याएं पैदा कर रहे हैं। 

धनखड़ ने यहां पत्रकारों से कहा, ''मैं पहली बार बजट सत्र के दौरान विधानसभा में अभिभाषण दूंगा। मुझसे पहले विधानसभा में बजट सत्र में अभिभाषण देने वाले मेरे पूर्ववर्ती आजादी से पहले पैदा हुए थे। मैं अभिभाषण देने वाला आजादी के बाद पैदा हुआ पहला राज्यपाल बनूंगा। मैं कल इतिहास रचूंगा।'' उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के पास अधिकार है कि वह राज्यपाल के अभिभाषण में अपनी उपलब्धियों को आगे रखे। 

धनखड़ ने कहा, ''मैंने भी राज्यपाल होने के नाते, राज्य के संवैधानिक प्रमुख के रूप में कुछ सुझाव दिये हैं। मैं इस बात का खुलासा नहीं करूंगा कि वे सुझाव क्या हैं। मुझे लगता है कि इन सुझावों को मेरे अभिभाषण में रखा जाएगा।'' इससे एक दिन पहले धनखड़ ने कहा था कि वह सात फरवरी को शुरू हो रहे बजट सत्र में पढ़े जाने वाले अपने भाषण में बदलाव कर सकते हैं। 

धनखड़ के बयान पर ममता बनर्जी सरकार ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। राज्य की मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने कहा कि वह जानबूझकर समस्याएं पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। भट्टाचार्य ने कहा, ''हम सभी जानते हैं कि वह जानबूझकर समस्याएं पैदा करने की कोशिश कर रहे है और यही वजह है कि वह कई बार अपनी सीमाएं पार कर चुके हैं। वह केन्द्र सरकार के आदेशों के अनुसार काम कर रहे हैं। '' 

नियमों के अनुसार, बजट सत्र के दौरान पढ़ा जाने वाला राज्यपाल का भाषण राज्य सरकार तैयार करती है, जिसमें सरकार के नीतिगत फैसलों का जिक्र होता है। तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि नियमों के अनुसार सरकार की मंजूरी से लिखे गए भाषण से अलग जो कुछ भी राज्यपाल पढ़ेंगे, वह रिकॉर्ड नहीं किया जाएगा। वहीं राजभवन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सरकार ने कहा कि जो भाषण तैयार किया है वही अंतिम है। बयान में कहा गया है कि राज्यपाल संविधान के प्रावधानों के अनुसार इस मुद्दे से निपटेंगे और वह कभी भी लक्ष्मण रेखा पार नहीं करेंगे। 

दरअसल, धनखड़ के राज्यपाल बनने के बाद से ही राजभवन और राज्य सरकार के बीच कई मुद्दों पर टकराव सामने आता रहा है। ऐसे में राज्यपाल के इस बयान से एक और विवाद की सुगबुगाहट तेज हो गई है।