भारतीय इतिहास के 5 खतरनाक गैंगस्टर कुछ मुख्य बातें


भारत में 70-90 के दशक में गैंगस्टर की दुनिया अपने नए चरम पर थी। उस वक्त में मुबंई की झोपडिय़ों और चौलों में नए-नए अपराध पैदा हो रहे थे। यही वक्त भी था इन अपराधों के साथ ऐसे नाम भी पैदा हो रहे थे जो आगे चलकर अपराधों की दुनिया के बड़े नाम बने थे। बता दें की इन गैंगस्टर ने अपने अपराधों की शुरूआत छोटी-मोटी चोरियों से की थी जैसे की किसी भी फिल्म की टिकट को ब्लैक में बेचना आदि।

जैसे एक इंसान के सपने बड़े-बड़े होते हैं वैसे ही इन गैंगस्टर के ख्याब भी बड़े-बड़े होने लगे। और यह आगे चल कर मुंबई अंडरवल्र्ड के बेताज बादशाह बन गए। इन गैंगस्टर के जीवन की कुछ ऐसी बातें हैं जो आपने कभी भी नहीं सुनी होगी। आज हम उनके जीवन की ऐसी कुछ बातों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। इन गैंगस्टर्स ने जुर्म की काली दुनिया में अपनी बादशाहत बनाई और काफी समय तक उस बादशाहत को कायम भी रखा और दुनिया पर राज किया।

चलिए जानते हैं कुछ खतरनाक गैंगस्टर्स के जीवन के बारे में –

1) दाऊद इब्राहिम

दाऊद इब्राहिम का वैश्विक आतंकवादी नेट वर्थ 6.7 बिलियन है। दाऊद इब्राहिम के ऐसे नाम हैं जुर्म की दुनिया का जिसे हर कोर्ई जानता है। भारत में ही इसने अपने जुर्म की दुनिया को पैदा किया था। भारत में तो आपको ऐसा हर इंसान मिल जाएगा जो दाऊद इब्राहिम को नहीं जानता होगा सब ही जानते हैं इस जुर्म का शैतान भी माना जाता है। दाऊद डी-कंपनी के संस्थापक थे। दाऊद जुर्म की दुनिया में इतना खतरनाक नाम बन गया था कि खतरनाक गैंगस्टर्स की लिस्ट में उनका नाम तीसरे नंबर पर आता है। बता दें कि दाऊद और अलकायदा के संबंध के बारे में भी काफी बातें सामने आती रहती हैं कि दाऊद के काफी अच्छे संबंध रह चुके हैं अलकायदा से।

यह भी बोला जाता है कि दाऊद ओसामा-बिन-लादेन से भी मिले हुए हैं और ओसामा को वह व्यक्तिगत तौर पर भी जानते हैं। यह भी बताया जाता है कि दाऊद इस वक्त पाकिस्तान में हैं और उन्हें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने पनहा दे रखी है। यह भी कहा जाता है कि दाऊद और आईएसआई के बीच काफी अच्छा सार्वजनिक रिश्ता है। भारत आज तक दाऊद को पकड़ नहीं पाया है। मुंबई में 2008 में ब्लास्ट हुआ था उसमें भी दाऊद इब्राहिम का नाम था। और साथ ही 1993 में मुबंई बम धमाकों के पीछे भी दाऊद इब्राहिम का हाथ और दिमाग था।

2) हाजी मस्तान

बता दें कि हाजी मस्तान भारत का सिर्फ सेलिब्रिटी गैंगस्टर नहीं है बल्कि वह एक फिल्म निर्माता भी था। हाजी मस्तान के कुख्यात गैंगस्टर था लेकिन आपको बता दें कि वह बिल्कुल भी खतरनाक नहीं था। हाजी मस्तान ने मुंबई में 20 सालों तक राज किया था। हाजी ने अपने इतने बड़े सफर में किसी के साथ भी लड़ाई नहीं की थी। हाजी को बॉलीवुड की फिल्मों से काफी प्यार था। जितना भी हाजी ने तस्करी से पैसा कमाया था उन्होंने उसे फिल्में बनाने के लिए इस्तेमाल किया था। जाहिर है कि उन्हें अपनी फिल्मों में बॉलीवुड के फेमस एक्टर्स को कास्ट करने का सोचा था। आपको बता दें कि 1975 में आई फिल्म देवर और फिल्म ‘वन्स अपॉन ए टाइम इन’ हाजी मस्तान पर ही आधारित थी।

3) मन्या सुर्वे

मनोहर अर्जुन सुर्वे सामान्यत मन्या सुर्वे के नाम से जाना जाता है मुंबई के अंडरवर्ल्ड की दुनिया पर छाप छोड़ने वाला वह एक डॉन था उस समय मन्या अपनी शैतानी हिम्मत और रणनीतिक योजनाओ के लिए जाना जाता था।

4) अरुण गौली

गवली एक माफिया नेताओं में से एक थे जो राजनीतिज्ञ बन गए थे। अखिल भारतीय सेना के राजनीतिक दल के संस्थापक गवली ने अपने राजनीतिक मुखौटा के तहत अपहरण के लोगों का व्यवसाय चलाया उन्हें उत्पीड़न पैसे उगाहने और फिर उन्हें हत्या कर दिया समय और फिर उनके घर और कार्यालयों पर पुलिस ने बार बार छापा मारा और फिर से उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन उन्हें लंबे समय तक हिरासत में नहीं लिया जा सका आखिरकार उनकी किस्मत 2012 में खत्म हुई जब उन्हें हत्या के लिए दोषी ठहराया गया और जीवन के लिए कैद किया गया।

5) शबिर इब्राहिम कास्कर

शबिर इब्राहिम दाऊद का बड़ा भाई था। शबिर के पिता पुलिस हेड कांस्टेबल थे और यह अपने परिवार में सबसे बड़े बेटे थे। शबिर और दाऊद दोनों ने डी कंपनी का स्थापना की थी। सिंडिकेट चलाने में सक्रिय और महत्वपूर्ण भूमिका निभाई एक प्रतिद्वंद्वी गिरोह के हाथ में उनकी मौत ने भारत में कभी भी सबसे भयंकर गिरोह युद्ध शुरू किया था इससे 10 साल की अवधि में 50 अपराधी और उनके रिश्तेदारों का सफाया हो गया।