साल 2018 में ये 6 चीजें आपके घर को करेंगी धनधान्य से भरपूर, रहेगी लक्ष्मी कृपा


vastu tips

जिंदगी को संपन्न बनाने के लिए हम हर रोज अथाह मेहनत करते है काम करते है। अपने जीवन को खुशहाल बनाने के लिए लोग ज्योतिष और वस्तु के उपाय भी करते है पर इन उपायों को करते हुए सही समय और ज्योतिष गणना को ध्यान में रखना चाहिए। आज हम आपके लिए इस नए साल के कुछ ऐसे ज्योतिष उपाय लाये है जो इस साल आपको पहुंचायेगे सबसे ज्यादा फायदा। तो आईये नजर डालते है इस उपायों पर।

pyramidपिरामिड : पिरामिड सिर्फ इतिहास की छवि मात्र नहीं है ज्योतिष के अनुसार पिरामिड की आकृति उत्तर-दक्षिण अक्ष पर रहने की वजह से यह ब्रह्मांड में व्याप्त ज्ञात व अज्ञात शक्तियों को स्वयं में समाहित कर अपने अंदर एक ऊर्जायुक्त वातावरण तैयार करने में सक्षम है

parrot picsतोते का चित्र या मूर्ति : आप अपने घर में इस साल रंगबिरंगे तोते के चित्र या मूर्ति अवश्य लगाएं। इससे न सिर्फ स्मरण क्षमता में भी इजाफा होता है। फेंगशुई के अनुसार तोता 5 तत्वों का संतुलन स्थापित करने में मददगार साबित होता है। तोते के रंग-बिरंगे पंख वास्तव में पृथ्वी, अग्नि, जल, लकड़ी और धातु के प्रतीक हैं।

lajvart maniलाजावर्त मणि : इस मणि को धारण करने से बल, बुद्धि एवं यश की वृद्धि होती लेकिन ये मणि काम ही पायी जाती है। आपको बता दें इस मणि का रंग मयूर की गर्दन की भांति नील-श्याम वर्ण के स्वर्णिम छींटों से युक्त होता है।

shaligramचमत्कारिक शालिग्राम : शालिग्राम को भगवान विष्णु का प्रतीक माना जाता है। अधिकतर शालिग्राम नेपाल के मुक्तिनाथ, काली गंडकी नदी के तट पर पाया जाता है। इसे घर में रखने से और पुजन करने से लक्ष्मी का निवास सदा आपके घर में बना रहेगा।

panchdhatu kadaधातु का कड़ा : कुछ लोग पीतल और तांबे का मिश्रित कड़ा पहनते हैं। पीतल से गुरु, तांबे से मंगल और चांदी से चंद्र बलवान होता है। लेकिन ध्यान रखे अगर आप ये पवित्र कड़ा पहनते है तो नशा आदि को अनैतिक कार्य न करें वर्ना ये हानि भी पहुंचा सकता है।

white stoneअंडाकार सफेद पत्थर: आपने संगमरमर और ठोस समुद्री पत्थर देखे होंगे जाओ घरों में सजावट के लिए इस्तेमाल किये जाते है। पर बहुत से लोग नहीं जानते की वस्तु और ज्योतिष के हिसाब से ये पत्थर रखने का चमत्कारिक लाभ मिलता है। धन और समृद्धि के रास्ते फटाफट खुलते हैं और मानसिक शांति भी बनी रहती है।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ