घर की वास्तुदोष दूर कर सकता है एक चुटकी नमक


Salt

अक्सर लोगों का यह लगता है कि नमक कर इस्तेमाल हम खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए करते हैं। यह भी बता दें कि नमक से वास्तुदोष भी दूर करता है। वास्तु शास्त्र के मुताबिक नमक में ऐसी गजब की शक्तियां होती हैं जो न सिर्फ आपके घर को सकारात्मक ऊर्जा देती है। और आपके घर में सुख-समृद्धि को भी बढ़ाता है।

Salt

आपको बता दें कि अगर नमक का प्रयोग वास्तु शास्त्र के अनुसार किया जाए तो इससे कभी भी घर में नकारात्मक ऊर्जा नहीं ठहर पाती है। आज हम आपको बताते हैं कि हम नमक के इस्तेमाल से वास्तुदोष को दूर किया जा सकता है।

Salt

कैसे करें नमक से वास्तुदोष

Salt

सकारात्मक ऊर्जा की वृद्धि के लिए घर में रॉक साल्ट लैंप रखें। इसे घर में रखने से वास्तुदोष दूर होता है।

Salt

वास्तु शास्त्र के अनुसार शीशे के प्याले में नमक भरकर शौचालय और स्नान घर में रखना चाहिए इससे वास्तुदोष दूर होता है। इसका कारण यह है कि नमक और शीशा दोनों ही राहु की वस्तु हैं और राहु के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने का काम करते हैं।

Salt

शीशे के बर्तन में नमक भरकर घर के किसी कोने में रखने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार डली वाला नमक लाल रंग के कपड़े में बांधकर घर के मुख्य द्वार पर लटकाने से घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं कर पाती है।

Salt

अगर घर के सदस्यों में नहीं बनती और आप आये दिन बीमार भी रहते हैं। तो उसके लिए आपक नमक वाले पानी से पोंछा लगायें। एक बाल्टी पानी में बस एक चुटकी काला नमक मिलाएं, फिर देखें इसका कमाल। कुछ दिनों में इसका असर देखने को मिल जाएगा।

Salt

नमक मानसिक शांति के लिए भी अत्यंत आवश्यक है। यदि आपका मन हर समय बेचैन रहता है तो ऐसी समस्या से निजात पाने के लिए नमक का उपाय रामबाण का काम करता है। इस उपाय में भी एक चुटकी नमक कमाल करता है। जी हां, नहाते समय समय पानी में एक चुटकी नमक मिला लें और उससे स्नान करें। वास्तु विशेषज्ञों की मानें, तो ऐसा करने से मानसिक बेचैनी कम हो जाती है. तन-मन हमेशा तरोताजा रहता है।

Salt

इसके अलावा लम्बी अवधि वाली बिमारी में भी अत्यंत लाभकारी है नमक। यदि घर में कोई लंबे समय से बीमार चल रहा हो, तो उसके बिस्तर के पास कांच की बोतल में नमक भरकर रखें और हर महीने इसे बदल दें. वास्तु के मुताबिक, ऐसा करने से बीमार व्यक्ति की सेहत में काफी सुधार आ सकता है। ध्यान रहे जब तक वह व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ ने हो जाए तब यह उपाय करते रहें।