जानलेवा हो सकता है स्तन कैंसर


स्तन कैंसर के मामले दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। स्तन कैंसर एक गंभीर समस्या होती जा रही है महिलाओं को इसकी जानकारी अच्छी तरह होने के साथ-साथ हमें खान-पान का विशेष ध्यान देना चाहिए। स्तन कैंसर ज्यादातर 40 साल की उम्र के बाद होता है स्तान में एक छोटी सी गांठ घीरे-घीरे बढ़ती जाती है।

बचे  इन आदतों:-
धूम्रपान न करें।
शरीर का वजन संतुलित रखें।
नियमित व्यायाम करें।
अल्कोहल का उपयोग सीमित करें।  आप खुद में स्तन कैंसर का जोखिम कम कर सकते हैं।

स्तन कैंसर होने के आम कारण:

– बढ़ती उम्र

– स्तन या बाँह के नीचे गांठ होना

– स्तन से रस जैसे कुछ पदार्थ का निकलना

-निपल्स का मुड़ जाना

-ज़्यादा उम्र में पहले बच्चे का जन्म

-आनुवांशिकता

– स्तन में सूजन

– स्तन के आकार में बदलाव

-स्तन को दबाने पर दर्द न होना

– शराब जैसे पेय पदार्थ का अधिक सेवन

– खराब जीवनशैली

स्तन कैंसर होने की संभावना को कुछ हद तक कम करना:

खट्टे फल: खट्टे फलों में फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो कैंसर की कोशिकाओं को विकसित होने से रोकने में मदद करते हैं। खट्टे फलों में सेब, अंगूर,पीच, नाशपाती, केला आदि का सेवन करने से ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना कुछ हद तक कम हो जाती है।

अनार:स्तान कैंसर में अनार का सेवन करने से बडे फायदे होते है महिलाओं को अनार का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। अनार महिलाओं को स्तन कैंसर का शिकार होने से बचाता है

काली चाय:  काली चाय में एपि गैलो कैटेचिन गैलेट नाम का रसायन होता है जो स्तन कैंसर से शरीर को सुरक्षा प्रदान करता है। यह स्तन में ट्यूमर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।

ग्रीन टी: ग्रीन टी में एन्टी-इन्फ्लैमटॉरी गुण होता है जो स्तन कैंसर को बढ़ने से रोकने में मदद करता है। एक गिलास पानी में चाय के कुछ पत्ते डालकर तब तक उबाले जब तक कि वह सूख कर आधा न हो जाय। उसके बाद पी लें।

दूध और दही: दूध और दही में विटामिन डी होता है जो स्तन कैंसर के कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।

लहसुन: लहसुन प्रतिरक्षी तंत्र को उन्नत करके स्तन कैंसर से लड़ने में मदद करता है।

स्तन कैंसर को रोकने के उपाय:

– ज़्यादा मात्रा में ध्रूमपान का सेवन न करें

– शारीरिक रूप से ज़्यादा सक्रिय हो, व्यायाम आदि नियमित रूप से करें

– कम मात्रा में रेड मीट का सेवन करें

-नमक का सेवन कम करें

– सूर्य के तेज किरणों के प्रभाव से बचें

– गर्भनिरोधक गोलियों का लगातार सेवन डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही करें

-अच्छी नींद ले

-वजन का ख्याल और नियमित व्यायाम

-शुद्ध भोजन और संतुलित आहार