विदशों में ‘दनयानेश्वर’ साइकिल यात्रा से फैला रहा है बापू का संदेश


सिंगापुर :  महात्मा गांधी का संदेश स्कूली बच्चे तक पहुंचाने के लिए एक भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता ने पेडलिंग फॉर पीसे ( Pedaling For Pies ) कार्यक्रम शुरू किया है Pedaling For Pies कार्यक्रम के तहत वह 3 वर्ष तक साइकिल से यात्रा करके यह अभियान चलाएंगे।

Source

दनयानेश्वर येवात्कर ने कहा है कि उन्होंने अपने वैश्विक साइकिलिंग अभियान के 70,000 किलोमीटर की यात्रा में से 8,642 किलोमीटर की यात्रा पूरी कर ली है। उनका यह अभियान पाक में वर्ष 2019 में 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर समाप्त होगा। दनयानेश्वर येवात्कर के पास इतिहास विषय में स्नातक की डिग्री है।

Source

दनयानेश्वर येवात्कर का कहना है कि मैंने पिछले 8 महीने में भारत-चीन और आसियान की यात्रा की है और अच्छे इंसानों से मिला हूं जिन्होंने बड़ी गर्मजोशी से मेरा सत्कार किया और मुझे महात्मा गांधी के बारे में अपने विचारों और जानकारियों का साझा करने का मौका दिया। थाईलैंड और मलेशिया के गुरूद्वारे में भी येवात्कर का स्वागत किया गया था। उन्होंने कहा कि अकेले साइकिल से यात्रा करने में कई चुनौतियां हैं लेकिन ऐसे कई क्षण आए जब शिक्षकों ने मुझे स्कूलों और अपने घरों में ठहरने का मौका दिया क्योंकि वह मेरे मिशन को समझते थे।

Source

वह महाराष्ट्र के वर्धा के सेवाग्राम आश्रम के रहनेवाले हैं। यहीं से महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो अभियान शुरू किया था। दनयानेश्वर येवात्कर 1 दिन में औसतन 120 km की यात्रा करते हैं और 5 स्कूलों से बातचीत करते हैं। वह स्थानीय लोगों से बात करने के लिए Google Translate का उपयोग करते हैं।

Source

दनयानेश्वर येवात्कर का कहना है कि वह अगले हफ्ते सिंगापुर जाने की तैयारी कर रहे हैं और इसके बाद इंडोनेशिया, ताइवान, चीन, कोरिया और जापान की यात्रा करेंगे।