भूलकर भी नहीं करें इन चीजों का दान वर्ना उठाने पड़ सकते हैं ये नुकसान


Donation

हिन्दू धर्म में दान को एक अलक ही दर्जा दिया गया है। शास्त्रों में दान को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। हिन्दू शास्त्रों में दान सिर्फ रिवाज की ही तरह नहीं किया जाता है।

Donation

बता दें कि हिन्दू धर्म में दान के पीछे कई सारे धार्मिक उद्देश्य बताए गए हैं। हमारी कुंडली में ऐसे कई ग्रहों को मजबूत और दुष्ट ग्रहों को शांत करने केलिए भी दान और पुण्य के काम किए जाते हैं।

scriptures

ऐसा भी कहा जाता है कि ग्रहों की कैसी भी स्थिति होती है तो हमें उसी स्थिति को देख कर ही दान करने होते हैं। ऐसे ही हम कोई भी दान नहीं कर देते हैं। इस बारे में भी हम सबको पूरी तरह से जानकारी होनी चाहिए। आज हम आपको इन्हीं बातों के बारे में कुछ खास तरीके की जानकारी देंगे जिससे कि हमें यह पता चलेगा कि किस ग्रह की स्थिति के हिसाब से दान देना होता है।

इस तरह दान नहीं करना चाहिए

scriptures

ऐसा माना जाता है कि अगर कोई भी अपने ग्रहों की स्थिति के विपरीत दान करते हैं तो यह और भी बुरा असर कर देता है। अगर हम ऐसा दान कर देते हैं तो हमें अच्छा फल मिलने की बजाय बुरा फल ही मिला जाता है। इस बात की हमें किसी भी तरह से जानकारी भी नहीं होती हैै।

जानिए कब नहीं करना चाहिए दान

Donation

कभी भी ग्रहों की किस भी स्थिति में ऐसा-वैसा दान भूलकर भी नहीं करना चाहिए। हम आपको इसी बारे में कुछ खास जानकारी देने जा रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि ज्योतिष विधा के मुताबिक जन्मकुंडली में जो भी ग्रह उच्च राशि या अपनी स्वंय की राशि में स्थित होते हैं तो उनसे ही संबंधित वस्तुओं का दान हमेशा व्यक्ति को भूलकर भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा दान हमेशा ही हमारे लिए हानिकारक होता है और यह हमेशा हानि पहुंचाता है

सूर्य ग्रह 

Sun planet

सूर्य मेष राशि में होने पर उच्च तथा सिंह राशि में होने पर अपनी स्वराशि का होता है। यदि किसी जातक की कुण्डली में सूर्य इन्हीं दो राशियों में से किसी एक में हो तो उसे लाल या गुलाबी रंग के पदार्थों का दान नहीं करना चाहिए। इसके अलावा गुड़, आटा, गेहूं, तांबा आदि दान नहीं करना चाहिए। सूर्य की ऐसी स्थिति में ऐसे जातक को नमक कम करके, मीठे का सेवन अधिक करना चाहिए।

चंद्र ग्रह

Lunar planet

चन्द्र वृष राशि में उच्च तथा कर्क राशि में अपनी राशि का होता है। यदि किसी जातक की जन्मकुंडली में चंद्र ग्रह ऐसी स्थिति में हो तो, उसे खाद्य पदार्थों में दूध, चावल एवं आभूषणों में चांदी एवं मोती का दान नहीं करना चाहिए। ऐसे जातक के लिए माता या अपने से बड़ी किसी भी स्त्री से दुर्व्यवहार करना हानिकारक हो सकता है। किसी स्त्री का अपमान करने पर ऐसे जातक मानसिक तनाव का शिकार हो जाते हैं।

मंगल ग्रह 

Mars

मंगल मेष या वृश्चिक राशि में हो तो स्वराशि का तथा मकर राशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है। यदि आपकी कुण्डली में मंगल ग्रह ऐसी स्थिति में है तो, मसूर की दाल, मिष्ठान अथवा अन्य किसी मीठे खाद्य पदार्थ का दान ना करें।

मीठे खाद्य पदार्थ का दान नहीं करना चाहिए

 Sweets

अगर आपके घर कोई भी मेहमान आता है तो उसे कभी भी खाने में सौंफ नहीं देनी चाहिए क्योंकि वह व्यक्ति हमेशा ही हर तरह के अवसर पर आपके खिलाफ कटु शब्द ही बोलता है। अगर आप मंगल ग्रह के प्रकोप से बचना चाहते हैं तो कभी भी किसी भी तरह का बासी भोजन खुद नहीं खाना चाहिए और न ही दूसरों को भी खाने न दें।