कोर्ट ने PG मेडिकल सीटों के बारे में इलाहाबाद हाईकोर्ट का आदेश किया कैंसिल


judge

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने पोस्ट ग्रेज्यूएट मेडिकल सीटों पर प्रवेश के लिये 50 % की संस्थागत प्राथमिकता निरस्त करने संबंधी इलाहाबाद हाईकोर्ट का आदेश आज दरकिनार कर दिया। जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस दीपक गुप्ता की अवकाश कालीन पीठ ने अपने आदेश में कहा कि यू पी में बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और सरकार द्वारा संचालित मेडिकल कालेजों में काउन्सलिंग जारी रहेगी और ये सीटें 12 जून तक भरी जायेंगी।

हाईकोर्ट ने 29 मई को इन दो सेंट्रल यूनिवर्सिटीज और सरकार द्वारा संचालित दूसरे यूनिवर्सिटीज में PG पाठ्यक्रमों में संस्थागत कोटे की 50 % सीटें नीट की
रैंकिंग के आधार पर ही किसी भी दूसरे मेडिकल कालेज के छात्रों को प्रवेश देकर भरने का आदेश दिया था।

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी( BHU) और अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU ) ने इस फैसले को शीर्ष कोर्ट मेें चुनौती दी थी। इन दोनों सेंट्रल यूनिवर्सिटीज का तर्क था कि हाईकोर्ट के आदेश से संस्थाओं को अपनी ही संस्था से 50 सीटों पर प्रवेश देने की अनुमति देने संबंधी उच्चतम न्यायालय के निर्णय और भारतीय चिकित्सा परिषद( Indian medical council  )  के नियमों का उल्लंघन होता है। भारतीय चिकित्सा परिषद( Indian medical council  )  ने भी इन यूनिवर्सिटीज का समर्थन करते हुये कहा था कि हाईकोर्ट ने प्रतिपादित नियमों की व्याख्या करने में चूक कर दी है।