लोगों की लापरवाही से बर्बाद हो गया था ये सुंदर बीच , पर फिर हुआ कुछ ऐसा


glass beach

प्रकृति ने इस पृथ्वी को बेहद खूबसूरत बनाया है पर इंसान की लापरवाही से आज प्रकृति को धरती की क्या दशा हो रही है ये आप सब जानते है। इस बात के कई प्रमाण मौजूद है की प्रकृति से जब जब छेड़छाड़ की गयी है नुक्सान इंसान का ही हुआ है। लेकिन एक खास बात और है प्रकृति अपनी क्षति पूर्ति भी खुद बा खुद कर ही लेती है।

 glass beachआज हम आपको जो किस्सा बताने जा रहे है उसमे भी कुछ ऐसा हुआ की लोगों ने प्रकृति के गिफ्ट को बर्बाद कर दिया लेकिन कुछ समय बाद प्रकृति ने खुद उस जगह को न केवल दुरुस्त किया बल्कि उस जगह को पहले ज्यादा खूबसूरत बना कर फिर से इंसान को तोहफा दिया।

 glass beachइस घटना में हमे इतना तो पता लगता है की हम भले इन प्रकृति को नजरअंदाज करे और उसका ध्यान न रखे पर उसे हमारा ध्यान खूब है। वक्त रहते हमे संभल जाने की जरुरत है क्योंकि ऐसा हर बार नहीं होता ही की हम नुक्सान करते जाए और उसकी कीमत हमे चुकानी न पड़े।

 glass beachआज हम आपको बताने जा रहे है रूस के उसुरी बे नाम के एक बीच की कहानी जो कभी लोगों के लिए एक बेहतरीन टूरिस्ट स्पॉट हुआ करता था। लोग यहाँ मौज मस्ती करने आते थे।

 glass beachबीच पर शराब का मजा लेने वालों की संख्या काफी अधिक थी और ये लोग शराब पीकर खाली कांच की बोतलों को वही फेंक जाया करते थे। धीरे धीरे प्रशासन और लोगों की लापरवाही से इस बीच पर बोतलों का जमघट लग गया और पूरे बीच पर कांच ही कांच फ़ैल गया।

 glass beachसरकार ने इस बीच पर लोगों की आवाजाही को बैन कर दिया क्योंकि ये खतरनाक हो चूका था और यहाँ लोगों की जान जा सकती थी। इस बीच को बैन करने के बाद सरकार ने यहाँ फैले कांच को डंप करवा दिया।

 glass beachकुछ महीनों बाद इस बीच का नजारा ही बदल गया और ये बीच रंगीन पत्थरों से भरा हुआ नजर आने लगा , जब इस मामले की जांच की गयी तो पता लगा की इन महीनों में बीच पर डंप किया गया कांच लहरों से टकरा टकराकर महीन हो गया।

 glass beachसमुद्री पानी और गर्मी की वजह से ये रंग की तरह बीच पर मौजूद पत्थरों पर रम गया। प्रकृति के इस कारनामे के बाद इस बीच को दुनारा लोगों के लिए खोल दिया गया और ये अब रूस के सबसे खूबसूरत बीचों में से एक है।