Google ने 12वीं के छात्र को दिया नौकरी का मौका, सैलरी 12 लाख रूपए प्रतिमाह


Google की तरह एक प्रतिष्ठित फर्म के लिए कौन काम नहीं करना चाहता है? हर किसी को ऐसा सुनहरा मौका नहीं मिलता है लेकिन, चंडीगढ़ में सरकारी स्कूल के एक छात्र हर्षित शर्मा ने इस असंभव से लगने वाले काम को संभव बना दिया । Google ने चंडीगढ़ के एक क्लास 12 लड़के को हर्षित शर्मा को अपने साथ काम करने का मौका दिया है। वह इस तकनीकी कंपनी के लिए एक ग्राफिक डिजाइनर के रूप में काम करेगा।

हर्षित ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया की वो हमेशा से Google के लिए काम करना चाहते थे। यह उनकी ड्रीम कंपनी है और उन्होंने कभी ऐसा नहीं सोचा कि उनका सपना इतनी जल्द पूरा हो जायेगा।हालाँकि इस सपने को पूरा करने के लिए हर्षित ने कड़ी मेहनत है और बेहद लगन के साथ उन्होंने अपने लक्ष्य को प्राप्त किया है।

Google ने हर्षित को प्रशिक्षु ग्राफिक डिजाइनर के रूप में कुछ समय के लिए भर्ती किया। वह कैलिफ़ोनिया में Google के मुख्यालय से काम करेंगे। संभव है बाद में हर्षित का कार्यकाल बढाया जा सकता है। उन्होंने कंपनी द्वारा पोस्ट की गई नौकरी के लिए आवेदन किया, और कुछ दिनों के बाद उत्तर मिला।

हर्षित ने ग्राफिक डिजाइनर की पोस्ट के लिए आवेदन किया, जिसके साथ उन्होंने अपने कुछ प्रोजेक्ट्स को google के सामने प्रस्तुत किया, जिसमें उन्होंने एक पोस्टर भी शामिल किया था जिसे उन्होंने डिज़ाइन किया था। अपने आवेदन के कुछ दिनों बाद, हर्षित को Google से जून में एक नियुक्ति पत्र मिला, जिसमें उन्होंने उल्लेख किया कि ग्राफिक डिजाइनर की पोस्ट के लिए उन्हें चुन लिया गया है।

गूगल उन्हें पहले महीने के लिए प्रशिक्षण देगा और इस दौरान कंपनी के द्वारा उन्हें 4 लाख रुपये की राशि का भुगतान भी किया जायेगा । इस प्रशिक्षण के समाप्त होने के बाद और वह स्थायी कर्मचारी बन जायेंगे और Google उन्हें मासिक वेतन के रूप में 12 लाख रुपये का भुगतान करेगा।

हर्षित शर्मा, गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सेक्टर 33-बी, चंडीगढ़ के छात्र है , इस नए ऑफर के लिए वो बेहद उत्साहित और खुश हैं। उन्होंने चंडीगढ़ न्यूज़लाइन को बताया, “कौन जानता था कि मेरे जैसे एक औसत छात्र को Google में नौकरी मिल जाएगी। मैं अपनी खुशी कैसे बयाँ कर सकता हूं, की यह एक सपना था जो सच हो गया है। मेरी कड़ी मेहनत ने मुझे आज इस मुकाम तक पहुँचाया है।

उन्होंने आगे कहा कि “मुझे 10 साल की उम्र से ही ग्राफिक डिज़ाइन करना अच्छा लगता था और इसके लिए मुझे मेरे चाचा रोहित शर्मा ने प्रेरित और प्रशिक्षित किया । धीरे-धीरे, यह मेरा जुनून बन गया और मैं हमेशा से Google में नौकरी के लिए तैयार था। जो कुछ भी मैं हूं वह मेरे चाचा के कारण है और मैं उन्हें अपने चयन का श्रेय देता हूं क्योंकि मैं प्रशिक्षण के लिए किसी भी पेशेवर संस्थान में शामिल नहीं हुआ हूं।