हैकर्स दिमाग में चलने वाली गतिविधियों से चुरा सकते हैं पिन, पासवर्ड


वाशिंगटन : हेडसेट लगाकर रोबोट वाले खिलौने और वीडियो गेम खेलने वाले सावधान हो जाएं। हैकर्स इन लोगों के दिमाग में चल रहे विचारों की निगरानी करके उनके पिन और पासवर्ड का पता लगा सकते हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार, ब्रेनवेव सेंसिंग हेडसेट्स को और बेहतर सुरक्षा की जरूरत है। वैज्ञानिकों में भारतीय मूल का एक व्यक्ति भी शामिल है।

Source

इलेक्ट्रॉसिफैलोग्राफ (ईईजी) हेडसेट्स से यूजर्स अपने दिमाग से रोबोटिक खिलौनों और वीडियो गेम को नियंत्रित करते हैं। अमेरिका में बर्मिंघम में अल्बामा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने यह पता लगाया कि वीडियो गेम खेल रहे एक व्यक्ति ने अगर गेम को बीच में ही रोक दिया और वह ईईजी हेडसेट पहने हुए बैंक खाते में लॉग इन करता है तो उस पर हैकिंग करने वाले किसी सॉफ्टवेयर द्वारा पासवर्ड या अन्य संवेदनशील आंकड़ें चोरी होने का खतरा पैदा हो जाता है।

Source

हैकिंग करने वाला सॉफ्टवेयर आसानी से यूजर के दिमाग की गतिविधियों का पता लगा सकता है
वैज्ञानिकों की टीम ने उपभोक्ताओं को ऑनलाइन उपलब्ध एक ईईजी हेडसेट और वैज्ञानिक शोध के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले क्लिनिकल ग्रेड के हेडसेट का इस्तेमाल किया ताकि यह दिखाया जा सकें कि हैकिंग करने वाला सॉफ्टवेयर कितनी आसानी से यूजर के दिमाग में चलने वाली बातों का पता कर सकता है। टाइप करते हुए यूजर के हाथों, आंखों और मस्तिष्क की नसों में गतिविधियां होती है। ये सभी गतिविधियां ईईजी हेडसेट्स में रिकॉर्ड हो जाती है। हैकिंग करने वाले सॉफ्टवेयर की इन रिकॉर्डों तक पहुंच संभव है।