जानिए पथरी के घरेलू उपाय


अगर किसी व्यक्ति को किसी कारण से पेशाब गाढा हो जाता है तब शरीर में पथरी होना आंरभ हो जाती है। सबसे पहले छोटे-छोटे दाने बनते हैं फिर दाने बढ़ जाते हैं जिसे हम पथरी के नाम से जानते है। पथरी किसी को भी हो सकती है । पथरी का दर्द कभी-कभी बर्दाश्त से बाहर हो जाता है। जिस व्यक्ति को पथरी है उसे पेशाब करने में बहुत दिक्कत होती है।

जानिए पथरी के घरेलू उपचार : –

– करेला पथरी में यह रामबाण की तरह काम करता है करेले में मैग्‍नीशियम और फॉस्‍फोरस नामक तत्‍व होते हैं जो पथरी को बनने से रोकते हैं

–  अंगूर में एल्ब्यूमिन और सोडियम क्लोराइड बहुत ही कम मात्रा में होता हैं इसलिए किडनी में स्‍टोन के उपचार के लिए बहुत ही उत्तम माना जाता है साथ ही अंगूर प्राकृतिक मूत्रवर्धक के रूप में उत्कृष्ट रूप में कार्य करता है क्योंकि इनमें पोटेशियम नमक और पानी भरपूर मात्रा में होते हैं-

– पथरी में केला खाना चाहिए केले में Vitamin-B 6 होता है Vitamin-B 6 ऑक्जेलेट क्रिस्टल को बनने से रोकता और तोड़ता है साथ ही Vitamin-B 6, Vitamin-B के अन्य Vitamin के साथ सेवन करना किडनी में स्‍टोन के इलाज में काफी मददगार होता है शोध के मुताबिक Vitamin-B की 100 से 150 मिलीग्राम दैनिक खुराक गुर्दे की पथरी की चिकित्सीय उपचार में बहुत फायदेमंद हो सकता है-

– बथुए का साग गुर्दे की पथरी को निकालने में बथुए का साग बहुत ही कारगर होता है इसके लिए आप आधा किलो बथुए के साग को उबाल कर छान लें-अब इस पानी में जरा सी काली मिर्च, जीरा और हल्‍का सा सेंधा नमक मिलाकर, दिन में चार बार पीने से बहुत ही फायदा होता है-

–  प्‍याज में भी पथरी नाशक तत्‍व होते है इसका प्रयोग कर आप गुर्दे की पथरी से निजात पा सकते है लगभग 70 gm प्‍याज को पीसकर और उसका रस निकाल लें और सुबह खाली पेट प्‍याज के रस का नियमित सेवन करें इससे भी पथरी छोटे-छोटे टुकडे होकर निकल जाती है-

– अजवाइन एक महान यूरीन ऐक्ट्यूऐटर है और गुर्दे के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है

– गुर्दे की पथरी के गठन को रोकने के लिए अजवाइन का इस्‍तेमाल मसाले के रूप में या चाय में नियमित रूप से किया जा सकता है

– तुलसी की चाय पूरी किडनी स्वास्थ्य के लिए बहुत ही सफल प्राकृतिक उपचार है शुद्ध तुलसी का रस लेने से पथरी को यूरीन के रास्‍ते निकलने में मदद मिलती है इसे कम से कम एक म‍हीना तुलसी के पतों के रस के साथ शहद लेने से आप प्रभाव महसूस कर सकते है

– गाजर में पायरोफॉस्फेट अम्ल पाया जाता हैं गाजर जो गुर्दे की पथरी बनने से रोकता है साथ ही गाजर में पाया जाने वाला केरोटिन यूरीन की आंतरिक दीवारों को टूटने-फूटने से भी बचाता है गाजर व मूली के बीज 10-10 ग्राम, गोखरू 20 ग्राम, जवाखार और हजरुल यहूद 5-5 ग्राम, इन सबको कूट-पीसकर महीन चूर्ण कर लें और इसकी तीन-तीन ग्राम की पुड़िया बना लें-एक खुराक 6 बजे, दूसरी खुराक 8 बजे और तीसरी शाम 4 बजे दूध-पानी की लस्सी के साथ लें

– अनार का रस गुर्दे की पथरी के लिए एक बहुत ही सरल घरेलू उपाय है अनार पथरी में लाभदायक है अनार के दाने को भोजन जरूर ले

– नारियल का पानी पीने से पथरी में फायदा होता है। पथरी होने पर नारियल का पानी पीना चाहिए।

– 15 दाने बडी इलायची के एक चम्मच, खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्मच मिश्री, एक कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम 2 बार पीने से पथरी निकल जाती है।

– पका हुआ जामुन पथरी से निजात दिलाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पथरी होने पर पका हुआ जामुन खाना चाहिए।

– आंवला भी पथरी में बहुत फायदा करता है। आंवला का चूर्ण मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।

– जीरे और चीनी को समान मात्रा में पीसकर एक-एक चम्मच ठंडे पानी से रोज तीन बार लेने से लाभ होता है और पथरी निकल जाती है।

– मिश्री, सौंफ, सूखा धनिया लेकर 50-50 ग्राम मात्रा में लेकर डेढ लीटर पानी में रात को भिगोकर रख दीजिए। अगली शाम को इनको पानी से छानकर पीस लीजिए और पानी में मिलाकर एक घोल बना लीजिए, इस घोल को पी‍जिए। पथरी निकल जाएगी।

– चाय, कॉफी व अन्य पेय पदार्थ जिसमें कैफीन पाया जाता है, उन पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल मत कीजिए। हो सके कोल्ड्रिंक ज्यादा मात्रा में पीजिए।

– जीरे को मिश्री की चासनी अथवा शहद के साथ लेने पर पथरी घुलकर पेशाब के साथ निकल जाती है।

नोट : – डॉक्टर से जरूर सलाह ले …