इस आसान तरीके से जानिये आपकी शादी ‘लव मैरिज’ होगी या ‘अरेंज मैरिज’


शादी एक ऐसा पवित्र रिश्ता होता है जो न सिर्फ दो इंसानों को एक बंधन में जोड़ता है बाकि दो परिवारों का मेल भी करता है। कई बार आपने भी सोचा होगा की आपकी शादी अरेंज मैरिज होगी या लव मैरिज , और आजकल के समय में ये प्रश्न उठना लाज़मी है। आज हम आपको बताएँगे ग्रहों और अंकों का ऐसा खेल जो निर्धारित करता है की आपका विवाह कैसा होगा। हिन्दू संस्कृति में अंक गणित के आधार पर भविष्य सम्बन्धी बातों का पूर्वानुमान लगाना कोई नयी बात नहीं पर किसी ज्योतिषी की मदद लिए बगैर आप यहाँ पर बड़े आसान तरीके से अपने विवाह के बारे में जान सकेंगे। पहले आपको समझना होगा ‘मूलांक’ के बारे में, मूलांक का मतलब होता है आपकी जन्म तिथि के कुल अंकों का जोड़, आप अपनी जन्म तिथि के प्रत्येक एक को का जोड़ पता करके अपना मूलांक निकाल सकते है और ध्यान रखे मूलांक 1 से लेकर 9 की संख्या तक ही होगा।

मूलांक 1 : जिन लोगों का मूलांक 1 होता है ये अक्सर शर्मीले स्वभाव के पाए जाते है और कभी अपने प्यार की पहल नहीं कर पाते , इस कारण इनका प्रेम-विवाह होना मुश्किल होता है। ये अंक सूर्य का प्रतीक है।

मूलांक 2 : जिन लोगों का मूलांक 2 होता है ये काफी सोच समझ कर ही प्यार के ऊपर विशवास करते है और अपने प्रेम सम्बन्ध में ही विवाह करने की कोशिश करते है। अंक 2 चन्द्रमा का प्रतीक है।

मूलांक 3: अगर मूलांक 3 हो तो ये गुरु का प्रतीक है और इस अंक वाले लोग भी लव मैरिज में सफल होते है।

मूलांक 4: ये अंक राहु का प्रतीक है, इस अंक वाले लोग एक से अधिक प्रेम सम्बन्ध बनाते है और इसलिए ये प्रेम विवाह के प्रति गंभीर नहीं होते।

मूलांक 5: ये अंक बुध का प्रतीक है ,ऐसे लोग पारंपरिक रिश्तों को निभाने में यकीन रखते हैं। ये लोग परिवार की सहमति से ही विवाह करते हैं।

मूलांक 6: जिन लोगों का मूलांक 6 होता है ये अकसर प्रेम विवाह में सफलता पाते है पर एक सेज्यादा प्रेम संबंधों के चलते सही इंसान को खो देते है , ये अंक शुक्र का प्रतीक है।

मूलांक 7: इस मूलांक के लोग काफी संकोची किस्म के होते है इसलिए प्रेम विवाह में दिलचस्पी होने के बाद भी उसका समर्थन नहीं कर पाते, ये अंक केतु का प्रतीक है।

मूलांक 8: ये अंक शनि का प्रतीक है, इस अंक वाले लोग बहुत काम ही प्रेम संबंधों में पड़ते है पर अगर इन्होने तय कर लिया तो प्रेम विवाह में सफलता जरूर मिलती है.

मूलांक 9: इस अंक वाले लोग प्रेम के मामले में विवादस्पद रुख की वजह से प्रेम विवाह से कतराते है और अरेंज मैरिज के प्रति इनका झुकाव ज्यादा होता है , ये अंक मंगल का प्रतीक मन जाता है।