भारत में जीका वाइरस की दस्तक


जीका वाइरस भी धीरे-धीरे अपने पैरों को भारत में फैला रहा है। भारत में जीका वाइरस के तीन केस सामने आए हैं। पहला केस पिछले साल फरवरी में आया था और दूसरा केस नंवबर में आया था। इस साल तीसरा केस सामने आया है जो कि जनवरी में आया था। ये तीनों केस गुजरात के अहमदाबाद के बापू नगर एरिया के हैं। इस जानकारी को परिवार कल्याण मंत्रालय ने 15 मई को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन(डब्लूएचओ) में भेजी थी।

डब्लूएचओ ने इस वाइरस के बारे में बातते हुए यह कहा है कि इस वाइरस का असर गर्भवती महिलाओं के होने वाले शिशु पर हो सकता है और उनके शिशु अविकसित दिमाग के तौर पर सामने आ सकते हैं। जीका वाइरस से बचने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मच्छरों से बचने को कहा है। उन्होंने कहा है कि मच्छर मारने वाली दवाओं का छिड़काव करने की सलाह दी है और साथ ही बोला है कि अपने शरीर को पूरे कपड़ों से ढककर रखें।

1) लक्षण क्या हैं-

-पहले शुरू में व्यक्ति को मामूली बुखार होता है फिर बाद में यह बुखार खतरनाक रूप ले लेता है।
-व्यक्ति के शरीर पर लाल से रैशेज हो जाते हैं।

2) वाइरस के खतरे-

-इस वाइरस में व्यक्ति को तेज बुखार हो जाता है और बाद में यह बुखार चिकगुनिया, डेंगु और येलो फीवर में बदल जाता है।
-इसमें व्यक्ति को जोड़ों में दर्द, शरीर पर लाल चकते, बहुत थकान और आंखें लाल हो जाती हैं। ये सारी परेशानी होती है जीका वाइरस में।
-अगर यह वाइरस किसी भी गर्भवती महिला को हो जाए तो उसके शिशु का विकास अवरूद्ध हो सकता है। बच्चे का आकार छोटा हो सकता है और उसका दिमाग अविकसित हो सकता है।

3) कैसे फैलता है-

-यह वाइरस मच्छरों की वजह से फैलता है इसलिए इसमें मच्छरों से अपना बचाव करें।
-पीडि़त व्यक्ति के साथ सेक्स संबंध बनाने से भी यह वाइरस फैलता है।

4) जीका वाइरस से बचाव-

-घरों में मच्छर पैदा न होने दें।
-जो महिलाएं लंबे समय तक ट्रैवल करती हैं उन्हें अगले 8 सप्ताह तक गर्भधारण करने से बचें।
-मच्छरदानी का प्रयोग जरूर करें।
-मच्छरों से बचने के लिए सनस्क्रीन का जरूर प्रयोग करें।
-घर में जाली वाले दरवाजों को हमेशा बंद रखें जिससे मच्छरों को आने की जगह न मिले।
-अगर आपको डायबीटीज, हाईपरटेशन, इम्युनिटी डिस ऑर्डर जैसी परेशानी है तो सफर करने से पहले अपने डॉक्टर  की सलाह जरूर लें।
-सफर के आने के 2 सप्ताह के बाद आपको बुखार आता है तो उसे अनदेखा न करें और डॉक्टर को दिखाएं।