16 की मुस्लिम लड़की के खिलाफ मौलानाओं ने किया फतवा जारी


जैसा की हम सब जानते है अब जमाना बदल गया है और हमे इस नए जमाने के अनुसार अच्छी चीजों के लिए अपने में बदलाव करना जरूरी है। लेकिन आज भी कुछ लोग पुराने रीति रिवाज और कुप्रथाओं को लेकर समाज में गलत तरह की धारणाएं फैला रहे हैं।

Source

16 साल की नाहिद आफरीन ने सिंगिंग के माध्यम से इंडियन आइडल में फर्स्ट रन अप रहकर अपनी पहचान बनाई थी। लेकिन धर्म के कुछ ठेकेदारों को नाहिद का इस तरह से गाना अच्छा नहीं लगा इसलिए नाहिद आफरीन के खिलाफ 16 महिलाओं ने फतवा जारी कर दिया। इन मौलानाओं का कहना है कि इस्लाम धर्म में एक लड़की का इस तरह से गाना गाना अच्छा नहीं माना जाता।

Source

नाहिद के खिलाफ ये फतवा इसलिए जारी किया गया ताकि वह लोगों के सामने गाना नहीं गा सके। अभी कुछ दिनों पहले असम के खोजें और नागौर जिले में बहुत से ऐसे पर्चे बांटे गए जिनमें नाहिद के खिलाफ फतवा लिखा हुआ था और फतवा जारी करवाने वालों का नाम भी था।

इन पर्चों में यह भी लिखा गया था कि असम की लंका इलाके की उधारी सोनई विवि कॉलेज में 16 साल की नाहिद को परफॉर्म करेग जोकि सरिया के खिलाफ है।

Source

बता दें कि नाहिद ने कुछ समय पहले भी सीरिया के खिलाफ अपने गानों के जरिए आवाज उठाई थी, लेकिन इस तरह से नाहिद का अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना धर्म ठेकेदारों को अच्छा नहीं लगा।