चेहरे की सुंदरता का प्रतीक होते है होंठ


चेहरे के सभी अंगों की अपनी-अपनी विशेषताएं हैं किन्तु होंठों का इनमें विशेष स्थान है। सौन्दर्य शास्त्रियों ने तो इनके महत्व की स्पष्ट घोषणा करते हुए कहा कि सुंदर नरम होंठों के बिना किसी सुंदर चेहरे की कल्पना भी असंभव है। अपने चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने के लिए होंठों को स्वस्थ, सुंदर, कोमल व सरस बनाना आवश्यक है।

होंठ फटने से बचाने  के लिए:-

होंठ फटने से बचाने के लिए सोते समय नींबू, गुलाब जल व ग्लिसरीन का मिश्रण लगाएं। शहद में गाय का शुद्ध घी और गुलाब जल मिलाकर होंठों पर लगाने से होंठ सुंदर व सुडौल रहते हैं। यदि होंठ बराबर सूखते हैं तो कभी-कभी मलाई अथवा स्वच्छ दूध को रुई में भिगोकर होंठों पर लगाइए।

होंठों पर झुर्रियां:-

मक्खन अथवा ग्लिसरीन को होंठों पर फिराने से होंठों की खुश्की समाप्त हो जाती है। नमक और शहद मिलाकर लगाने से भी इसमें लाभ मिलता है। होंठों का खुरदरापन अथवा फटना लिपस्टिक लगाने से भी बंद हो जाता है किंतु ध्यान रखें लिपस्टिक लगाने के पूर्व होंठों पर हल्का-सामक्खन लगाकर पोंछ दें।

सरसों तेल:-

रात्रि में सोते वक्त नाभि व नाक में कुछ दिन नियमित रूप से दो बूंद शुद्ध सरसों तेल डालने से भी होंठों का सूखना व फटना बंद हो जाता है।

 

गुलाब की पत्तिया :-

होंठों में कालापन आने पर गुलाब की पत्तियों को पीसकर होंठों पर लगाने से उसकी कालिमा दूर हो जाती है। लाल गुलाब की पत्तियों को मक्खन के साथ मिलाकर होंठों पर लगाने से होंठ काफी मनमोहक बन जाते हैं। मलाई या दही को थोड़ा गुनगुना कर लगाने से होंठ मुलायम रहते हैं। उपर्युक्त नुस्खों को अपनाने से आपके होंठ आकर्षक हो जाएंगे।