हाथों पर यह निशान बना सकता है आपको भाग्यशाली


दुनिया में बहुत से लोग हैं जिन्हें अपने भविष्य के बारे में जानने की उत्सुकता होती है। कैसे होगा उनका भविष्य। उनका जीवनसाथी कैसा होगा। क्या-क्या परेशानियां आ सकती हैं उनके जीवन में उसके पहले से ही जान लेना बहुत से लोगों को पंसद होता है। फिर आगे चल कर ऐसे समय में वह पहले से ही सावधान हो जाते हैं।

source

हस्त-रेखा शास्त्र से भी आप अपना भविष्य जान सकते हैं। कुछ ऐसे संकेत बताए होते हैं हस्त-रेखा शास्त्र में जिससे आप आसानी से अपनी हथेलियों में ढूंढ सकते हैं। एक ऐसी संकेत के तौर पर हमें बताती है हमारे भविष्य के बारे में यह संकेत होता है एक त्रिशूल का या फिर एक ऐसी रेखा होती है जो कि आगे से तीन भागों में बंटी होती है और वह त्रिशूल की आकृति बनाती है।

हथेली पर अलग अलग स्थान पर होता है इसका प्रभाव 

 

source

1) यदि सूर्य पर्वत पर ये त्रिशूल का निशान हो तो व्यक्ति विला-सिता का जीवन जीना पसंद करता है, ऐसे व्यक्ति की आय का स्रोत कभी बंद नहीं होता, ऐसे व्यक्ति को सदैव ही मान सम्मान मिलता है और धन का अभाव भी नहीं रहता।

 

source

2) अब देखना ये है कि त्रिशूल उल्टा है या सीधा यदि त्रिशूल का मुख उँगलियों की तरफ ऊपर की तरफ है तब ये सीधा है ऐसा व्यक्ति भाग्यशाली होता है वही अगर त्रिशूल का मुख नीचे हथेली की तरफ है तो ये कमजोर योग बनता है और सौभाग्य का पूर्ण लाभ प्राप्त नहीं होता।

source

3) त्रिशूल की साथ साथ ये भी ध्यान देना चाहिए कि इस स्थान पर बहुत अधिक कटी फटी रेखाएं नहीं हो, ऐसा है तो लाभ प्राप्त करने की लिए व्यक्ति को सूर्य के उपाय करने चाहिए।

 

 

4) यदि शनि पर्वत पर त्रिशूल बना हो तो व्यक्ति बड़ा व्यापारी या तकनीकी क्षेत्र में नाम कमाने वाला होता है, ऐसा व्यक्ति दयालू, धर्मात्मा व परोपकार करने वाला होता है।

source

5) यदि चंद्र पर्वत पर त्रिशूल बना हो तो व्यक्ति को विदेशों से लाभ प्राप्त होता है तथा ऐसा व्यक्ति अपने जन्म स्थान से दूर जाकर तरक्की प्राप्त करता है।

source

6) भाग्य-रेखा यदि त्रिशूल की आकृति बनाती है तथा तथा बृहस्पति पर्वत तक जाती है तो व्यक्ति को आध्यात्मिक,अध्यन और प्रशासनिक क्षेत्र में बहुत सफलता मिलती है।

7) यदि हृदय रेखा पर त्रिशूल बना हो तो व्यक्ति बहुत भावुक होता है, ऐसे व्यक्ति को किसी भी रिश्ते से कोई आशा नहीं रखनी चाहिए अन्यथा धोखा ही मिलता है ऐसे व्यक्ति को भी जन्म स्थान से दूर रह कर ही तरक्की मिलती है।