जीवन में सफल होने के लिए IGNORE करें यह पांच काम


जीवन में अक्सर हम ऐसे काम करते हैं जो हमें बिल्कुल नहीं करने चाहिए। ऐसे काम सिर्फ दूसरों को ही नहीं हमें भी कई बार नुकसान पहुंचा देते हैं। जब कुछ गलत हो जाता है तो हम अपने भाग्य को या फिर ईश्वर को कोसना शुरू कर देते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कामों के बारे में बताएंगे जो हमें नहीं करने चाहिए।

ऐसे 5 काम होते हैं जो हमें बिल्कुल नहीं करने चाहिए।

1) दूसरों की बुराई करना

इंसान की सबसे बूरी आदत होती है दूसरों की बुराई करना। जब भी हमें मौका मिलता है तो हम दूसरों की बुराई करना शुरू कर देते हैं। हम यह भूल जाते हैं कि जिस इंसान की बुराई हम किसी और से कर रहे हैं वह भी उसकी बुराई में बढ़-चढ़कर बातें कर रहा है। यह भी होता है वह व्यक्ति आगे चल कर आपकी भी किसी और से बुराई करता होगा। कभी भी किसी भी व्यक्ति केबारे में बुरा नहीं बोलना चाहिए चाहे वह व्यक्ति जैसा भी हो।

2) दूसरों से अपनी तुलना करना

अक्सर हम लोग अपनी या अपने बच्चों की तुलना दूसरों से करते रहते हैं। ये बहुत हीं गलत आदत है। याद रखिए ईश्वर ने सभी को अलग-अलग खुबियाँ प्रदान की है। ये जरूरी नही है कि हर किसी में एक जैसी खुबियाँ हों। इसलिए किसी का नकल करने की बजाए अपने अन्दर छुपी प्रतिभा को पहचानिए और उसको निखारने में ध्यान लगाइए।

3) दूसरों के भरोसे रहना

कई बार देखने में आता है कि कुछ लोगों को कहीं जाना होता है तो वो अकेले नही जाते हैं बल्कि इसके लिए अपने भाई या मित्र को भी साथ ले जाते हैं। ऐसा बिल्कुल नही है कि ये लोग भाईचारे की वजह से ऐसा करते हों बल्कि इन लोगों में आत्मविश्वास की कमी होती है और इन्हे लगता है कि ये कोई काम अकेले करेंगे तो वो गड़बड़ हो जाएगा। ऐसे लोगों से हम यही कहेंगे कि अपने अन्दर आत्मविश्वास पैदा करिए और अपने काम खुद से पूरा करने की कोशिश करिए।

4) बीती बातों पर अफसोस करना

हम सभी के साथ कभी न कभी कुछ बुरा होता है हममे से ज्यादातर लोग उन बातों को भूलकर आगे बढ जाते हैं जबकि कुछ लोग उन बीती बातों को अपने दिल में लिए घूमते हैं। ऐसे लोग हर वक्त उन बातों को सोचकर दुखी होते रहते हैं और अपने व्यवहार से दूसरों को भी दुखी करते हैं। याद रखिए जो बीत गया आप उसे बदल नही सकते, लेकिन आपका आज और आने वाला कल न बिगड़े इसके लिए आपको अच्छे काम करने होंगे।

5) अपने लक्ष्य से भटक जाना

हर इंसान का अपना एक लक्ष्य होता है कि उसे जीवन में ये करना है। कुछ लोग अपने लक्ष्य को पाने के लिए अडिग रहते हैं और दिन-रात मेहनत करते हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे हैं जो शुरूआत में मिली असफलता से घबराकर ये मान लेते हैं कि वो काम कठिन है और दूसरे लक्ष्य की तरफ मुड़ जाते हैं। लेकिन वहाँ भी उनके साथ कुछ बुरा होता है और वो उस काम को भी छोड़ देते हैं। कहने का मतलब है कि आप सिर्फ एक लक्ष्य निर्धारित करिए और उसे पाने के लिए मेहनत करिए और असफलताओं से मत घबराइए।