आइए जानें दुनिया के उन देशों के बारे में जो हैं सेक्स सैटिस्फैक्शन में सबसे आगे


इश्क, प्यार और मोहब्बत हमारी ज़िंदगी का एक ऐसा दस्तावेज है, जिसे कतई नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता। जिस तरह इंसान को जीवित रहने के लिए हवा, पानी और भोजन की ज़रूरत पड़ती है ठीक उसी तरह उसे ज़रूरत पड़ती है, प्यार-रोमांस और सेक्स की. लोग सेक्स के लिए भले ही अलग-अलग शब्दों का चयन करें मगर असल मायने में न सिर्फ़ शारीरिक बल्कि आत्मिक संतुष्टि का नाम भी सम्भोग, रति-क्रिया या सेक्स ही है।
पूरी दुनिया के अलग-अलग देशों में काम करने वाली संस्था Alternet ने व्यापक सर्वे के हवाले से जांचा और परखा है कि दुनिया के वे कौन से 12 प्रमुख और अव्वल देश हैं, जहां के लोग सेक्सुअली सैटिस्फाईड हैं। ख़ासकर के उस दौर में जब सेक्स के मुद्दे पर हम स्पेन और फ्रांस से आगे नहीं सोच पाते, ये रिपोर्ट और सर्वे हमारी नज़र को विस्तार देता है।

  •  स्विटजरलैंड

क्या ये स्विटजरलैंड के दिलकश नज़ारों का कमाल है? क्या ये सदाबहार रोमांटिक यशराज फ़िल्मों की वजह से है? या फ़िर यहां प्राथमिक शिक्षा के दौरान सेक्स एजूकेशन की क्लासेस इसका कारण हैं? शायद ये सारी चीज़ों का गठजोड़ है. यहां की सबसे अच्छी चीज़ यहां के टीन एज बर्थ रेट का दुनिया में सबसे कम होना है, बावजूद इसके कि यहां 32% लोगों ने खुले में सेक्स करना स्वीकार किया है।

  • स्पेन

स्पेनवासी सेक्सी होते हैं और सबसे अच्छी बात है कि वे इस बात को जानते हैं। न्यूड बीचेस, गे मैरेज को सामाजिक मान्यता, दुनिया के सबसे हैंडसम मर्द और ख़ूबसूरत लड़कियां क्या इसे सबसे आगे नहीं रखते। अभी हाल के ही एक सर्वे जिसमें पूरी दुनिया से 15,000 औरतों को शामिल किया गया था जिसमें से 80% ने स्पेन के मर्दों को अपनी पहली पसंद बताया है। स्पेन के 90% महिलाओं और पुरुषों ने ख़ुद के सेक्सुअली सैटिस्फाइड होने की बात स्वीकारी है। अब इसमें आगे कहने को क्या बचता है।

  • इटली

इटलीवासियों को क्यों दुनिया के सबसे जबरदस्त प्रेमियों में शुमार किया जाता है? क्या इसकी वजह वहां की शराब है? क्या इसकी वजह वहां का खान-पान है? क्या इसकी वजह उनके बोलने की शैली है? क्या इसकी वजह उनका सिडक्शन में मास्टरी है? वजह चाहे जो भी हो मगर इटैलियन्स को आप नज़र-अंदाज़ नहीं कर सकते.(मोनिका बेलुची) आपको याद हैं न! इटली के 64% लोग अपनी सेक्स लाइफ़ से संतुष्ट हैं, आखिर इटली ऐसे ही पूरी दुनिया को ख़ुद की ओर थोड़े न आकर्षित करता है।

  • ब्राजील

ब्राजीलवासी न सिर्फ़ फुटबॉल के मैदान में बल्कि बेड में भी चैपियन्स हैं. आश्चर्य नहीं है कि वे दुनिया के सारे देशों में सबसे कम उम्र में वर्जिनिटी लूज करने वाले देशों में अव्वल है। अलग-अलग रिपोर्टें बताती हैं कि ब्राजीलियन सप्ताह में एक से तीन बार सेक्स करते हैं। अब फ्रिक्वेंसी चाहे जो हो मगर ब्राजीलियन दुनिया के दूसरे सबसे बढ़िया प्रेमी तो माने ही जाते हैं।

  • ग्रीस

ग्रीसवासियों को पूरी दुनिया के सबसे ख़ुशनुमा लोगों में शुमार किया जाता है और इसकी एक बड़ी वजह है कि वे सेक्स पर खुले रूप से डिस्कस करते हैं. ऐसा भी नहीं है कि ग्रीसवासी ऐसा आज ही कर रहे हैं बल्कि वे ऐसा सदियों से करते आ रहे हैं। यहां के ख़ूबसूरत नज़ारे और फूड का कोई जोड़ नहीं है। यहां से आ रही रिपोर्टें बताती हैं कि ग्रीस के लोग साल में सबसे ज़्यादा बार सेक्स करते हैं।

  • नीदरलैंड

नीदरलैंड की सेक्स एजुकेशन पॉलिसी जहां बेहतरीन है वहीं यहां पर न्यूड बीचेस की बहुतायत है। अब इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि ऐम्सटरडम को यूरोप के सेक्स कैपिटल के तौर पर जाना जाता है और इस देश का टीन बर्थ रेट 5.3% प्रति 1000 है जो अमरीका के 39.1% प्रति 1000 से काफ़ी कम है।

  • मेक्सिको

यह देश सेक्स एजुकेशन पर विशेष ध्यान देता है जिसकी वजह से इसे दुनिया के दूसरे सबसे सेक्सुअली सेटिस्फाइड देश का दर्जा प्राप्त है। इसमें ख़ासी मदद इस वजह से हो जाती है कि इस देश के आधे से अधिक राज्यों में सेक्स वर्कर्स के काम को मान्यता प्राप्त है।

  • इंडिया

कामसूत्र की धरती के नाम से पूरी दुनिया मे प्रचलित ये देश 8वें नम्बर पर है. हालांकि पहली बार सेक्स करने के मामले में इंडियंस की औसत आयु 22 वर्ष है। मगर ये उम्र उनके उत्साह पर कभी भारी नहीं पड़ती। अब जब अधिकतर भारतीय नौजवान फोरप्ले और सिडक्शन पर विशेष ध्यान दे रहे हैं, लगभग 61% भारतीयों ने स्वीकारा है कि वे सेक्सुअली सेटिस्फाइड हैं।

  • ऑस्ट्रेलिया

75% ऑस्ट्रेलियाई इस बात को स्वीकार चुके हैं कि उन्होंने सड़कों पर सेक्स किया है, साथ ही ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले मर्दों की औसत तौर पर 25 पार्टनर्स रही हैं और वहीं 27% ऑस्ट्रलियाई महिलाओं ने कहा है कि वे अपनी सेक्सुअल लाइफ़ में कोई बदलाव नहीं चाहती। अब तो आप समझ ही गए होंगे कि हम क्या कहना चाह रहे हैं!

  •  नाइजीरिया

इस सर्वे में भले ही नाइजीरिया को पूरी दुनिया में 10वां स्थान दिया गया हो, मगर Durex नामक Condom निर्माण करने वाली कम्पनी ने इसे No.1 का दर्जा दिया है. और यहां की 67% जनता ने ऐसे ही थोड़े घोषित किया है कि वे सेक्सुअल निर्वाण की प्राप्ति कर चुके हैं।

  • जर्मनी

जर्मनवासियों को हालांकि पूरी दुनिया के सबसे खराब लवर्स का दर्जा प्राप्त है (जिसकी वजह शायद उनके शरीर से आने वाली गंध हो!) मगर फ़िर भी वे सेक्सुअली काफ़ी सैटिस्फाइड दिखते हैं. जहां 32% जर्मनवासियों ने इस बात को स्वीकार किया है कि उनके वन-नाइट स्टैंड रहे हैं, इसके बावजूद उनका एचआईवी दर अमरीका की तुलना में छठा भाग ही है. है न आश्चर्य!

  • चीन

आश्चर्य हो रहा है न! पहले-पहल हमें भी हुआ था। मगर जरा सोचिए कि आख़िर वो चीन ही तो है जो पूरी दुनिया में जनसंख्या के मामले में अव्वल है. साथ ही पूरी दुनिया में बनने वाले Sex Toys में से 70% चीन में ही बनाए जाते हैं. कुल मिला कर कहानी का जीस्त यह है कि, उन बंद दरवाजों के पीछे कुछ बेहद ही ज़हीन और संतुष्ट जोड़े रहते है।