अब वीकेंड मनाए 5000 रुपए में


भारत जहॉ देश विदेश से सैलानी अपनी छुट्टिया बिताने अपने अपने परिवार के साथ आते है | वैसे तो भारत में घूमने के लिए बहुत से राज्यों में कई ऐतिहासिक पर्टयक स्थान है | जहॉ घूमने की इच्छा हर किसी की होती है परन्तु वहाँ रहना खाना उतना ही महँगा पड़ता है | लकिन भारत में कुछ ऐसी भी जगह है जहॉ आना जाना रहना बेहद सस्ता है | जैसे ………

 

राजस्थान (माउंट आबू )

रेगिस्तान के लिए मशूहर  राजस्थान में माउंट आबू हि एक ऐसा हिल स्टैशन है जहॉ बड़े बड़े उच्चे उच्चे खूबसूरत पहाड़ है | राजस्थान के सिरोही जिले में स्थित अरावली की पहाड़ियों की सबसे ऊँची चोटी पर है |यह स्थान राज्य के अन्य हिस्सों की तरह गर्म नहीं रहता | माउंट आबू हिन्दू और जैन धर्म का प्रमुख तीर्थस्थल है। यहाँ का दिकवाड़ा मंदिर इलाके का सबसे प्रसद्धि मंदिर है | लोगो कहते है कि इस मंदिर म हर मनोकामना पूर्ण होती है | सैलानी यहाँ सिर्फ 5000 रूपये में अपनी 2 से 3 दिनों कि छुट्टिया गुजर सकते है |

 

हिमाचल प्रदेश ( डलहौजी )

हिमाचल प्रदेश में घूमने के लिहाज से सबसे सस्ती और सुन्दर हरयाली से आकर्षित सबसे अच्छी जगह है डलहौजी | अंग्रेजों ने 1854 में इसे बसाया और विकसित किया तथा तत्कालीन वायसराय लॉर्ड डलहौजी के नाम पर इस जगह का नाम डलहौजी रखा गया।यह भारत के फेवरट टूरिस्ट जगहों मै से एक है | यह एक चर्च भी है यह चर्च मुख्य बस स्टैंड से 2 किलोमीटर दूर डलहौजी कैंट की मिलिटरी हॉस्पिटल रोड पर है। सेंट पैट्रिक चर्च डलहौजी का सबसे बड़ा चर्च है। यहाँ भी सैलानियो को 2 से 3 दिनों का पैकेज 5000 रूपए मे मिल जाता है |

 

मध्य प्रदेश ( ओरछा )

मध्य प्रदेश का ओरछा जो कि चारो तरफ से घने पहाड़ो से घिरा हुआ इलाका है | यह स्थल झांई से १६ किलोमीटर दूर है माना जाता है कि सबसे पहले लोगों ने बुंदेलखंड में रहना शुरू किया था। यही वजह है कि इस इलाके के हर गांव और शहर के पास सुनाने को कई कहानियां हैं। बुंदेलखंड की दो खूबसूरत और दिलचस्प जगहें हैं ओरछा और कुंढार। भले ही दोनों जगहों में कुछ किलोमीटर का फासला हो, लेकिन इतिहास के धागों से ये दोनों जगहें बेहद मजबूती से जुड़ी हुई हैं। यहाँ का मौसम भी समय समय पर बदलता रहता है | यहाँ आने पर सैलानियो को जगह जगह प्रकृति कि सुंदरता दिखाई देती है जो कि काफी देखने लायक है | साथ यहाँ भी 2 से 3 दिनों के लिए 5000 रुपये खर्च करने पड़ेंगे |

 

उत्तराखंड ( वेली ऑफ़ फ्लावर )

उत्तराखंड का वल्ली ऑफ़ फ्लावर पर्यटकों के लिए बहुत अच्छी जगह है | फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान जिसे आम तौर पर सिर्फ फूलों की घाटी कहा जाता है, भारत का एक राष्ट्रीय उद्यान है जो उत्तराखण्ड के हिमालयी क्षेत्र में स्थित है। फूलों की घाटी को सन 1982 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। फूलों की घाटी तक पहुँचने के लिए चमोली जिले का अन्तिम बस अड्डा गोविन्दघाट 275 किमी दूर है। यहाँ आपको हर तरह के रंग बिरंगे फूल देखने को मिल जायेंगे |इस जगह रुकना तो और जगहो से भी काफी सस्ता है सैलानी यहाँ  3000 से 3500 रूपये खर्च कर 2 से 3 दिनों तक घूम सकते है |

मेघालय  ( शिलांग )

शिलांग भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य मेघालय की राजधानी है। भारत के पूर्वोत्तर में बसा शिलांग हमेशा से पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र रहा है। इसे भारत के पूरब का स्कॉटलैण्ड भी कहा जाता है। पहाड़ियों पर बसा छोटा और खूबसूरत शहर पहले असम की राजधानी था। लगभग 1695 मीटर की ऊंचाई पर बसे इस शहर में मौसम हमेशा सुहावना बना रहता है। मानसून के दौरान जब यहां बारिश होती है, तो पूरे शहर की खूबसूरती और निखर जाती है और शिलांग के चारों तरफ के झरने जीवंत हो उठते है। शिलांग एक छोटा-सा शहर है जिसे पैदल घूमकर देखा जा सकता है। अपनी सुविधा के अनुसार सिटी बस या दिनभर के लिए ऑटो या टैक्सी किराए पर लेकर भी घूमा जा सकता है। शिलांग और उसके आसपास अनेक दर्शनीय स्थल है जैसे -शिलांग पीक,लेडी हैदरी पार्क,कैलांग रॉक,वार्डस झील,मीठा झरना | हाथी झरना यह ऊपरी शिलांग में स्थित है, जहां वायुसेना का पूर्वी वायु कमान भी है। यहां कई छोटे- छोटे झरने एक साथ गिरते हैं। यहां एक छोटे से रास्ते के सहारे झरने के नीचे भी जाया जा सकता है, जहां एक छोटी झील बनी हुई है।