दुनिया के सबसे छोटे देश, जहां घूम सकते हैं आप मिनटों में


किसी भी देश को शक्तिशाली होने को लिए उसके पास जनसंख्या और अधिक क्षेत्रफल होना बहुत जरूरी है। आज के दौर में जो देश अंतरराष्ट्रीय मामलों और राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है, वे अधिक आबादी और क्षेत्रफल वाले देश है। लेकिन दुनिया में कुछ ऐसे देश भी है जो सबसे कम आबादी और बहुत घनी आबादी वाले देश है। और वहां के लोग काफी अच्छे से जीवन यापन कर रहे है। तो आइये दुनिया के  सबसे छोटे देशों के बारे में जानते है जो शांति बनाये रखे है।

वेटिकन सिटी

Source

वेटिकन सिटी दुनिया का सबसे छोटा देश है। इस देश को “The Holly See” के रूप में भी जाना जाता है। 0.44 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल वाले इस देश में 842 लोगों के करीब आबादी है। वेटिकन सिटी में दुनिया का सबसे बड़ा कैथोलिक चर्च सेंट पीटर बेसिलिका भी स्थित है। यह देश रोम, इटली से घिरा यूरोप में स्थित है। इस देश की अर्थव्यवस्था या मुख्य आय रोमन कैथोलिक चर्च के स्वैच्छिक योगदान के सदस्यों से आती है। अगर आप पैदल भी घूमें तो करीब 20 मिनट में पूरा देश घूम सकते हैं !

मोनाको

Source

पश्चिमी यूरोप में स्थित मोनाको दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश है। 2 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र वाले इस देश की आबादी 36950 है। यह दुनिया में सबसे घनी आबादी वाला देश है। इस देश में कई बुटीक,नाइटक्लब,लिक्सी होटल और कई रेस्तरां है। यह देश तीन तरफ फ्रांस से और एक तरफ भूमध्य सागर से घिरा है। मोनोको उच्च जीडीपी के साथ दुनिया के सबसे धनी देशों में से एक है। इस देश में केवल एक नगरपालिका है और यह एक स्वतंत्र राष्ट्र है।

नाउरू

Source

नाउरू ऑस्ट्रेलिया के उत्तर-पूर्व में माइक्रोनेशिया में स्थित सबसे छोटा द्वीप देश है। नाउरू दक्षिण प्रशांत का सबसे छोटा देश है जिसका क्षेत्रफल 21 वर्ग किलोमीटर है। इस देश की आबादी लगभग 10,320 है और यह विश्व का तीसरा सबसे छोटा देश है। यह देश फॉस्फेट खनन के लिए मुख्य रूप से जाना जाता था जो अब समाप्त हो रहे है। यह द्वीप कोरल रीफ्स से घिरा हुआ है और सफेद रेतीले तटों के लिए जाना जाता है। नाउरू में फॉस्फेट खनन, नारियल अत्पाद और बैंकिंग मुख्य उद्योग है।

तुवालु

Source

यह देश आस्ट्रेलिया के पूर्वोत्तर प्रशांत महासागर में स्थित एलिस द्वीप समूह के रूप में जाना जाता है। तुवालू एक ब्रिटिश क्षेत्र ता जो 1978 में स्वतंत्र हुआ था। इस देश में केवल एक हवाई अड्डा है जो फ़ुनाफुटि एटोल में स्थित है। तुवालू में संसदीय प्रणाली है। इस देश की आबादी 10,837 के करीब है। इसका क्षेत्रफल 26 वर्ग किलोमीटर है। इस देश के आय के प्रमुख साधन नाविक से प्रेषण और फॉस्फेट खनन है।

सैन मैरीनो

Source

सैन मैरीनो यूरोप में तीसरा सबसे छोटा देश है। 61 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र वाला यह देश पूरी तरह इटली से घिरा है। यह यूरोप में सबसे पुराना गणराज्य है। इस देश की जनसंख्या 30000 के करीब है। सैन मैरीनो जीडीपी के मुताबिक दुनिका सबसे अमीर देश है। इस देश की अर्थव्यवस्था को बनाये रखने में पर्यटन, वित्त, उद्योग और सेवा संसाधन प्रमुख है। इस देश की आधिकारिक भाषा इतालवी है।

लिचटेंस्टेंन

Source

160 वर्ग किमी छोटा है तो क्या हुआ पैसे के मामले में किसी से कम नहीं है प्रतिव्यक्ति जीडीपी के मामले में दुनिया में नंबर एक है।

माल्टा

Source

माल्टा भूमध्य सागर में स्थित एक दक्षिणी यूरोपीय देश है। यह लगभग 80 किलोमीटर दक्षिण में सिसिली के स्थित है, ट्यूनीशिया के पूर्व निहित है, और के बारे में 330 किमी उत्तर में लीबिया की। यह छोटी से छोटी लेकिन सबसे अधिक घनी आबादी वाले क्षेत्रों में से एक है। माल्टीज और अंग्रेजी बात की आधिकारिक भाषाएं हैं। माल्टा 1964 में ब्रिटेन से अपनी स्वतंत्रता प्राप्त की और सबसे गर्म, आरामदायक तापमान, और कई मनोरंजक स्थलों और ऐतिहासिक संरचनाओं के अपने पर्यटक जलवायु के लिए जाना जाता है 1974 माल्टा में एक गणतंत्र के रूप में जाना गया।

सैंट किट्स एंड नेविस

Source

सेंट किट्स और नेविस संघ वेस्ट इंडीज में लीवार्ड द्वीप पर स्थित एक द्वि द्वीपीय संघीय देश है। क्षेत्रफल और जनसंख्या के लिहाज से यह दक्षिण अमेरिका और उत्तरी अमेरिका का सबसे छोटा संप्रभु राष्ट्र है। देश की राजधानी और सरकार का मुख्यालय सबसे बड़े द्वीप सेट किट्स पर स्थित बेसेत्री है। छोटा राज्य नेविस दक्षिण-पूर्व में स्थित है। ऐतिहासिक तौर पर ब्रिटिश निर्भर क्षेत्र एन्गुएला भी कभी इस मंडल का हिस्सा हुआ करता था। सेंट किट्स और नेविस उन पहले कैरेबियाई द्वीपों में शामिल हैं, जहां यूरोपीय पहले पहल बसे थे। सेंट किट्स कैरेबियन में पहले ब्रिटिश और फ्रांसीसी कालोनी का गढ़ हुआ करता था। 261 वर्ग किमी यह अमेरिका महाद्वीप का सबसे छोटा देश है

मालदीव

Source

300 वर्गकिमी इसका नाम तो आपने सुना ही होगा यह एशिया का सबसे छोटा देश है जनसंख्या में भी यह एशिया का सबसे छोटा देश है। मालदीव के प्रवाल द्वीप लगभग 90,000 वर्ग किलोमीटर में फेला क्षेत्र सम्मिलित करते हैं, जो इसे दुनिया के सबसे पृथक देशों में से एक बनाता है। इसमें 1,192 टापू हैं, जिसमें से 200 पर बस्ती है। मालदीव गणराज्य की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है माले, जिसकी आबादी 103,693 (2006) है।