जानिए स्त्री के पांव के लक्षण क्या संकेत देते है


स्त्री के पांवों के लक्षण देखकर आप यह अनुमान लगा सकते हैं कि यह कितना शुभ होगा । विवाह से पहले सारे पक्ष कन्या के लक्षणों को देखते है कि वह शुभ है या नहीं उसके बाद परिवार आदि अन्य बातों पर ध्यान देते थे। परिवारिक जीवन में भी स्त्री के पांव को अधिक महत्व दिया जाता है। स्त्री पुरुष को जन्म देने के साथ ही धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति और सुखी जीवन की उपलब्धि में भी उसका बहुत योगदान होता है।

स्त्री के पांवों के शुभ लक्षणों वर्णन-

– तलुओं का रंग कमल के समान ललाई अथवा गुलाब की तरह गुलाबी हो तो स्त्री के सौभाग्य शालिनी होने के संकेत होते हैं।

– तलुओं में मत्स्य, गज, हंस, रथ, वेदी, पर्वत के चिन्ह शुभ एवं सौभाग्य सूचक होते हैं। ऐसी स्त्री को उच्च पदस्थ अधिकारी की पत्नी होने का सौभाग्य प्राप्त होता है। यदि तलवों में शंख, चक्र, ध्वज, चंवर, छत्र, स्वास्तिक आदि में से कोई चिन्ह हो, तो उस स्त्री का पति उच्च राजनेता होता है।

– तलवों में सूर्य, चंद्र, तोरण आदि के चिन्ह भी भाग्य की श्रेष्ठता प्रदर्शित करते हैं। ऐसी स्त्री जीवन को सुखी एवं घर को सम्पन्न बनाने में सहायक होती है।

– तलुवे में तलवार का चिन्ह होने पर वह किसी बड़े वीर साहसी सैनिक की पत्नी होने का सौभाग्य प्राप्त करती है।

– पैर का अंगूठा शरीर के अनुपात में न अधिक बड़ा व न अधिक छोटा हो, सुंदर, स्वच्छ, मासल, गोल, अंगूठा स्त्री का सौभाग्यवती होना प्रकट करता है।

– अंगूठे की बराबर वाली अंगुली पर कोई रेखा अचानक प्रकट हो जाए तो उस कन्या का विवाह शीघ्र होने के लक्षण हैं और पति प्रेम करने वाला मिलता है।

– पैर की अंगुलियां उतार-चढ़ाव के अनुसार पुष्ट-गोल, सुंदर होने पर स्त्री को पति का प्रेम मिलता है और जीवन सुखमय व्यतीत होता है।

– पांवों के टखने चिकने, गोल, भरे हुए, नसें न दिखाई दें, तो यह लक्षण शुभ माना गया है। ऐसी कन्या पिता और पति दोनों घरों को संपन्न बनाने वाली होती है। द्य