महिलाओं को नहीं करने चाहिये ये चार काम


1 . महिलाएं न रहें पराए घर में  – महिलाओं को किसी भी परिस्थिति में पराए घर में नहीं जाना और रुकना चाहिए। इस बात की अनदेखी करने पर भयंकर परेशानियों का सामना करना भी करना पड़ सकता है। पराए घर में रहने वाली महिला को घर-परिवार और समाज में भी गलत नजर से देखा जाता है। जिससे महिला की छवि पर बुरा असर होता है  , साथ ही पराए लोगों पर विश्वास करना महंगा पड़ सकता है और व्यक्तिगत हानि भी हो सकती है।

2 . बुरे चरित्र वाले लोगों से महिलाएं रहे दूर – महिलाओं को विशेष तौर ध्यान रखना चाहिए कि बुरे चरित्र वाले लोगों से दूर ही रहें साथ ही गलत आचरण के लोगों की संगत से दूर रहे । क्योकि यह आपको कभी भी मुसीबत में डाल सकते है । गलत आचरण के लोगों की सोच गलत होती है, वे दूसरों को नुकसान पहुंचाने में थोड़ा सा भी विचार नहीं करते हैं। अपने निजी स्वार्थ और इच्छाओं को पूरा करने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। अत: किसी भी परिस्थिति में ऐसे लोगों के साथ न रहे और ऐसे लोगों से सावधान रहे । अन्यथा असुरक्षा, अपयश और अपमान की स्थितियां निर्मित हो सकती हैं।

3 . अपनों को न करें नजरअंदाज – महिलाओं को इस बात भी ध्यान विशेष रूप से रखना चाहिए। घर-परिवार के लोगों की नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। किसी भी परिस्थिति में घर के लोगों का अपमान न करें। अन्यथा कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। और इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि शुभचिंतकों को नजरअंदाज करते हुए पराए लोगों के प्रति स्नेह प्रकट न करें। इस बात की वजह से बड़ी परेशानियां उत्पन्न हो सकती हैं।

4 .  वियोग से बचना चाहिए – शास्त्रों के अनुसार किसी महिलाओं को अपने पति से बहुत अधिक समय तक दूर नहीं रहना चाहिए। जीवन साथी से विरह स्त्री को मानसिक रूप से कमजोर कर सकता है। पति से दूर रहने वाली महिला को समाज में कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। घर-परिवार और समाज में उचित मान-सम्मान मिले इसके लिए स्त्री को जीवन साथी के साथ ही रहना चाहिए। पति के साथ स्त्री अधिक सशक्त और सुरक्षित रहती है।