मोजार्ट की जन्नत

0
51

ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना को अक्सर ‘संगीत का शहर’ कहा जाता है। विख्यात संगीतकार हेडेन, बीथेवन, शूबर्ट व स्ट्रॉस इस शहर में रहते थे, संगीत रचना करते और इसके लोगों को सुनाते लेकिन इस शहर पर वुल्फगैंग अमाडस मोजार्ट का प्रभाव हर जगह दिखाई देता है। शहर की अनेक साइटों का संबंध मोजार्ट से है, जो 1756 में पास के सेल्सबर्ग में पैदा हुए थे लेकिन अपनी छोटी व दिलचस्प घटनाओं से भरी जिंदगी उन्होंने वियना में गुजारी।
शॉनब्रन पैलेस
मोजार्ट ने 6 वर्ष की आयु में अपना पहला कंसर्ट महारानी मारिया थेरेसा के समक्ष हॉल ऑफ मिरर्स में प्रस्तुत किया था। अब यह राजमहल यूनेस्को की सांस्कृतिक हेरिटेज साइट है, जिसका निर्माण 1642 में हब्सबर्ग राजवंश के लिए गर्मियों की रिहाइशगाह के रूप में किया गया था। हॉल ऑफ मिरर्स सहित सभी कमरे रोकोको शैली में सजाए गए हैं, जिनकी दीवारें व छतें सोने की पत्तियों से मिश्रित सफेद पेंट से ढकी हैं। राजमहल में जो भारतीय व पारसी मिनीएचेर्स और अन्य वैभवशाली शानो-शौकत का परिचय दिया गया है, उससे मालूम होता है कि शासकों की कला व संस्कृति में गहरी दिलचस्पी थी।
हॉफबर्ग पैलेस
मोजार्ट ने 12 वर्ष की आयु में एक बार फिर महारानी मारिया के लिए शानदार हॉफबर्ग पैलेस में अपना कंसर्ट प्रस्तुत किया। यह राजमहल हब्सबर्ग वंशजों के लिए जाड़ों की रिहाइशगाह थी और यह शहर के बीचों बीच स्थित है। इस शाही महल में शानदार अपार्टमेंट, म्यूजियम, लायब्रेरी, घुड़सवारी स्कूल व गिरजाघर हैं। यह गोथिक युग से 19वीं शताब्दी के उत्तराद्र्ध शैली में बना हुआ है। कहा जाता है कि महाराज जोजफ-2 के दौर में जब मोजार्ट वियाना में ही रहने लगे तो वह नियमित इस महल में जाया करते थे।
स्टेपहेंसडोम
इसका सम्मान वियाना की आत्मा के रूप में किया जाता है। यह विशाल गिरजाघर गोथ शैली में बना हुआ है और अपने आकार व आसपास की सेटिंग के कारण लोगों को आकर्षित करता है। यह ऐतिहासिक साइट भी मोजार्ट के जीवन से जुड़ी हुई है। इसी गिरजाघर में उनका विवाह 1782 में हुआ था, उनके बच्चों को यहीं बप्तिसमा दिया गया और जब 1791 में उनकी असमय मृत्यु हुई तो इसी गिरजाघर में उनके पार्थिव शरीर को रखा गया था।
स्टेट ओपरा हाउस
बदकिस्मती से मोजार्ट ने यहां कभी कंसर्ट नहीं किया, क्योंकि यह 1869 में ही पूरा हो सका था लेकिन इस शानदार ऑडिटोरियम का उद्घाटन मोजार्ट के विख्यात ‘डॉन गियोवानी’ से हुआ था। यात्रियों को आकर्षित करने के लिए मोजार्ट की अनेक रचनाओं को यहां नियमित प्रस्तुत किया जाता है। पीरियड पोशाक पहने हुए लोग शहर भर में टिकट बेचते हैं। आप भले ही क्लासिकल संगीत के दीवाने न हो, लेकिन इस कंसर्ट हॉल में प्रवेश करना जीवन भर का अनुभव होता है।
मोजार्ट म्यूजियम
वियाना में मोजार्ट अनेक जगहों पर रहे लेकिन उनमें से कोई भी बिल्डिंग अब शेष नहीं है, सिवाए एक के जो डोमगासे-5 पर है, जहां वह पहले माले के अपार्टमेंट में 1784 व 1787 के बीच रहते थे। यहीं पर उन्होंने ‘द मेरिज ऑफ फिगारो’ की रचना की थी। इस बिल्डिंग के सभी फ्लोर को म्यूजियम मोजार्थस वियाना में बदल दिया गया है। यहां डॉक्यूमेंट्री, तस्वीरें व यादगारें मौजूद हैं, जिनसे मालूम होता है कि मोजार्ट पारिवारिक व्यक्ति थे।
कैफे फ्रॉनह्यूबर
म्यूजियम की अनेक चीजें हमें बताती हैं कि जब मोजार्ट वियाना में थे और कंसर्टों का आयोजन करते थे तो वह शहर के संभ्रांत व्यक्तियों को आमंत्रित किया करते थे। 1784 में उनका कंसर्ट पूरी तरह से बिक गया था लेकिन तीन वर्ष बाद सीटें खाली थीं। तब वह स्थानीय कैफों में परफॉर्म करने लगे। उनमें से एक कैफे फ्रॉनह्यूबर अब भी मौजूद है। आप यहां शानदार आलू-सलाद व परंपरागत वीनर शिंट जेल का आनंद लेते हुए मोजार्ट को याद करें।
रूहन स्टीनगस
यह वह जगह है जहां मोजार्ट ने अपने अंतिम वर्ष गुजारे। इसी घर में उन्होंने अपनी अधूरी ‘रीक्वीयम’ आरंभ की थी। अब इस जगह आधुनिक डिपार्टमेंट स्टोर बन गया है लेकिन इस साइट ने अपना महत्व नहीं खोया है। यहां बड़ी संख्या में लोग एकत्र होते हैं। खामोशी से खड़े होकर कल्पना करते हैं कि मोजार्ट वायलिन या प्याने बजा रहे हैं एक काल्पनिक इमारत में।
मोजार्ट की दुकानें
वियाना में जगह-जगह ऐसी दुकानें मिल जाएंगी जो मोजार्ट संबंधी चीजें बेचती हैं।

(फीचर डेस्क)

LEAVE A REPLY