लुधियाना-अमृतसर : शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी ने आज श्री अकाल तख्त साहिब के 6वे पातशाह श्री गुरू हरगोबिंद साहिब जी का गुरता- गददी दिवस बड़ी श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाया गया। इस संबंध में श्री अकाल तख्त साहिब पर श्री अखंड पाठ साहिब के भोग डाले गए और सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब, श्री अकाल तख्त साहिब और गुरूद्वारा बाबा अटल राय साहिब में सुंदर अलोकिक जलौ सजाए गए।

गुरू गददी दिवस के अवसर पर श्री अकाल तख्त साहिब पर करवाए गए समागम के वक्त भाई गुरकीरत सिंह के रोगी जत्थे ने गुरबाणी का मनोहर कीर्तन किया और गुरबाणी का पावन हुकमनामा मुख्य ग्रंथी मलकीत सिंह ने लिया। इस अवसर पर पर संगत को संबोधित करते हुए श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी गुरबचन सिंह ने कहा कि श्री हरगोबिंद साहिब जी ने सिख धर्म के विकास के लिए अहम योगदान डाला और सच्चे तख्त की स्थापना करके समय की हुकूमत को ललकारा। उन्होंने कहा कि गुरू साहिब ने समय की जरूरत मुताबिक संगत को शास्त्र के साथ-साथ शस्त्र में भी निपुण होने का आदेश किया और सिखों को सिख शस्त्रों की कला से जोड़ा।

सिंह साहिब ने संगत को गुरू उपदेश के मुताबिक जुल्म के खिलाफ डटकर प्रेरित किया और वाणी के साथ-साथ बाणे के धारणी बनने की अपील की। छठे पातशाह की गुरता गददी दिवस के अवसर पर सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब में सुंदर दीपमाला की गई और आज रहरासि साहिब जी के पाठ उपरांत आतिशबाजी भी चलाई जाएंगी।

– सुनीलराय कामरेड

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।