BREAKING NEWS

उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾RRB-NTPC Exam: परीक्षार्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने भर्ती परीक्षा पर लगाई रोक, जांच के लिए बनाई समिति◾विधानसभा चुनाव तक चलेगी हिंदू-मुसलमानको लेकर तीखी बयानबाजी: राकेश टिकैत◾World Corona: दुनियाभर में जारी है कोरोना का कोहराम, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 35.79 करोड़ के पार◾Corona Update: देश में तीसरी लहर का सितम जारी, संक्रमण के 2 लाख 85 हजार से अधिक नए केस, 665 लोगों की मौत ◾दिल्ली: गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 27,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात◾गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं◾PM मोदी असली नायकों का सम्मान करने के लिए प्रतिबद्ध : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पद्म पुरस्कार पर कहा ◾

हरीश रावत पर अमरिंदर सिंह का पलटवार - दुनिया ने मेरा अपमान देखा, कांग्रेस अब दयनीय स्थिति में है

पंजाब में सियासी हलचल जोरो पर है। सिद्धू के साथ साथ अमरिंदर सिंह पर निगाहें टिकी है कि उनका अगला कदम क्या होगा, लेकिन अमरिंदर सिंह का कांग्रेस पर हमला बोलना जारी है। 

सीएम पद छोड़ने के तीन हफ्ते पहले ही सोनिया से की थी पेशकश 

अमरिंदर सिंह ने कहा, "मुख्यमंत्री पद छोड़ने से तीन हफ्ते पहले, मैंने सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा देने की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने मुझे पद पर बने रहने के लिए कहा था। जिस अपमानजनक तरीके से उन्हें कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक से कुछ घंटे पहले इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया था, जो स्पष्ट रूप से उन्हें हटाने के लिए बुलाई गई थी, यह सार्वजनिक रिकॉर्ड का मामला था।" 

अमरिंदर बोले - हरीश रावत बोल रहे है झूठ , दुनिया ने देखा मेरा अपमान 

उन्होंने आगे कहा, "दुनिया ने मेरा अपमान देखा है, फिर भी हरीश रावत इसके विपरीत दावे कर रहे हैं।"पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री ने याद किया कि रावत ने खुद उनसे मिलने के बाद सार्वजनिक रूप से कहा था कि वह 2017 के चुनावी वादों पर अपनी सरकार के ट्रैक रिकॉर्ड से संतुष्ट हैं। उन्होंने बताया, "वास्तव में, रावत ने हाल ही में 1 सितंबर को कहा था कि 2022 का चुनाव उनके (अमरिंदर के) नेतृत्व में लड़ा जाएगा और आलाकमान का उन्हें बदलने का कोई इरादा नहीं था।"

मुझे अंधेरे में क्यों रखा - अमरिंदर

साथ ही उन्होंने पूछा, "तो अब वह कैसे दावा कर सकते हैं कि पार्टी नेतृत्व मुझसे असंतुष्ट था और अगर वे थे, तो उन्होंने जानबूझकर मुझे इस समय अंधेरे में क्यों रखा?"पूर्व सीएम ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से उन पर कांग्रेस के प्रति अपनी वफादारी का एकमात्र दबाव था, जिसके कारण उन्होंने अपमान को सहन करना जारी रखा। 

कैप्टन का सवाल - सिद्धू को क्यों दी गयी खुली छूट 

उन्होंने आगे पूछा, "अगर पार्टी का इरादा मुझे अपमानित करने का नहीं था, तो नवजोत सिंह सिद्धू को महीनों तक सोशल मीडिया और अन्य सार्वजनिक प्लेटफार्मों पर मेरी खुली आलोचना और हमला करने की अनुमति क्यों दी गई? पार्टी ने सिद्धू के नेतृत्व में विद्रोहियों को मेरे अधिकार को कम करने के लिए खुली छूट क्यों दी? साढ़े चार साल तक मैं पार्टी को सौंपे गए चुनावी जीत की अबाध लहर पर कोई संज्ञान क्यों नहीं दिया गया?"

मेरी ईमानदारी पर कोई शक नहीं कर सकता - अमरिंदर

अमरिंदर सिंह ने पूछा कि कांग्रेस अब भी सिद्धू को पार्टी को शर्तों पर हुक्म चलाने की अनुमति क्यों दे रही है। उन्होंने पूछा, "वह पार्टी नेतृत्व पर क्या दबाव डालते हैं कि वे उनके खिलाफ इतने रक्षाहीन हैं और पंजाब में कांग्रेस के भविष्य की कीमत पर भी उन्हें अपना रास्ता बनाने की अनुमति दे रहे हैं?"अपनी धर्मनिरपेक्ष साख के बारे में रावत की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनके सबसे बुरे आलोचक और दुश्मन भी इस संबंध में उनकी ईमानदारी पर संदेह नहीं कर सकते। 

उन्होंने कहा, "लेकिन मुझे अब आश्चर्य नहीं है कि रावत जैसे वरिष्ठ और अनुभवी कांग्रेस नेता मेरी धर्मनिरपेक्ष साख पर सवाल उठा रहे हैं। यह बिल्कुल स्पष्ट है कि पार्टी में अब मुझ पर भरोसा और सम्मान नहीं रहा है कि मैंने इतने वर्षों में निष्ठा से सेवा की है।"