BREAKING NEWS

भवानीपुर में दिलीप घोष से धक्का-मुक्की पर चुनाव आयोग सख्त, ममता सरकार से रिपोर्ट मांगी ◾भारत बंद के आह्वान को अभूतपूर्व और ऐतिहासिक प्रतिक्रिया मिली : संयुक्त किसान मोर्चा ◾गरीबों को किराया देने की घोषणा पर केजरीवाल सरकार का यू-टर्न, HC में कहा - वादा नहीं किया था ◾खत्म हुआ किसानों का भारत बंद, 10 घंटे बाद खुले दिल्ली-एनसीआर के सभी बॉर्डर ◾महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : 7 दिन की सीबीआई रिमांड में भेजे गए आनंद गिरी व दो अन्य ◾महिलाओं के बाद अब पुरुषों के लिए तालिबान का फरमान- दाढ़ी बनाना और ट्रिम करना गुनाह, लगाई रोक ◾नए संसद भवन का दौरा करने पर कांग्रेस ने मोदी को घेरा, कहा- काश! PM कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी अस्पताल जाते ◾भवानीपुर उपचुनाव प्रचार के आखिरी दिन लहराईं बंदूकें, BJP का आरोप- TMC ने दिलीप घोष पर किया हमला ◾किसानों के 'भारत बंद' को लेकर देश में दिखी मिलीजुली प्रतिक्रिया, जानिए किन हिस्सों में जनजीवन हुआ बाधित ◾CM बिप्लब देब का विवादित बयान, बोले- अदालत की अवमानना से न डरें अधिकारी, पुलिस मेरे नियंत्रण में है◾पाकिस्तान: ग्वादर में जिन्ना की प्रतिमा को बम से उड़ाया, बलोच ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾भारत बंद के दौरान सिंघू बॉर्डर पर किसान की हुई मौत, पुलिस ने हार्ट अटैक को बताई वजह ◾टिकैत ने सरकार पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप, कहा- किसानों की बात सुनने के लिए मजबूर करेगा भारत बंद◾PM मोदी ने की आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन की शुरुआत, कहा- गरीबों की दिक्कतें होंगी दूर◾नरेंद्र गिरि मौत केस को लेकर एक्शन में CBI, बाघंबरी मठ में सुसाइड सीन को किया रिक्रिएट◾भारत बंद के बीच मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने की केंद्र से मांग- कृषि कानून करें निरस्त ◾ममता ने BJP को बताया नाचने वाले ड्रैगन की जुमला पार्टी, शुभेंदु अधिकारी ने किया तीखा पलटवार ◾भारत बंद : दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लगा भारी ट्रैफिक जाम, गाड़ियों की लंबी कतारों से DND का भी बुरा हाल◾'भारत बंद' को मिला विपक्ष का समर्थन, कहा- काले कानून वापस लें केंद्र, किसानों का अहिंसक सत्याग्रह है अखंड ◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 26 हजार से अधिक मामले आये सामने ◾

कृषि कानूनों पर पंजाब इकाई से केंद्र को मिली गलत जानकारी, कारण बताओ नोटिस मिलने पर बोले पूर्व मंत्री

केंद्र के कृषि कानूनों पर काफी बवाल हुआ और अभी भी इस पर हंगामा जारी है। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और पंजाब के पूर्व मंत्री अनिल जोशी ने एक बड़ा बयान दिया है। जोशी ने बुधवार को पार्टी की राज्य इकाई की आलोचना की और कहा कि उसने कृषि कानूनों पर केन्द्र को सही फीडबैक नहीं दिया।

बता दें कि पंजाब इकाई ने एक दिन पहले ही पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के चलते उन्हें कारण बताओं नोटिस जारी किया गया था। जोशी ने दावा किया कि आरंभ में कृषि कानून का विरोध कर रहे किसानों की कुछ ही मांगे थीं और अगर भाजपा की पंजाब इकाई ने ऐसा नहीं दिखाया होता कि राज्य में सब ठीक है, तो उन्हें संभाला जा सकता था।
उन्होंने कहा कि भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा को अपनी नाकामी स्वीकार करनी चाहिए और उन्हें नोटिस जारी करने के बजाए खुद इस्तीफा देना चाहिए। जोशी ने अमृतसर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा,‘‘ राज्य इकाई (भाजपा की) ऐसा फीडबैक दे रही थी(केन्द्र को) कि किसान प्रसन्न हैं और केवल कुछ लोग हैं जो असंतुष्ट हैं। जब केन्द्रीय मंत्रियों ने ऑनलाइन बैठक की तो उन्होंने बैठकों में फर्जी किसान पेश किए और दावा किया कि वे कानूनों से प्रसन्न हैं।’’
पूर्व मंत्री ने कहा,‘‘ अश्विनी शर्मा की अगुवाई वाली इकाई ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से यह झूठ बोला कि उन्होंने कार्यक्रम आयोजित करके गांवों में किसानों को कृषि कानूनों के फायदों के बारे में समझा दिया है,जबकि सच्चाई यह है कि इन कानूनों के खिलाफ किसान टोल अवरोधकों और रेल पटरियों पर बैठे थे।’’

उन्होंने कहा कि आरंभ में प्रदर्शन कर रहे किसानों की केवल कुछ ही मांगे थीं और ‘‘ये मांगे इतनी बड़ी नहीं थीं,जिनसे तालमेल नहीं बैठाया जा सके। पंजाब में पहले ही गेहूं और धान की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर होती है, वहीं विवाद के मामले में उच्च अदालतों में जाने के प्रावधानों पर भी सहमति बन सकती थी।’’ जोशी ने कहा कि मुद्दे को पंजाब भर ही में सीमित रख कर राज्य में ही इसे हल किया जा सकता था। इसे दिल्ली की सीमाओं पर, देश के अन्य हिस्सों तक पहुंचने से रोका जा सकता था।
उन्होंने कहा कि शर्मा को ‘‘अपनी नाकामी स्वीकार करके मुझे नोटिस जारी करने के बजाए इस्तीफा दे देना चाहिए।’’उन्होंने कहा,‘‘ प्रदर्शनों में 500 से अधिक किसानों की जाने गईं लेकिन उन्होंने (भाजपा की राज्य इकाई) कभी कुछ नहीं कहा। कांग्रेस,शिरोमणि अकाली दल, आम आदमी पार्टी ने किसानों को अपना समर्थन दिया। भाजपा की पंजाब इकाई किसानों के समर्थन में क्यों नहीं खड़ी हुई? हम कह सकते थे कि केन्द्र कोई भी निर्णय ले, हम किसानों के साथ है।’’