BREAKING NEWS

कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आम आदमी नहीं बल्कि बेईमान आदमी हैं : केजरीवाल◾बदली राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ◾पंजाब : सीएम चन्नी ने BJP और केंद्र सरकार पर लगाया आरोप, कहा-ईडी की छापेमारी मुझे फंसाने का एक षड्यंत्र ◾प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾राहुल गांधी ने साधा PM पर निशाना, बोले- LAC पर चीन द्वारा निर्मित पुल का उद्घाटन कहीं मोदी न कर दें ◾बाटला हाउस में मरे लोग आतंकी नहीं, तौकीर रजा ने किया कांग्रेस का समर्थन, राहुल-प्रियंका को बताया सेक्युलर ◾दिल्ली : त्रिलोकपुरी में संदिग्ध बैग से मिला लैपटॉप और चार्जर, कुछ देर के लिए मची अफरातफरी◾अखिलेश ने अपर्णा को BJP में शामिल होने पर दी बधाई, बोले- नेता जी ने की रोकने की बहुत कोशिश, लेकिन... ◾दिल्ली: संक्रमण दर में आई कमी, जैन बोले- पाबंदियां कम करने से पहले होगा कोरोना की स्थिति का आकलन ◾भारत में यूएई जैसे हमले की योजना बना रहा ISI, चीन से ड्रोन खरीद रहा पाकिस्तान◾

जत्थेदार इकबाल सिंह के खिलाफ श्री अकाल साहिब पर पहुंची शिकायत

लुधियाना- अमृतसर : तख्त श्री पटना साहिब के जत्थेदार ज्ञानी इकबाल सिंह के लिए मुश्किले दिन प्रतिनिधि बढती जा रही है। ज्ञानी इकबाल सिंह के खिलाफ तख्त साहिब के ही एक सदस्य कमिक्कर सिंह मुकंदपुर ने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह को एक शिकायत सौंपी है। मांग की है कि ज्ञानी इकबाल सिंह को तख्त पटना साहिब के जत्थेदार के पद से हटाया जाए।

शिकायतों के आधार के आधार पर ज्ञानी इकबाल सिंह के खिलाफ जो भी धर्मिक सजा बनती है उसे वह सजा लगाई जाए। साथ ही कहा कि अगर ज्ञानी इकबाल सिंह पांच सिंह साहिबान की बैठक में हिस्सा लेते है तो वह इस का विरोध करेंगे। क्योंकि ज्ञानी इकबाल सिंह जिन गतिविधियों को अजाम दे रहे है उस के अनुसार वह पांच सिंह साहिबान की बैठकों में भी बैठक कर किसी तरह के धार्मिक फैसले लेने के अब अधिकारी नहीं रह जाते है।

ज्ञानी इंकबाल सिंह सोमवार को पांच सिंह साहिबान की बैठक में हिस्सा लेने के लिए परंतु वह श्री हरिमंदिर साहिब व श्री अकाल तख्त साहिब पर ही माथा टेक कर चले गए और सिंह साहिबान की सोमवार को हुई बैठक में उनकी ओर से हिस्सा नहीं लिया गया। इस दौरान ज्ञानी इकबाल सिंह ने किसी मीडिया कर्मी के साथ भी कोई बात नहीं की। पटना साहिब बोर्ड के सदस्य कमिक्कर ने अपनी शिकायत व आरोपों के संबंध में ज्ञानी इकबाल सिंह की कुछ तस्वीरें और वीडियों भी सूबत के तौर पर श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को सौंपी। शिकायत सौंपने के बाद कमिक्कर ने बताया कि पिछले काफी समय से ज्ञानी इकबाल सिंह तख्त साहिब पर अपनी मनमर्जी कर रहे है। वह हर काम गुरु मर्यादा के खिलाफ कर रहे है। यहां तक कि वह बिहार सरकार के एजेंट के रूप में काम कर रहे है ना कि तख्त साहिब के सिख कौम के जत्थेदार के रूप में काम कर रहे है।

पंजाब सरहद से करोड़ों की हेरोइन बरामद, खदेड़ा गया पाक तस्कर, हथियार भी बरामद

ज्ञानी इकबाल सिंह प्रबंधकीय बोर्ड के आदेशों को भी नहीं मान रहे वहीं संगत के पैसे का उपयोग भी गलत ढंग से और मनमर्जी से कर रहे है। कमिक्कर सिंह आरोप लगाए कि ज्ञानी इकबाल सिंह ने अपने कार्यकाल के दौरा राजनेताओं की हजूरी करके तख्त की मर्यादा को तार तार किया है। 13 जनवरी2019 को जब गुरु गोबिंद सिंह जी का प्रकाश पर्व मनाया जा रहा था तो उस वक्त कार्यक्रम में जत्थेदार ने मुख्यमंत्री नीतिश कुमार की तुलना महाराजा रंजीत सिंह के साथ की थी। गुरु ग्रंथ साहिब और दशम ग्रंथ के मामले को लेकर पंथक मर्यादा के खिलाफ ज्ञानी इकबाल सिंह संगत में विवाद को गहरा कर रहे है।

संगत को एक दूसरे का विरोधी बना रहे है। किसी वक्त भी ज्ञानी इकबाल सिंह के भाषणों से दशम ग्रंथ के मुद्दे को लेकर संगत में झगडा हो सकता है।ज्ञानी इकबाल सिंह कई तरह के फौजदारी मामलों में उलझे हुए है। इस लिए वह तख्त साहिब की सेवा नही निभा सकते। उन्होंने दो पत्नियां गैर कानूनी ढंग से रखी हुई है। एक की मारपीट भी गुरु हुकमों के खिलाफ करते है। उनकी एक पत्नी ने उनके खिलाफ पटना के थाना में भी उनकी एक पत्नी ने एफआईआर 18 जून 2014 को दर्ज करवाई थी।

जत्थेदार के उपर एक लडक़े ने भी 5 जुलाई 1993 में उसके साथ कथित दुष्कर्म करने का लिखित आरोप तत्कालीन अध्यक्ष के पास लगाया था। जत्थेदार तख्त साहिब पर हाई नगर सेवा का उपयोग अपने लिए कर रहे है। यहां तक कि बडी राशि को अपने निजी अकाउंट में जमा करवा रहे है। इकबाल सिंह आम संगत के साथ भी एक जत्थेदार के रूप में पेश नहीं आते बल्कि एक अधिकारी के तरह व्यवहार करते है। कमिक्कर सिंह ने कहाकि उसे आशा है कि श्री अकाल तख्त साहिब से ज्ञानी इकबाल सिंह के खिलाफ कार्रवाई अवश्य होगी।

- सुनीलराय कामरेड