BREAKING NEWS

पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार, अब तक 4167 लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾PNB धोखाधड़ी मामला: इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस फिर से किया सार्वजनिक ◾कोरोना संकट के बीच, देश में दो महीने बाद फिर से शुरू हुई घरेलू उड़ानें, पहले ही दिन 630 उड़ानें कैंसिल◾देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज ◾उत्तर भारत के कई हिस्सों में 28 मई के बाद लू से मिल सकती है राहत, 29-30 मई को आंधी-बारिश की संभावना ◾महाराष्ट्र पुलिस पर वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 18 की मौत, संक्रमितों की संख्या 1800 के पार ◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर किया गया सील, सिर्फ पास वालों को ही मिलेगी प्रवेश की अनुमति◾दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 276 लोगों की मौत, संक्रमित मामले 14 हजार के पार◾3000 की बजाए 15000 एग्जाम सेंटर में एग्जाम देंगे 10वीं और 12वीं के छात्र : रमेश पोखरियाल ◾राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश◾राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने हॉकी लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾CM केजरीवाल बोले- दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं ◾अखबार के पहले पन्ने पर छापे गए 1,000 कोरोना मृतकों के नाम, खबर वायरल होते ही मचा हड़कंप ◾महाराष्ट्र : ठाकरे सरकार के एक और वरिष्ठ मंत्री का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव◾10 दिनों बाद एयर इंडिया की फ्लाइट में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग : सुप्रीम कोर्ट◾2 महीने बाद देश में दोबारा शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कई फ्लाइट कैंसल होने से परेशान हुए यात्री◾हॉकी लीजेंड और पद्मश्री से सम्मानित बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

2 मासूम बच्चों की हुई मौत, मां-बाप समेत 4 की हालत गंभीर

लुधियाना : लुधियाना के सुभाष नगर स्थित बस्ती जोधेवाल के एक घर में मिलने आए रिश्तेदारों से अगली सुबह घूमने का वायदा करके मां-बाप संग सोने वाले मासूम बच्चों को क्या मालूम था कि सोमवार की ठिठुरती ठंड भरी रात उनकी जिंदगी की आखिरी रात साबित होंगी। 

घर के कमरे में कंपकंपाती ठंड से बचने के लिए जलाई कोयले की अंगीठी मासूम बच्चों की मौत का काल बनी। खबर है लुधियाना के टिब्बा पुलिस स्टेशन इलाके की, जहां सर्दी से बचने के दौरान 2 बच्चों की मौत हुई है जबकि कमरे में उनके साथ सो रहे मां-बाप समेत 2 अन्य रिश्तेदारों को गंभीर हालत में पड़ोसियों ने पुलिस की सहायता से उठाकर सिविल अस्पताल पहुंचाया, जहां जिंदगी और मौत से वे जंग लड़ रहे है। थाना टिब्बा पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुटी हुई है। 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक मामले की जांच कर रहे एएसआइ जसपाल सिंह ने बताया कि मृतक बच्चों की पहचान बस्ती जोधेवाल की इंद्रलोक कॉलोनी की गली नंबर 10 निवासी सौरव (10) तथा गौरव (12) के रूप में हुई है। हादसे में दोनों बच्चों के पिता प्रमोद कुमार (40), मां निशा, बुआ सुनीता रानी तथा फूफा सुशील कुमार बेहोश हो गए। उनका इलाज चल रहा है। पुरुषोतम प्रिंटिंग प्रेस में लेबर जॉब का काम करने वाला प्रमोद कुमार यहां पिछले पांच महीने से परिवार समेत तरसेम लाल के घर में किराए पर रहता था। 

पुलिस को दिए बयान में तरसेम लाल की पत्नी रेखा ने बताया कि हर रोज यह परिवार सात बजे उठ जाता था। मगर मंगलवार सुबह नौ बजे तक जब कोई नहीं जगा तो उसके पति ने दरवाजा खटखटाया। काफी देर दरवाजा खटखटाने के बाद किसी तरह से उठकर आए प्रमोद ने दरवाजा खोला। अंदर दोनों बच्चों समेत पांच लोग बेसुध पड़े थे। फौरन पुलिस को मामले की सूचना दी गई। 108 एबुलेंस की मदद से सभी को सिविल अस्पताल ले जाया गया। जहां डाक्टरों ने सौरव व गौरव को देखते ही मृतक करार दे दिया। जबकि अन्य चारों का उपचार शुरू कर दिया। 

यह भी पता चला है कि प्रमोद की बहन सुनीता व बहनोई सुशील कुमार चंद्रलोक कॉलोनी की गली नंबर 8 में किराए पर रहते हैं। तरसेम लाल के अनुसार सोमवार रात निशा की सेहत ठीक नहीं थी। जिसके चलते प्रमोद ने फोन करके अपनी बहन व जीजा को अपने पास बुला लिया। सर्दी से बचने के लिए लोहे के तसले में कोयले की आग जला ली। 

प्रमोद ने मकान मालिक को बताया कि तडक़े तीन बजे प्यास लगने पर सौरव व गौरव ने उसे जगा दिया। उसने उठ कर दोनों को पानी पिलाकर सुला दिया और खुद भी सो गया। इसके बाद कैसे क्या हुआ, उसे पता हीं नहीं चला। सुबह गेट खटखटाने की आवाज सुनकर उसने उठने की कोशिश की, मगर सफल रहीं हो सका। अंत में किसी तरह उसने उठकर दरवाजा खोला। बता दें कि सौरव व गौरव इलाके के सरकारी स्कूल में पढ़ते थे।

- सुनीलराय कामरेड