BREAKING NEWS

दवाओं की कोई कमी नहीं, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं : सत्यपाल मलिक◾निगमबोध घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अरुण जेटली का अंतिम संस्कार किया गया◾मन की बात: PM मोदी ने दो अक्टूबर से प्लास्टिक कचरे के खिलाफ जन आंदोलन का किया आह्वान ◾लोकतांत्रिक अधिकारों को समाप्त करने से अधिक राजनीतिक और राष्ट्र-विरोधी कुछ नहीं : प्रियंका गांधी◾जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए PM मोदी फ्रांस रवाना◾सोनिया गांधी ने कहा- सीट बंटवारे को जल्द अंतिम रूप दें महाराष्ट्र के नेता◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾

पंजाब

‘मर्दाना- कमजोरी’ के चलते युवक ने की अपने परिवार की हत्या, फिर की खुदकुशी

पंजाब के जिला मोगा स्थित कस्बा बाघापुराना के गांव नथुवाला-गर्बी में बीती रात एक 22 वर्षीय युवक ने संदिगध अवस्था में अपने ही परिवार के 6 लोगों को गोली मारकर हत्या कर दिया और इस हत्या के बाद उसने उसने खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। इसी दौरान युवक ने अपने दादा को भी मारने के इरादे से गोलियां मारी, लेकिन वह सौभाग्य से बच गये जिससे गंभीर हालत में उनको फरीदकोट स्थित गुरू गोबिंद सिंह मेडिकल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती  करवाया गया है, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। फिलहाल पुलिस मामले की तफतीश में जुटी है। 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक पूरे परिवार को खत्म करके आत्महत्या करने वाले मृतक युवक का नाम संदीप सिंह उर्फ सन्नी बताया जा रहा है, जोकि परिवार का इकलौता बेटा था। मृतकों में सन्नी के माता-पिता-बहन-भांजी समेत दादी शामिल है। जबकि उसके दादा फरीदकोट स्थित मेडिकल अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे है। यह घटना रात 12 और 1 बजे के बीच की है। 

मृतकों में 80 वर्षीय दादी गुरदीप कौर, 60 वर्षीय पिता मनदीप सिंह और 58 वर्षीय माता बिंदर कौर समेत 30 वर्षीय बहन अमनजोत कौर शामिल है। जबकि 4 वर्षीय मासूम भांजी भी इस वारदात में मारी गई। इनके अलावा 81 वर्षीय बुजुर्ग गुरचरण सिंह गंभीर घायल है।  बताया जा रहा है कि मृतक युवक की कुछ दिनों पहले शादी के लिए मंगनी हुई थी, लेकिन युवक विवाह के लिए तैयार नहीं था। जबकि परिवारिक सदस्य उस पर शादी के लिए दबाव बना रहे थे। यह भी पता चला है कि सन्नी एक दिन पहले ही अपनी बहन और भांजी को उसके ससुराल स्थित गांव से घर लेकर आया था। 

दोषी युवक ने परिवार के साथ बैठकर रात को ही खुशनुमा माहौल में डिनर किया था, उस वक्त किसी को भी कोई शक ना हुआ कि यह उनकी आपसी आखिरी मुलाकात है और इस घटना को अंजाम देते समय दोषी ने अपने ही ब्याह के लिए तैयार कपड़े भी पहने थे। इस घटना को लेकर पूरे इलाके में शोक विहुल माहौल के कारण सन्नाटा छाया हुआ है। जिस घर में यह घटना घटित हुई, वहां आलीशां कोठी बनी हुई है और जगह-जगह पर खून के धब्बे बिखरे हुए है, फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है। मोके पर एच.पी.एस परमार, एसएसपी मोगा ओर स. जसपाल सिंह, डीएसपी वाघा पुराना अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ घटना का जायजा लेते दिखे। वह परिवार का इकलौता बेटा था। उसकी एक बहन की शादी फिरोजपुर के गांव शहजादी में हुई थी और एक अभी विदेश में रह रही है।

 सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि मृतक युवक संदीप सिंह शुक्रवार को ही अपनी बहन और भांजी को ससुराल से लेकर आया था। घटना का मुख्य कारण यह बताया गया है कि युवक शादी के लिए राजी नहीं था, लेकिन परिवार वाले उस पर दबाव बना रहे थे। यह  भी पता चला है कि पूरे परिवार की आर्थिक और सामाजिक दशा उच्च श्रेणी की थी और समस्त कुनबे का रूतबा प्रतिष्ठित लोगों में शामिल था। 

परिवार के पास 22 किले के करीब जमीन बताई जा रही है। हालांकि कत्ल और आत्महत्या के उपयोग में आने वाला रिवाल्वर किसी अन्य रिश्तेदार का बताया जा रहा है, जो मृतक ने कुछ दिन पहले चोरी करके हासिल किया था। इस बात का पूरा ब्यौरा मृतक ने वारदात को अंजाम देने से पहले डायरी के 19 पन्नों पर उकेरा है। फिलहाल पुलिस राइटिंग एक्सपर्ट की सहायता से इस जांच में भी जुटी है कि मृतक ने मरने से पहले समस्त इकरार नामे की लिखावट उसकी है या नहीं। गांववालों में संदिगध अवस्था के दौरान हुए इन कत्लों के कारण पूरी चर्चा है। किंतु स्पष्ट रूप से दबदबा होने के कारण खुलकर बोलने में लोग गुरेज कर रहे है। घटना का पता चलते ही पुलिस के उच्च अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। शवों को पोस्टमार्टम के लिए मोगा के सिविल अस्पताल ले जाए जा रहे हैं। घटना को लेकर पूरे गांव में शोक की लहर है।